लोको पायलट संघ ने आज से सरकार के खिलाफ की भूख हड़ताल,

लोको पायलट संघ ने आज से सरकार के खिलाफ की भूख हड़ताल,

लोको पायलट संघ ने आज से सरकार के खिलाफ की भूख हड़ताल,


 भूखे पेट कैसे चलेगी रेल?


भूखे पेट सेवा देते रहेंगे चालक, 

रेलवे निजीकरण समेत कई मुद्दों पर विभाग व कर्मचारी हैं असंतुष्ट।

यात्रियों की यात्रा के सुरक्षा को लेकर उठेगा सवाल, भूखे पेट कैसे चलेगी रेल

राजकुमार यादव

        भारतीय रेल के चालकों के संगठन ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन ने आज सुबह 10 बजे से 24 घंटे के लिए भूख हड़ताल की घोषणा कर दी। इस भूख हड़ताल से रेल संचालन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। सभी चालक दल भूखे पेट रेल संचालन कर रहे हैं। भूखे पेट रेल चालकों द्वारा गाड़ी लेकर चलने से सुरक्षा के दृष्टिकोण से अगर देखा जाए तो कहीं ना कहीं यात्रियों की सुरक्षा पर भी सवाल उठता है। कहीं किसी भी चालक को यदि रास्ते में कुछ हो जाता है तो ट्रेन में बैठे सभी यात्रियों की जान खतरे में पड़ सकती है।


                                      भूख हड़ताल की मुख्य वजह सरकार द्वारा भारतीय रेलवे का निजीकरण करना है। जिससे रेलवे विभाग के कर्मचारियों की पेंशन समेत कई चीजों में बदलाव किए जा रहे हैं। वहीं कर्मचारियों का कहना है कि रनिंग भत्ता नियमानुसार आरएसी 1980 के तहत हो । नई पेंशन योजना बंद कर पुरानी पेंशन योजना बहाल करें।

     वही इस एसोसिएशन के प्रमुख ने ने कहा कि सांसद विधायक तो पुरानी पेंशन योजना लिए बैठे हैं लेकिन जो मेहनत मेहनत सील कर्मचारी हैं उनके लिए नई पेंशन योजना थोप दिए हैं। सरकार अमेरिका की तुलना करने के लिए पहले देश को अमेरिका जैसा विकसित करने की कोशिश करें उसके बाद सारी व्यवस्थाएं अमेरिका की तरह करें। रेलवे के निजीकरण होने के बाद रेलवे क्षेत्र में नौकरी की तैयारी कर रहे छात्रों का भविष्य खतरे में पड़ सकता है।

भारतीय रेल एशिया की सबसे बड़ी रोजगार देने वाली संस्था है। निजीकरण के बाद यह समीकरण पूरी तरह बिगड़ जाएगा। लोको पायलट संघ के इस हड़ताल में ताल से ताल मिलकर चलने के लिए कई अन्य संगठन भी सामने आये हैं। अब देखना ये है कि सरकार इस पर की कदम उठाती है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments