गाय, गंगा, गीता व गायत्री हमारी संस्कृति के आधारभूत स्तम्भ हैं : दयाशंकर तिवाडी

महेन्द्रगढ़ (विनीत पंसारी)

स्थानीय श्री गौशाला धोलपोश आश्रम के प्रांगण में दीपोत्सव के पंच पर्व पर गौशाला के संरक्षक एवं हरियाणा गौसेवा आयोग के सदस्य दयाशंकर तिवाड़ी ने गौशाला की ओर से गौपालकों को कपड़े व मिठाई  बांटी ।

इसी प्रांगण में पंकज तायल, पं. मुसद्दीलाल लाल जाटवास तथा सत्यनारायण शर्मा ने अपनी पत्नी कान्तादेवी के साथ अलग-अलग अपने संकल्प के अनुरूप सवामणी लगाकर गायों को चाट खिलाई ।


   श्री तिवाड़ी ने सवामणी आयोजकों का आभार जताया । उन्होंने कहा कि गाय, गंगा, गीता व गायत्री हमारी संस्कृति के आधारभूत स्तम्भ हैं। गाय की सेवा गोपाल की सेवा है । भगवान श्रीकृष्ण भी गौसेवा करने के कारण गोपाल नाम से पूजे जाते हैं । सबको गौसेवा व गौरक्षा करनी चाहिए ।


    इस अवसर पर कैलाश शर्मा, हरिन्द्र शर्मा, धर्मेन्द्र, सुशीला, सुनीता, हृदया, सज्जन भारद्वाज, पंकज, शिवराज, अस्मित, मेघा, कान्ता, अनिता, नेहा, गौशाला के प्रधान रिसालसिंह यादव, रामावतार शास्त्री, रविन्द्र तिवाड़ी, सूरजभान बोहरा, अनूप जांगिड़, मा. महावीर सहित गौशाला स्टाफ उपस्थित था ।

Loading...
Loading...

Comments