मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के विधानसभा क्षेत्र करनाल से नहीं हुआ 1500 लोगों का मतदान ! देखिये वीडियो अब तक 22 लाख लोगो तक पहुंची ये खबर

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के विधानसभा क्षेत्र करनाल से नहीं हुआ 1500 लोगों का मतदान ! देखिये वीडियो अब तक 22 लाख लोगो तक पहुंची ये खबर

मुख्यमंत्री की नगरी में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के विधानसभा क्षेत्र करनाल के गुरु नानक पुरा कॉलोनी से नहीं हुआ मतदान !

स्वतंत्र प्रभात मीडिया ने कल दिखाई थी न्यूज़ वन मिलियन लोगों तक पहुंची खबर लेकिन प्रशासन और सरकार चुप !

 

#करनाल

( तिलक राज बंसल )

स्वतंत्र प्रभात मीडिया

  गुरु नानक पुरा के लोगों ने कहा कि 5 साल पहले विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर कॉलोनी में वोट मांगने आए थे तो उन्होंने कॉलोनी वासियों से वादा किया था कि हमारी सरकार बनते ही सबसे पहले आपकी कॉलोनी का विकास होगा !

लोकसभा चुनाव में भी मनोहर लाल खट्टर ने यही वादा किया और नगर निगम के चुनाव में भाजपा की टिकट से लड़ रही रेनू बाला गुप्ता मेयर में भी कॉलोनी में कॉलोनी वासियों से बड़े-बड़े वादे किए लेकिन कॉलोनी आज भी ज्यों की त्यों खड़ी है ! गुरु नानक पुरा के लोगों ने जब इस बारे में नगर निगम करनाल में जाकर प्रार्थना पत्र दिया तो नगर निगम ने कहा कि आपकी कॉलोनी अप्रूवल नहीं है

इसलिए वहां पर अभी कोई भी विकास नहीं हो सकता लोनी वासियों ने कहा कि जब विकास नहीं हो सकता तो फिर वोट किस नाम की ! कल 21 अक्टूबर 2019 शाम 5:00 बजे स्वतंत्र प्रभात मीडिया ने अपने फेसबुक चैनल के माध्यम से लाइव न्यूज़ चलाई थी जिसे देशभर के वन मिलियन लोगों ने इस खबर को देखा और अपनी राय भी दी लेकिन सरकार और प्रशासन अभी भी चुप !

मतदान के अगले दिन  मुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र करनाल में वोट प्रतिशत कम होने का कारण हर किसी की जुबान पर है l  करनाल में वोट प्रतिशत कम आने पर सत्तारूढ़ और विपक्षी दोनों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है l लोगों का कहा मानें तो जब भी बम्पर वोटिंग हुई

तो बीजेपी की जीत हुई है l करनाल का कम वोट प्रतिशत बताता है कि इस बार लोगों ने वोट डालने में ज्यादा रूचि नहीं दिखाई, जिस कारण मतदान केवल  52.30  प्रतिशत तक ही पहुंच पाया । 2014 में करनाल में  67.7 फीसदी मतदान रहा था यानि पिछले चुनाव से 15.54 फीसदी कम मतदान हुआ l 

जिला में सर्वाधिक मतदान इंद्री विधानसभा क्षेत्र में 71.90 प्रतिशत रहा,हालाँकि जो पिछले चुनाव से कम है  l  इस बार  बीजेपी ने मुख्यमंत्री को जिताने का एक लाख से अधिक वोटों का लक्ष्य रखा था l

जिला अध्यक्ष जगमोहन आनंद ने इसके तीन कारण बताये कि बाजार खुला था , अहोई माता का व्रत था जिसे महिलाएं रखती हैं जिस कारण महिलाएं वोट डालने कम आईं और लगातार दो छुट्टी के साथ एक और छुट्टी मानकर लोग बाहर चले गए तो मतदान कम हुआ है l

कांग्रेस प्रत्याशी त्रिलोचन सिंह ने बताया कि लोग इसलिए वोट डालने कम आये क्योंकि वह सरकार से खफा हैं खुश नहीं हैं , बीजेपी के असली कार्यकर्ता भी सरकार की कार्यशैली से खुश नहीं हैं l

अनाज मंडी के पास लगे बूथ पर वोट देने आये नरेश और साहिल ने बताया कि पार्टी के कार्यकर्ता वोट न देने वालों को बुला बुलाकर लाते हैं क्योंकि बूथ पर ड्यूटी देने वालों के पास सारा आंकड़ा होता है किस परिवार से कितने लोग वोट डालने नहीं आये लेकिन ये छुटभैये नेता तो केवल मुख्यमंत्री के साथ फोटो खिचवाने का काम करते हैं घरातल पर नहीं l हालाँकि “वोट जरूर डालें ‘का सरकार द्वारा प्रचार भी किया गया l  एक दो मतदान केंद्रों  के अलावा वोट डालने वालों की लंबी लाइनें कहीं देखने को नहीं मिली

 

 

Comments