सच्चाई आने लगी सामने तो घबराया ड्रग पुलिस माफिया गठजोड़

सच्चाई  आने लगी सामने तो घबराया ड्रग पुलिस माफिया गठजोड़

स्वतंत्र प्रभात मीडिया की खबरों  से, गुनाहों का सौदागर तिलमिला उठा

लखनऊ /अपराधिक इतिहास वाले राजधानी लखनऊ का अमित त्रिवेदी उर्फ विष्णु दत्त स्वतंत्र प्रभात की खबर चलने के बाद से ही तिलमिला उठा.

इसके बाद फिर वही पुराना खेल अलग-अलग थानों में अपने गैंग के कुछ साथियों के साथ जाकर स्वतंत्र प्रभात मीडिया के संपादक और पत्रकार के खिलाफ तहरीर देना शुरू कर दिया और थाने से ही अपने अपराधी किस्म के दोस्तों से फोन करवा कर, डराना धमकाना भी शुरू करवा दिया कि तुम खबर ना चलाओ नहीं तो संगीन धाराओं में मुकदमा लिखवा रहा हूं.

रात के 2:00 बजे तक यही खेल चलता रहा. सूत्रों ने बताया कि जब बात नहीं बनी तो सोशल मीडिया के माध्यम से संपादक और पत्रकार को चोर और वसूली करने वाला फोटो लगाकर बताने लगा. सुबह उठने के साथ हर हथकंडा अपनाने और पत्रकार को जान से मार देने का षड्यंत्र रच डाला. इस बात की सुगबुगाहट जब लोगों को मालूम चली तो लोगों ने उसे समझाने की कोशिश की और कहा कि सुलह समझौता से बात बन जाएगी.

फिर अलग अलग माध्यमों से खबर को रुकवाने की कोशिश पूरजोर करता रहा वहीं कई माध्यमों से सुलह समझौता के लिए भी अपने करिंदों को कभी फोन तो कभी मिलने का प्रयास कर बातों को अपने पक्ष में करने के लिए पूरे दिन लगा रहा. लेकिन स्वतंत्र प्रभात मीडिया के डायरेक्टर राजीव शुक्ला ने कोई मौका नहीं दिया तो अराजक तत्वों ने खुद फोन कर मिलने की बात करने पर आ गए. जिस पर राजीव शुक्ला ने कहा कि आप अपनी बातों को लिखित में ईमेल कर दें आपकी बात भी संस्था खबर के माध्यम से प्रकाशित करेगी.

संस्था के डायरेक्टर ने कहा कि जो भी खबर चली है यदि गलत है तो उसके खिलाफ आप सबूत दें ताकि खबर का खंडन चल सके और आपकी मदद भी हम पूर्ण रूप से कर सकें. खबर लिखे जाने तक किसी तरह का सबूत साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया जा सका. अब देखना यह होगा कि राजधानी पुलिस खबर की गंभीरता को कितने हद तक लेकर अपराधिक इतिहास वाले अमित त्रिवेदी के खिलाफ कार्रवाई करती है या यूं ही खुलेआम राजधानी पुलिस के नाक के नीचे अपनी मनमानी और दबंगई दिखाता रहेगा.

लखनऊ ट्रांस गोमती क्षेत्र के थानों पर अपराधिक छवि वाले दबंगों का बोलबाला

 

लखनऊ में गुनाहों का सौदागर, कब बन बैठा अमित त्रिवेदी उर्फ विष्णु दत्त

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments