घरेलू नुस्खे से करें डायरिया पर वार 

घरेलू नुस्खे से करें डायरिया पर वार 

घरेलू नुस्खे से करें डायरिया पर वार 

 

कलेक्ट्रेट सभागार में दस्त नियंत्रण पखवाड़ा की कार्यशाला

 

जनपद के एसीएमओ, एमओआईसी और स्वास्थ्य कर्मी मौजूद रहे 

 

हमीरपुर।  

 

कलेक्ट्रेट सभागार में सोमवार को कल 28 मई से शुरू होने वाले सघन दस्त नियंत्रण पखवाड़ा के अंतर्गत जनपद स्तरीय संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में मुख्य विकास अधिकारी आरके सिंह ने डायरिया जैसी बीमारी पर घरेलू नुस्खों से वार करने का आह्वान किया।

कहा कि डायरिया में लापरवाही जानलेवा साबित हो सकती है। इसलिए जरा भी उल्टी-दस्त की शिकायत होने पर डॉक्टर से परामर्श लें, तब तक घरेलू नुस्खों को अपना सकते है, वो भी कारगर साबित होते है। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. संतराज की अध्यक्षता में हुई कार्यशाला में जनपद भर के एमओआईसी और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौजूद रहे।

कार्यशाला में मुख्य विकास अधिकारी सिंह ने डायरिया को लेकर व्यवहार में परिवर्तन की वकालत की। उन्होंने कहा कि डायरिया से घरेलू नुस्खों का प्रयोग करके भी काबू पाया जा सकता है। लेकिन ज्यादा गंभीर स्थिति न उत्पन्न हो, इसलिए मरीज को तत्काल निकटवर्ती अस्पताल के डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। उन्होंने कहा कि बेल का शर्बत, शिंकजी और दही जैसे पदार्थ भी डायरिया पर काबू पाने में सक्षम होते है। डायरिया में लापरवाही कई बार जानलेवा भी साबित हो सकती है।

उन्होंने मौजूदा समय में सरकारी अस्पतालों में उल्टी-दस्त के पीड़ित मरीज आ रहे है। उन्हें सही उपचार दें और ऐसी स्थिति से निपटने को लेकर जागरूक भी करें। सीडीओ ने कहा कि बारिश का मौसम आ रहा है। इस मौसम में भी डायरिया का प्रकोप ज्यादा बढ़ जाता है।

इसलिए कई विभागों की भी जिम्मेदारी बन जाती है कि वो बारिश से पूर्व ग्रामीण इलाकों की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। हैण्डपंपों की स्थिति को भी देख लें। दलदली या जलभराव वाले स्थानों पर लगे हैण्डपंपों का पानी अक्सर खराब होने की शिकायतें होती है। उन्हें ठीक करना चाहिए वरना ऐसे पानी से भी डायरिया फैल सकता है। 

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. संतराज ने कहा कि गर्मी के मौसम में खानपान में लापरवाही से डायरिया फैलता है। जनपद के सभी सीएचसी, पीएचसी और सब सेंटरों में पर्याप्त मात्रा में ओआरएस पाउडर का घोल उपलब्ध है।

कार्यशाला में सीएमएस डॉ. आरके शर्मा, एसीएमओ डॉ. पीके सिंह, डॉ. पीएन गोयल, एनएचएम के डीपीएम सुरेंद्र साहू, डीसीपीएम मंजरी गुप्ता, एमओआईसी मौदहा डॉ. एके सचान, डॉ. आरके वर्मा आदि मौजूद रहे।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments