काँग्रेस ने पार्टी के 10 लोगों को अनुशासन हीनता के आरोप में प्राथमिक सदस्यता से 6 वर्षों के लिए तत्काल प्रभाव से निष्कासित दिखाया बाहर का रास्ता

 काँग्रेस ने पार्टी के 10 लोगों को अनुशासन हीनता के आरोप में  प्राथमिक सदस्यता से 6 वर्षों के लिए तत्काल प्रभाव से निष्कासित दिखाया बाहर का रास्ता

लख़नऊ

रिपोर्टर-गौरव बाजपेयी

लखनऊ 24 नवम्बर  

 

आज उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी की अनुशासन समिति ने पार्टी के 10 लोगों को अनुशासन हीनता के आरोप में पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से 6 वर्षों के लिए तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया है।

समाचार-पत्रों के माध्यम से उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी की अनुशासन समिति के संज्ञान में आया था कि उक्त नेतागण कुछ समय से उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी से सम्बन्धित अखिल भारतीय काँग्रेस कमेटी के निर्णयों पर अनवरत अनावश्यक रूप से सार्वजनिक तौर पर बैठक करके विरोध कर रहे थे। उनका यह आचरण पार्टी की नीतियों और आदर्शों के विपरीत है जो अनुशासन हीनता की परिधि में आता है। 

उनके अनुशासन हीनता के कारण अनुशासन समिति ने उन्हें 6 वर्ष के लिए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया है। इनमें  संतोष सिंह-पूर्व सांसद, सदस्य-अ0भा0 काँग्रेस कमेटी,  सिराज मेंहदी-पूर्व एम0एल0सी0, सदस्य-अ0भा0 काँग्रेस कमेटी,  रामकृष्ण द्विवेदी-पूर्व गृह मंत्री-उ0प्र0 शासन-सदस्य-अ0भा0 काँग्रेस कमेटी,

सत्यदेव त्रिपाठी, पूर्व मंत्री-उ0प्र0, सदस्य-अ0भा0 काँग्रेस कमेटी,  राजेन्द्र सिंह सोलंकी-सदस्य-अ0भा0 काँग्रेस कमेटी, भूधर नारायण मिश्रा-पूर्व विधायक, सदस्य अ0भा0 काँग्रेस कमेटी,  विनोद चैधरी-पूर्व विधायक,  नेक चन्द्र पाण्डेय-पूर्व विधायक,  स्वयं प्रकाश गोस्वामी- पूर्व अध्यक्ष-उ0प्र0 युवा काग्रेस, श्री संजीव सिंह-पूर्व जिलाध्यक्ष गोरखपुर के नाम शामिल हैं। 

 

 

 

Comments