परमानेंट के लिए मांग कर रहे दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों पर हुआ लाठीचार्ज 

परमानेंट के लिए मांग कर रहे दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों पर हुआ लाठीचार्ज 

नरेश गुप्ता

परमानेंट के लिए मांग कर रहे दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों पर हुआ लाठीचार्ज 

           (स्वतंत्र प्रभात विशेष)


 दिल्ली यूनिवर्सिटी टीचर्स एसोसिएशन के नेतृत्व में पिछले 7 दिनों से चल रहे आंदोलन में तदर्थ अध्यापक लगातार नियमित होने की मांग कर रहे हैं |  दिल्ली विश्वविद्यालय में  वे शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर  रहे थे | जिसमें सभी कॉलेज के शिक्षकों ने सहभागिता निभाई |  शांतिपूर्ण चल रहे प्रदर्शन  पर सरकार के इशारों पर पुलिस प्रशासन ने आंदोलन को दबाने के लिए  दमन पूर्वक लाठीचार्ज करवा  दिया जिससे  कई शिक्षक घायल हो गए |  शिक्षकों पर हुई लाठीचार्ज पर कई अध्यापक संगठनों ने निंदा की है  कहां है राष्ट्र निर्माण करने वाले  अध्यापकों पर लाठीचार्ज करवा कर भारत कभी भी विश्व गुरु का दर्जा हासिल नहीं कर पाएगा ? लगातार चल रहे इस आंदोलन में शिक्षक एवं छात्रों का समर्थन बढ़ता जा रहा है | दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक डॉ अनिल मीणा ने बताया कि तदर्थ अध्यापकों की यह मांग न्यायोचित है |  उन्होंने देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों का हवाला देते हुए बताया कि राजस्थान के मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय, जोधपुर विश्वविद्यालय एवं  राजस्थान विश्वविद्यालय में हजारों अस्थाई शिक्षकों को नियमित करने का काम कांग्रेस पार्टी ने किया है | मध्यप्रदेश में सैकड़ों अस्थाई शिक्षकों को कांग्रेस ने नियमित करने का कार्य किया है |  इसके अतिरिक्त  उत्तर प्रदेश में सरकार ने अनेकों अस्थाई शिक्षकों को नियमित करने का ऐतिहासिक कदम समय-समय पर उठाया  हैं | डॉ अनिल मीणा ने आगे बताया शिक्षकों के समायोजन की समस्या राष्ट्रीय स्तर पर सरकार की शिक्षा के प्रति उदासीनता लापरवाही अदूरदर्शिता के कारण उत्पन्न हुई है | AAD   के चेयरमैन प्रोफेसर आदित्य नारायण मिश्रा ने जताया कि शिक्षकों के प्रति सरकार की बढ़ती हुई उदासीनता, लापरवाही  युवा वर्ग  को  शिक्षक पैसे के प्रति उदासीन बनायेगा | जिसका आगे चलकर सामाजिक दुष्परिणाम उत्पन्न होगा |  सरकार शिक्षा को उद्योग के रूप में स्थापित करना चाहती है जो भारतीय परंपरा और आदर्शों की विपरीत है | शिक्षक आदर्श समाज  के निर्माण में इसके लिए अपनी रचनात्मक भूमिका अदा करें, इसके लिए  शिक्षक के रोजगार में स्थायित्व देना बहुत जरूरी है |

Comments