जिलाधिकारी के निर्देशों के बावजूद भी अस्पतालों में कचरे का अंबार

जिलाधिकारी के निर्देशों के बावजूद भी अस्पतालों में कचरे का अंबार
  • बायोमेडिकल बेस्टज का न तो हुआ समुचित प्रबंध न ही कोई कार्यवाही

स्वतन्त्र प्रभात  गोण्डा

जिलाधिकारी गोण्डा का आदेश भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों पर बेअसर दिख रहा है। बतातें चलें कि जिलाधिकारी गोण्डा को नर्सिंग होम वह प्राइवेट अस्पतालों के विरुद्ध लगातार शिकायतें मिल रही थी। जिसके बाद जिलाधिकारी गोण्डा नें आदेश जारी कर बायो बायोमेडिकल बेस्टेज का समुचित निस्तारण न करने वाले नर्सिंग होम के संचालकों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराने के साथ-साथ भारी जुर्माना लगाने का भी आदेश दिया था ।

गोंडा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सख्त निर्देश दिए गए थे कि बायोमेडिकल कचरे का समुचित तरीके से निस्तारित ना करने वाले नर्सिंग होम के संचालकों को नोटिस जारी कर उन्हें सचेत करें और उसका पालन न करने वाले नर्सिंग होम के संचालकों पर मुकदमा दर्ज कर भारी जुर्माना भी लगाएं। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के मुखिया को जिला अधिकारी का यह सर्वे बेअसर दिख रहा है।

जनपद में कई ऐसे नर्सिंग होम संचालक हैं जिनके यहां बायोमेडिकल बेस्टेज का समुचित तरीके से निस्तारण नहीं किया जा रहा है। जिससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है। कई नर्सिंग होम तो जिला अस्पताल के ठीक सामने या आसपास बने हुए हैं। यह तस्वीरें जिला महिला अस्पताल के ठीक सामने एक प्राइवेट नर्सिंग होम की है जहां उसके पीछे बायो मेडिकल  बेस्टेज पड़ा हुआ है।और स्वास्थ्य विभाग को इसकी सुध भी नहीं है। यही नहीं जिलाा अस्पताल में भी बायोमेट्रिक बेस्टेज पडा हुआ है।

वहीं पूरे मामले पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ मधु गैरोला का कहना है की बायोमेडिकल वेस्टेज के लिए सब लोगों को सचेत कर दिया गया है। कई नर्सिंग होम ने लिखकर भी भेज दिया गया है। कि उनके यहां बायोमेट्रिक वेस्टेज का निस्तारण सही तरीके से हो रहा है। इसके बाद भी मैंने छह कमेटी गठित कर दी है जो नर्सिंग होम इसका अनुपालन नहीं कराएंगे व उसका निरीक्षण करेंगे और कहीं भी शिकायत पाई जाएगी तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जिला अस्पताल के ठीक सामने बने हुए एक नर्सिंग होम में बायो मेडिकल वेस्ट के निस्तारण ना होने पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि आज सुबह हमको जानकारी हुई है हम वहां टीम भेजेंगे।

Comments