मौरंग खनन का आवैध खेल बदस्तूर जारी

मौरंग खनन का आवैध खेल बदस्तूर जारी

हमीरपुर–

         जनपद में आज भी मौरंग का अवैध खनन एक सुनियोजित तरीके से संचालित हो रहा है।मीडिया की सुर्खियाँ बनने के लिए कभी- कभार जिले के आला अधिकारियों द्वारा कुछ पहले से चिन्हित कर ली गई

खदानों पर छापा जरूर मारा गया है,लेकिन अब भी जनपद की ऐसी कई मौरंग खदानें हैं जिनमें मौरंग खनन नियमों को ताक में रखकर अवैध तरीके से किया जा रहा है। जो सूबे की सरकार द्वारा अवैध खनन को बंद करने के दावों की पोल खोल रहा है।

         मौजूदा समय में जनपद की लगभग 35–40 मौरंग खदानों का शासन द्वारा खनन लाइसेंस जारी किया गया है

,जिनमें से कुछ खदानें जिलाधिकारी द्वारा छापा मार कर अनियमितताओं के चलते पिछले माह बन्द करवा दिया गया था।

लेकिन कुछ खदानों में आज भी अवैध खनन बदस्तूर जारी है ,जिनमें से टीकापुर खण्ड संख्या 19/5 जिसमें  कामतानाथ इण्टरप्राइजेज और खण्ड संख्या 10/33,न्यू प्रवीरा इंफ्रा ,को खनन का लाइसेंस मिला हुआ है।

इन दोनों ही खदानों में एन0जी0टी0 के नियमों को ताक में रखकर पोकलैंड मशीनों के द्वारा नदी की जलधारा से मौरंग निकाल कर अवैध खनन किया जा रहा है।

लेकिन जिले के आलाधिकारियों ने तो जैसे अपनी आँखों में पट्टी बांध रखी है,दूसरे लोकसभा चुनावों की तैयारियों का बहाना लेकर के आला अधिकारी अवैध खनन के इस खेल से किनारा कर जाते हैं

और खनन माफियाओं की पौ-बारह हो रही है।वहीं इन खदानों के पट्टा धारक बड़ी ही ठसक से,बड़े राजनेताओं के साथ अपने संबंध बताते हुए ,यह कहते नहीं थकते कि जिले का कोई अधिकारी उनका कुछ भी नहीं बिगाड़ सकता है।लोगों का तो यहाँ तक कहना है

कि प्रशासन खुद साँठ-गाँठ करके अवैध खनन करवाता है।देखना यह होगा कि प्रशासन कब तक इस अवैध खनन पर पाबंदी लगा पाता है।

संवाददाता : मुकेश कुमार पासी

सरोजनी नगर लखनऊ

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments