भाई पर जानलेवा हमला करने वाला पूर्व सपा जिलाध्यक्ष गिरफ्तार

भाई पर जानलेवा हमला करने वाला पूर्व सपा जिलाध्यक्ष गिरफ्तार

भाई पर जानलेवा हमला करने वाला पूर्व सपा जिलाध्यक्ष गिरफ्तार

आरोपी की गिरफ्तारी के लिए हुआ था 15 हजार रूपये का पुरस्कार घोषित

जमीनी विवाद को लेकर भाई पर लाइसेंसी बंदूक से झौंका था फायर

स्वॉट टीम व कोतवाली पुलिस को मिली सफलता

ललितपुर। विकाश त्रिपाठी/ आरिफ खान 

नगर में स्थित मवेशीबाजार में छह फरवरी को जमीनी विवाद के चलते सौतेले भाई पर लाइसेंसी बंदूक से जानलेवा हमला करने वाले इनाम घोषित आरोपी पूर्व सपा जिलाध्यक्ष आला प्रसाद निरंजन को पुलिस अधीक्षक कैप्टन एम एम बेग के निर्देशन में व अपर पुलिस अधीक्षक अवधेश कुमार विजेता एवं सदर क्षेत्राधिकारी राजा सिंह के निकट पर्यवेक्षण में अपराधियों की धरपकड़ के लिए चलाये जा रहे

अभियान के दौरान कोतवाली पुलिस व स्वॉट टीम को सफलता हाथ लगी, पुलिस ने फरार चर रहे आरोपी को घटना में प्रयुक्त लाइसेंसी बंदूक सहित शनिवार को नेशनल हाईवे मसौरा के पास से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस अधीक्षक ने पुलिस लाइन सभागार में प्रेस वार्ता के दौरान जानकारी दी। चूँकि अपराधी पर 15 हजार का ईनाम घोषित था, उसको पकडऩे वाली टीम को देने का निर्णय लिया गया। 

गौरतलब है कि मुहल्ला रावतयाना के पटेल मार्केट निवासी भाजपा नेता कैलाश निरंजन पुत्र भैयालाल छह फरवरी की दोपहर जब वह मवेशी वाजार में स्थित न्यू हरिओम ट्रैक्टर ऐंजेसी पर बैठे हुए थे, तभी शोरूम के पीछे स्थित खाली पड़ी जमीन पर सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष आल्हाप्रसाद निरंजन द्वारा अवैध निर्माण कार्य करने की जानकारी होते ही, उसका छोटा पुत्र विवेक पहुंच गया और कार्य करने से मना करने लगा,

लेकिन पूर्व सपा जिलाध्यक्ष व उनके साथी नही माने, बुधवार सुबह निर्माण कार्य होते देख जब उसने पुन: विरोध किया तो आरोपी आक्रोशित होकर गाली गलौज कर जान से मारने की धमकी देकर घर में गए और अपनी लाइसेंसी बंदूक लेकर आ गए पुत्र के कहने पर कैलाश अपने परिवार के साथ बाहर आ गए

यह देख सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष ने जान से मारने की नियत से लाइसेंसी बंदूक से तावड़तोड फायर झौंक दिया यह देख पीडित अपने पुत्र के साथ पास में रखे गुम्मे के पीछे छिपकर अपनी जान बचाकर गुम्मा फेंक कर अपनी जान बचाई।

पुलिस ने मौका मुआयाना करने के बाद सपा के पूर्व  जिलाध्यक्ष सहित अन्य आरोपियों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी के लिए जनपद व गैर जनपदों में पुलिस टीम ने प्रयास शुरू कर दिए थे।

आरोपी के गिरफ्त में न आते देख पुलिस अधीक्षक ने आरोपी के खिलाफ 15 हजार रूपये का पुरस्कार घोषित कर दिया था। पुलिस टीम ने शनिवार को नेशनल हाईवे ग्राम मसौरा के पास पुल के  नीचे से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के पास से पुलिस ने घटना में प्रयुक्त रायफल सेमी व दस जिंदा कारतूस बरामद कर उसे जेल भेज दिया है।

 इस टीम को मिला पुरस्कार

इनाम घोषित आरोपी को गिरफ्तार करने वाली टीम में शहर कोतवाल मनोज कुमार वर्मा, उपनिरीक्षक अरविन्द कुमार, सिपाही राकेश कुमार, प्रशांत व स्वॉट टीम प्रभारी अनवर अहमद, हेडक़ास्टिेविल चन्द्रशेखर, पर्वत सिंह, सिपाही अजमत उल्ला, अवधेश यादव, राघेन्द्र एवं सर्विलांस टीम के संजय राजावत, रजनीश चौहान, रविन्द्र प्रताप सिंह शामिल रहे। पुलिस अधीक्षक ने 15 हजार रूपये के पुरस्कार घोषित आरोपी को गिरफ्तार करने वाली टीम को यह पुरस्कार देने की घोषणा की है। 

 पूर्व में भी हो चुकी है मारपीट

पूर्व सपा जिलाध्यक्ष व उनके सौतेले भाई के बीच संपत्ति को लेकर यह विवाद काफी समय से चलता आ रहा है, पूर्व संपत्ति को लेकर करीव 9 बार मारपीट की बारदतें हो चुकी है, पर पूर्व में राजनीतिक संरक्षण की बजय से कोई कड़ी कार्यवाही न होने के चलते यह विवाद गहराता रहा।

पुलिस के अपराध रजिस्टर में गुंडा एक्ट सहित करीव दस मुकदमें दर्ज होने के बाद भी पूर्व सपा जिलाध्यक्ष का बंदूक के लाईसेंस की निरस्तीकरण की कार्यवाही नही की गई थी।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments