पांच सूत्रीय मांगों को लेकर कोटेदारों ने एडीएम को दिया ज्ञापन

पांच सूत्रीय मांगों को लेकर कोटेदारों ने एडीएम को दिया ज्ञापन

स्वतंत्र प्रभात हमीरपुर

हमीरपुर :- हमीरपुर मुख्यालय मे आज ग्राम के सभी कोटेदारों ने एडीएम का घेराव करते हुये आज अपनी मागों की समस्या को लेकर आज कोटेदारों को अनाज व केरोसिन उठान का करोड़ों रुपये नहीं दिया जा रहा है। इसी मुद्दे के साथ पांच सूत्री मांगों के लिए कोटेदारों ने अनाज की उठान बंद कर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। इससे आगामी माह तहसील क्षेत्र के करीब 20 हजार राशन कार्ड धारकों को राशन नहीं मिल पाएगा। वहीं केरोसिन की मात्रा की आपूर्ति में कटौती होने से दिवाली के पर्व में भी उन्हें मिट्टी के तेल के लाले पड़ सकते हैं।

ऑल इंडिया फेयर प्राइज शाप डीलर्स फेडरेशन इकाई के आह्वान पर कोटेदारों ने पांच सूत्री मांगों का ज्ञापन देने के साथ पिछले 21 अक्तूबर से राशन सामग्री की उठान बंद कर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। मांगों में मशीन से राशन वितरण के साथ ही मैनुअल वितरण का आदेश दिए जाने, 2001 से अब तक दुकानदारों का करोड़ों में बकाया भाड़ा, अन्य प्रदेशों की तरह 300 रुपये प्रति क्विंटल लाभांश दिए जाने व 30 हजार रुपये मानदेय दिए जाने की मांग शामिल है।

उक्त मांगे पूरी न होने पर कोटेदार ई पॉस मशीन जमाकर कार्य बहिष्कार करेंगेे। कृषि मंडी स्थित अनाज वितरण गोदाम के सामने बैनर लगाकर कोटेदारों ने धरना शुरू कर दिया है। धरनेे में ब्लाक अध्यक्ष रनपत यादव, जिला महासचिव शिव प्रकाश श्रीवास, ब्लाक सचिव रामफल वर्मा, नगर अध्यक्ष नरेंद्र वर्मा, प्रदेश सचिव मुन्ना सिंह यादव, जिला संयोजक पीरगुलाम, मलखान यादव, सरोज निगम, रविंद्र कुमार गुप्ता, रामसिंह यादव, अनंत राम वर्मा, संतोष कुमार वर्मा धरने पर बैठे रहे।

भरुआसुमेरपुर प्रतिनिधि के अनुसार ब्लाक अध्यक्ष अरुण कुमार चौरसिया ने बताया कि गत 16 अक्तूबर को प्रदेश के खाद्य उपायुक्त को मांगपत्र सौंपा था। लेकिन मांग पूरी न होने पर प्रांतीय नेतृत्व के निर्देश पर अनिश्चित कालीन उठान बंदी कर घोषणा कर हड़ताल शुरू कर दी गई है। गोदाम प्रभारी सुनील कुमार ने बताया कि कोटेदारों की हड़ताल से उठान नहीं हो सकी। उठान न होने से अगले माह पांच तारीख से गरीबों को मिलने वाले राशन में संकट के बादल मंडराने लगे हैं। हड़ताल में मुन्नालाल प्रजापति, कैलाश बाल्मीकि, अरिमर्दन सिंह, अमर सिंह, बीरेंद्र सिंह, प्रमोद कुमार, सत्यनारायन, रामकरन, जयराम निषाद रहे।

Comments