हिन्दू संस्कृति में वृक्षारोपण पुण्य का कार्य - पीएल शर्मा

हिन्दू संस्कृति में वृक्षारोपण पुण्य का कार्य - पीएल शर्मा

राष्ट्रीय आपदा मोचक बल केंद्र , चरगांवा में वृक्षारोपण

गोरखपुर -

किसी भी आपदा से निपटने के लिए सदैव तत्पर व संबंधित गतिविधियों  में भागीदार रहने वाली 11 वाहिनी रा०आ० मो० बल वारणासी के रिसपोंस केंद्र गोरखपुर में वृक्षारोपण डिप्टी कमाण्डेंट पी० एल० शर्मा के नेतृत्व में वृक्षारोपण  किया।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षित किए जाने तथा इस माध्यम से आम जन को पर्यावरण  संरक्षण एंव प्रकृति के संतुलन के प्रति जागरूकता का संदेश प्रेषित कर संवेदनशीलता बरतने का आह्वान किया।

वृक्षारोपण के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि  हिंन्दू संस्कृति में वृक्षारोपण करना पुण्य का कार्य है । पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण की वजह से वृक्षरोपण की अवश्यकता इन दिनों अधिक हो गई है । वृक्षारोपण से तात्पर्य वृक्षों के विकाश के लिए पौधों को लगाना और हरियाली को फैलाने है ।वृक्षारोपण पर्यावरण के लिए अच्छा है।

हर कोई जानता है कि पेड़ ऑक्सीजन का स्त्रोत है। वे कार्बन डाइऑक्साइड लेते है। और ऑक्सीजन छोड़ते है जिसकी बिना पृथ्वी पर प्राणीयों का जीवन संभव नही है। कार्बन डाइऑक्साइड लेने के अलावा पेड़ सल्फर डाइऑसाइड और कार्बन मोनोऑसाइड सहित कई हानिकारक गैसों को भी अवशोषित करते है।

वातावरण  से हानिकारक प्रदुषक को भी फिल्टर करते हैं। जितने पेड़ होंगे पृथ्वी का संतुलन बना रहेगा पेडों के होने की वजह से कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ती जाएगी इसका पृथ्वी की गर्मी की बढ़ाने में अहम रोल होता है। वृक्षारोपण के समय पी० एल० शर्मा डिप्टी कमाण्डेंट,राजेश कुमार सिंह (ए०डी०एम०एफ०आर०),डा०अशीष श्रीवास्तव निरिक्षक,डी०पी० चन्द्रा,गौतम गुप्ता (आपदा विशेषज्ञ गोरखपुर ),रमेश प्रसाद सिंह (वरिष्ठ प्रबंधक पूर्वांचल बैंक ), शिव शंकर, भुनेश्वर पांडेय (पर्यावरणविद) और रा०आ०मो० बल टीम के अन्य सदस्य व ग्रामीण उपस्थित रहे ।इन्होंने आँवला, शरीफ, अमरुद , मोलसरि, सागौन, सहजन, इत्यादि पौधों का रोपण कर इनकी सुरक्षा का संकल्प लिया।

Comments