यहां तो सुरक्षाकर्मी ही करते है एटीएम से छेड़छाड़

यहां तो सुरक्षाकर्मी ही करते है एटीएम से छेड़छाड़

               रिपोर्टर - अमित पाण्डेय

तरबगंज,गोण्डा -

जहां बैंक पिछले तीन दिनों से बन्द हैं और लोगों में त्यौहार के चलते पैसों की सख्त आवश्यक्ता है । उपभोगता इस उम्मीद से पैसे के लिए एटीएम के चक्कर लगा रहें हैं कि अगर एटीएम से कुछ पैसे निकल जाएं तो वे त्यौहार के लिए कुछ खरीदारी कर सकें । कहने को तो तरबगंज कस्बे में चार प्रमुख बैंक हैं । 

किन्तु किसी भी बैंक का एटीएम या तो खुला नहीं और अगर खुला भी है तो चल नहीं चल रहा है।

बतातें चलें कि इलाहाबाद बैंक तरबगंज का एटीएम बैंक के बाहर लगा हुआ है और बैंक ने उसकी रखवाली के लिए तीन सुरक्षा कर्मी रख रखा है । तीनो सुरक्षा कर्मी समय से अपनी ड्यूटी पर तो उपस्थित रहते है । किन्तु एटीएम में कभी भी पैसा नहीं रहता है ।

 सुरक्षाकर्मी महज खाली एटीएम की निगरानी करते है । इलाहाबाद बैंक एटीएम जब बैंक खुला रहता है तो कभी कभी चलता भी है ।  किन्तु बैंक बन्द होने के कुछ समय बाद ही एटीएम ऑफ लाइन हो जाता है। यह एटीएम सुरक्षा कर्मियों की मेहरबानी पर चलता है वे जब वे जब चाहते है तो सही चलता है और सुरक्षा कर्मियों का मूड खराब होते ही एटीएम भी खराब हो जाता है । यही हाल इलाहाबाद बैंक के एटीएम का हमेशा रहता है । इन त्यौहारों के समय बैंक कर्मचारियों ने बैंक बन्द होते समय एटीएम में कैश भर कर एटीएम को चालू हालत में छोड़ा था लेकिन अगले दिन ही एटीएम अपनें आप ही ऑफ़ लाइन हो गया । जिससे उपभोगताओं में काफी रोष व्याप्त है । सुरक्षा में तैनात सुरक्षा कर्मी में जब एटीएम से पैसे न निकलने का कारण पूंछा गया तो उसने बताया कि जब नाईट वाले सुरक्षाकर्मी आएंगे हैं तभी एटीएम चलेगा । पैसे निकलने है तो रात में आओ ।

चूंकि अन्य सभी बैंकों के एटीएम बैंक के अन्दर लगे होने की वजह से बैंक बन्द होते ही एटीएम भी बन्द हो जाते है । इलाहाबाद बैंक का एटीएम चालू होते हुए भी सुरक्षाकर्मियों की छेड़छाड़ और दुर्व्यवस्था का शिकार हो जाता है। ऐसी स्थिति में उपभोगताओं के पास एटीएम से पैसा निकालने के लिए एक ही विकल्प शेष रहता है । कि वे 30 किलोमीटर दूर गोण्डा जाकर एटीएम से पैसा निकालें।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments