हाथ की रेखा से करिये धन की वर्षा...

हाथ की रेखा से करिये धन की वर्षा...

हाथ की हथेली में हर्षल पर्वत होता है जो की हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा के मध्य में स्थित होता है. शनि अंगुली की सीध में नीचे स्थित होता है,

शनि के पर्वत के नीचे होने से शनि के गुणों का समावेश होता है. हर्षल पर्वत के हृदय रेखा व मस्तिष्क रेखा के मध्य में स्थित होने से दिल और दिमाग का संबंध भी होगा.

हथेली में हर्षल पर्वत सामान्य विकसित है, तो व्यक्ति की तकनीकी कार्यों से धन अर्जन की संभावनाएं बनती हैं. हर्षल पर्वत के विकसित और निर्दोष या शुभ निशान लिए है तो तेजी से उन्नति होती हैं. जिससे धन अर्जन ज्यादा संभावित होता है. सामान्य चिन्ह युक्त होने पर वह व्यक्ति मशीनरी वाली नौकरी करके खूब धन अर्जन करते हैं.

हर्षल पर्वत के विकसित और निर्दोष होने पर सूर्य रेखा निकल कर सूर्य पर्वत पर जाए तो विख्यात होंगे. प्रसिध्द वैज्ञानिक, गणितज्ञ, इंजीनियर और शोधप्रिय बनेंगे और खूब धन अर्जन करते है. हर्षल पर्वत का अभाव होने पर तो कठिनाई से धन अर्जन के योग बनते हैं.

यदि हर्षल पर्वत विकसित और निर्दोष है और झुकाव बुध पर्वत पर हो और कोई रेखा निकल कर बुध पर्वत पर जाए तो कुशाग्र बुद्धि वाले व बुद्धि से यश, धन अर्जन करेंगे. साथ ही यदि झुकाव नेपच्यून पर्वत की ओर हो तो पारिवारिक जीवन से दुखी,

कामी और व्यसनी बनकर धन व्यय करेंगे. झुकाव चंद्र पर्वत की ओर हो, तो भोगी, मोह न करने वाला, दुखी और व्यसनी बनकर धन व्यय करेगा. यदि हर्षल पर्वत से कोई दो रेखा निकल कर एक रेखा विवाह रेखा पर, दूसरी मणिबंध पर जाए तो दांपत्य सुख में बाधा आती है.

Comments