गर्मी ने दी दस्तक, सुरु हो गयी पानी की किल्लत

गर्मी ने दी दस्तक, सुरु हो गयी पानी की किल्लत
  • गर्मी ने दी दस्तक, सुरु हो गयी पानी की किल्लत
  • शिकायत के बाद भी नही हो रही कोई सुनवाई

असोथर/फतेहपुर

गर्मी ने इस बार समय से पहले दस्तक दे दी थी। जून आते-आते गर्मी चरम पहुंच गई। जिस कारण भूगर्भ का जलस्तर नीचे की ओर खिसकने लगा। नतीजा यह हुआ कि असोथर कस्बे के प्रताप नगर झाल में गाजीपुर व विजयीपुर असोथर मार्ग के बीच मे लगा है जहाँ रोजाना सैकड़ो लोगो का आवागमन होता है

जबकि  हैंडपम्प एक महीने से भस्ट पड़ा हुआ है जिससे  पेयजल संकट उत्पन्न हो गया है। वही राहगीरों को पानी पीने के लिए काफी संकट का सामना करना पड़ता है। जिसने वह अपनी प्यास बुझाने के लिए महंगी महंगी पानी के बोतल व पाउच खरीद कर अपनी प्यास बुझाते है।

हम बात करते है असोथर कस्बे के प्रतापनगर झाल तिराहे की जहा से रोजाना सैकड़ो लोगो का आवागमन होता है जिससे राहगीरों को पानी पीने के लिए काफी दिक्कत का सामना उठाना पड़ता है जब वही मोहल्ले वासियो से बात चीत की गयी तो उनका कहना है कि यह इंडियामार्क का जो हैंडपम्प लगा हुआ है

वो 1 महीने पहले से खराब है जिसके चलते ब्लॉक आये लोग व अस्पताल जाने वाले लोग व बाजार जाने वाले लोग यही से होकर गुजरते है इस भीषण गर्मी में लोग अपनी प्यार पानी के पाउच व बोतल ख़रीद कर अपनी प्यास बुझाते है। जबकि मोहल्ले वालों ने बताया कि 1 महीने पहले खराब हुवे हैंडपम्प के लिए लिखित शिकायत ग्राम प्रधानपति को दी थी लेकिन उन्होंने इस भीषण समस्या को नही समझा जिसमें गर्मी के सुरुवती दौर से ही यह हैंडपम्प जवाब दे चुका था जिससे मुहल्ले वासियो में पानी के लिए हाये तौबा मच गया है।

वही मुहल्ले वासियो ने जिला प्रशासन से इस बार हैंडपम्प को तत्काल दुरूस्त कराने की मांग की थी। इस भीषण गर्मी में पानी के लिए भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है पानी के लिए लोग 300 मीटर दूर जाना पड़ता है।गर्मियों की दस्तक के साथ ही लोग बाल्टी-बाल्टी पानी को मोहताज होने लगते हैं।

यूं तो गर्मी के मौसम में पानी की दिक्कत बनी रहती है, मगर इस बार स्थित ज्यादा चिंताजनक है। लगातार भीषण गर्मी के बीच लेट होते मानसून के कारण पानी की समस्या अगले कुछ दिनों तक कायम रहेगी।पानी की कमी को पेयजल आपूर्ति की राह में बाधक बनते देख कर जलकल विभाग ने लोगों को सलाह दी है कि आपूर्ति के समय वे आवश्यकतानुसार पानी जमा कर लें।

जिससे आपूर्ति न होने या कम होने की दशा में उत्पन्न होने वाली परेशानी से बचा जा सके। इस समय जल की आपूर्ति सुबह-शाम की जा रही है। अब तो सहेजने का लीजिए संकल्प जल संकट के बीच पेयजल आपूर्ति को लेकर शिकायतें भी लगातार बढ़ती जा रही है। कम पानी मिलने के साथ कई जगह पाइपलाइन क्षतिग्रस्त होने की बात सामने आ रही है। जर्जर पाइपलाइन से पेयजल में सीवर का पानी मिल जा रहा है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments