टीनएजर्स की जिम जाने की जिद पर क्या करें

टीनएजर्स की जिम जाने की जिद पर क्या करें

बदलती लाइफस्टाइल और सेलेब्रिटीज को देख कर किशोरों में भी जिम जाने का क्रेज काफी बढ़ गया है। बच्चों की जिद के आगे कई माता-पिता हार जाते हैं और उन्हें इजाजद दे देते हैं। सभी बच्चों के शरीर की बनावट अलग-अलग होती है इसलिए जिम के चुनाव में सावधानी बरतना बहुत जरूरी है। बच्चे के शरीर को जरूरत के हिसाब से जिम करवाएं। लम्बाई बढ़ाने के लिए अलग एक्सरसाइज होती है 

किशोरावस्था में हड्डियां बहुत नाजुक होती है। मांसपेशियां और नसें भी नरम होती हैं। ऐसे में बच्चों का जिम में हार्ड वर्कआउट करना नुकसानदायक हो सकता है।  ज्यादा वर्कआउट से उनके शरीर के विकास रुक सकता है। अभिभावकों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बच्चे सही एक्सरसाइज करें। एक्सपर्ट बताते हैं कि जिम जाने की सबसे सही उम्र 16-17 साल की होती है। इस समय तक हड्डियां और मांसपेशियां कठोर हो चुकती हैं और उनमें विकास शुरू हो जाता है। इस उम्र से पहले बच्चे को खेल-कूद और साइकलिंग करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments