मतगणना केंद्र पर मोबाइल व ज्वलनशील पदार्थ लेे जाने पर रहेगा कड़ा प्रतिबंध, त्रिस्तरीय चेकिंग के बाद ही मिलेगी एन्ट्री

मतगणना केंद्र पर मोबाइल व ज्वलनशील पदार्थ लेे जाने पर रहेगा कड़ा प्रतिबंध, त्रिस्तरीय चेकिंग के बाद ही मिलेगी एन्ट्री

    संवाददाता - अतीक राईन

गोण्डा -

 जिला निर्वाचन अधिकारी ने स्पष्ट किया है कि मतगणना के दौरा निर्वाचन आयोग के निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन कराया जाएगा। जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा मतगणना एजेन्टों को फोटोयुक्त पास जारी किया जा रहा है।

उन्होने स्पष्ट कर दिया है कि मतगणना परिसर में प्रत्याशी, चुनाव एजेंट और गणना एजेंट को किसी भी तरह के ऐसे उपकरण मोबाइल, लैपटाप, अन्य कोई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण आदि को मतगणना केंद्र पर ले जाने की अनुमति नहीं होगी जिससे कोई ऑडियो या वीडियो की रिकार्डिंग की जा सकती हो। इसके अलावा मतगणना केन्द्र पर सिगरेट, बीड़ी, माचिस, लाइटर आदि लेकर जाना सख्त मना होगा। मण्डी गेट से लेकर मतगणना स्थल तक सुरक्षा कर्मियों द्वारा तीन जगहों पर चेकिंग की जाएगी और चेकिंग की पूरी वीडियोग्राफी भी होगी। इसके अलावा पूरे मतगणना कार्य का सर्विलान्स सीसीटीवी कैमरों के जरिए किया जाएगा।

14 - 14 टेबलों पर होगी हर विधानसभा क्षेत्र की मतगणना

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मुख्य गणना के लिए हर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में 14 गणना टेबल, तथा पोस्टल बैलेट्स की गणना अतिरिक्त टेबल्स पर होगी। इस तरह 15 टेबलों पर मतगणना कराई जाएगी।सभी 15 टेबलों पर प्रत्याशियों के एक-एक एजेंट उपस्थित रहेगेे। किसी भी गणना एजेंट को आवंटित टेबल के अलावा दूसरी टेबल व विधानसभा में जाने की इजाजत नहीं होगी और यदि कोई भी एजेन्ट इसका उल्लंघन करेगा तो उसे मतगणना कक्ष से बाहर कर दिया जाएगा।

विधानसभावार निर्वाचन क्षेत्र में चक्रवार गणना अलग-अलग होगी। इसके लिए किस टेबल पर कौन से मतदेय स्थल की गणना की जाएगी, इसका विवरण तैयार कराया जा रहा है। मीडियाकर्मियों को अपडेट देने के लिए मीडिया सेन्टर बनाया जाएगा जहां सेे उन्हें मतगणना के रूझान प्राप्त हो सकेगा।वहीं मतगणना के दौरान किसी भी प्रकार की फोटोग्राफी या वीडियोग्राफी भी नहीं होगी। प्रेस प्रतिनिधियों को ताजा अपडेट मीडिया सेन्टर में दी जाएगी।

यह नहीं बन सकेंगे मतगणना एजेंट

जिला निर्वाचन अधिकरी ने स्पष्ट किया है केंद्र व राज्य सरकार से सुरक्षा प्राप्त कोई भी व्यक्ति मतगणना एजेंट नियुक्त नहीं हो सकेगा। जिसमें केंद्र और राज्य सरकार का कोई मंत्री, संसद सदस्य, विधानसभा, विधान परिषद के सदस्य, शहरी स्थानीय निकायों के प्रमुख, अध्यक्ष, निगम के महापौर, नगर पालिका, नगर पंचायत के अध्यक्ष शामिल हैं। इसी तरह से जिला स्तरीय जिला परिषद, ब्लाक स्तर पंचायत समिति के अध्यक्ष, राष्ट्रीय, राज्य, जिला सहकारी संस्थाओं के निर्वाचित अध्यक्ष, राजनैतिक पदाधिकारियों को केंद्रीय व राज्य सार्वजनिक उपक्रमों के अध्यक्षों, सरकारी निकायों के अध्यक्ष, सरकारी अधिकारी, अतिरिक्त सरकार के रूप में नियुक्त किए जाने वाला व्यक्ति, सरकारी कर्मचारी भी एजेंट नहीं बनेंगे।

हर विधानसभा की पाँच - पाँच वीवीपैट मशीनों की पर्चियों का होगा मिलान

 निर्वाचन की सुचिता व पारदर्शिता के दृष्टिगत भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश हर विधानसभा की पांच-पांच वीवीपैट मशीनों की पर्चियों का मिलान ईवीएम में पड़े वोटों से किया जाएगा। वीवीपैट मशीनों का चयन लाटरी या रैण्डम बेसिस पर होगा। उन्होने बताया के वीवीपैट मशीनों का मिलान मतगणना कार्य के बाद होगा।

मण्डी गेट से सौ मीटर पहले रहेगी पार्किंग

 मतगणना के दौरान यातायात व्यवस्था भी चुस्त दुरूस्त रखी जाएगी। प्रभारी अधिकारी यातायात नगर मजिस्ट्रेट राकेश सिंह ने बताया कि मतगणना स्थल गल्ला मण्डी में किसी भी प्रत्याशी या एजेन्ट व मतगणना कर्मी के वाहन कतई प्रवेश नहीं करेगें। मण्डी गेट से दोनों तरफ सौ मीटर पहले वाहनों की पार्किंग कराई जाएगी। लोगों को वहीं पर वाहन खड़े करके मतगणना स्थल तक पैदल जाना होगा।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments