न्याय की गुहार : शीशम के पेड़ों का सघन वृक्षारोपण कराया था गाटा 323 एवं 292 में लगभग दस बर्ष पूर्व

 न्याय की गुहार : शीशम के पेड़ों का सघन वृक्षारोपण कराया था गाटा  323 एवं 292  में लगभग दस बर्ष पूर्व

राजगढ़ गोण्डा।।

मुख्यमंत्री जी प्रर्यावरण संतुलन को बनाए रखने एवं हारित क्रांर्ति लाने का सपना, प्रदेश वासियों का कैसे पुरा होगा।

जब मात्र दस बर्ष पूर्व खेत में लगें सैकड़ों शीशम के पेड़ों को दबंग काट कर उठा ले गए। 


उक्त मामला मोतीगंज थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत विधानगर गांव की है उक्त गांव निवासी अजय प्रताप सिंह पुत्र महेन्द्र सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री व पुलिस महानिदेशक तथा  प्रदेश गृह सचिव को पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगाई है पीड़ित ने दिए गये प्रार्थना पत्र में लिखा है कि उसके पैतृक भूमि यज्ञ गाटा 323 एवं 292 में लगभग दस बर्ष पूर्व शीशम के पेड़ों का सघन वृक्षारोपण कराया था। जिसकी लम्बाई करीब 15 से20 फुट रही होगी। 

बिविद हो की प्रार्थी वर्तमान समय में लखीमपुर-खीरी जनपद के मो0 मिश्राना में परिवार सहित रहता है। यहां गांव विधानगर में पैतृक भूमि है खेती न कर पाने के कारण उसमें अपने खेतों में शीशम का सघन वृक्षारोपण कराया था प्रार्थी के अनुपस्थित में बीते आठ अगस्त को गांव के दबंग सुरेन्द्र  व राम मूरत  पुत्र गण राम फेर तथा राम मूरत की पत्नी दशरथा अपने दस सहयोगियों को साथ लेकर दिन दहाड़े सैकड़ों शीशम के पेड़ काट कर उठा ले गए।

जब मुझे फोन से सूचना मिली तो प्रार्थी ने डायल हंड्रेड को सूचना दी डायल हंड्रेड की पुलिस मौके पर पहुंची तो पुलिस की गाड़ी देखते ही दबंग भाग गए पुनः दिनांक 13 अगस्त को वहीं दबंग लोग जे सी बी लाकर बचे पेड़ों को कटवाने लगे तथा पहले कटे हुए पेड़ों की जड़ों को उखड़वा रहें थे तो फिर मुझे सूचना मिली तों मैंने डायल हंड्रेड को सूचना दी मौके पर डायल हंड्रेड की पुलिस पहुंची तो कार्य को बन्द करवा दिया।और थाने पर चलने को कहा। लेकिन दबंग लोग थाने नहीं गये।



दबंगों द्वारा  जबरन नव जात शीशम के पेड़ों को काट  लेने से जहा प्रर्यावरण संतुलन बिगडे़ गा वहीं शासन द्वारा हरित क्रांति लाने का सपना अधूरा रह जाएगा।


पीड़ित अजय प्रताप सिंह ने बताया कि मेरी पत्नी की तबीयत खराब है जिसका इलाज करवा रहा हूं इसलिए मैं मोतीगंज  थाने पर रिपोर्ट लिखने नहीं पहुंच सका। बिपक्षियो द्वारा करीब 150/200 नवजात शीशम के पेड़ काट डाले हैं जिसमें मेरा लाखों  रूपए का आर्थिक नकुसान हुआ है पीड़ित ने बताया कि पारिवरीक समस्या होने के कारण मैं किसी उच्च अधिकारी के  चौखट तक न्याय मांगने नहीं पहुंच सका।

लेकिन प्रार्था ने उप पुलिस महानिरीक्षक देवी पाटन मण्डल, मंडलायुक्त देवी पाटन मण्डल तथा जिला अधिकारी गोण्डा, पुलिस अधीक्षक गोण्डा, तथा डी एफ ओ गोण्डा व थाना मोतीगंज को रजिस्टर्ड डाक  द्वारा प्रार्थना पत्र भेज दी है लेकिन अब तक मोतीगंज पुलिस द्वारा तथा वन विभाग के अधिकारियों द्वारा दबंगों के विरुद्ध कोई कार्य वाही नहीं की गई है।प्रार्थी न्याय की आस लगाए बैठा है कि इसे कब न्याय मिलेगा।


मोतीगंज थाना प्रभारी निरीक्षक आर पी सोनकर ने बताया कि मुख्य मंत्री के  समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली के सन्दर्भ में शाकायती पत आया है जिसकी जांच उप निरीक्षक प्रदीप कुमार गंगवार को सौंपी गई 
 

Comments