मौसम के बिगड़े तेवर से अन्नदाताओं में चिंता

मौसम के बिगड़े तेवर से अन्नदाताओं में चिंता

संवाददाता -अजय कुमार यादव 

 

ज्ञानपुर:- 

मंगलवार से मौसम ने अपना तेवर बिगाड़ लिया। मौसम के बिगड़े तेवर का असर बुधवार को भी दिखाई दिया। जिससे मौसम में हल्का ठंडापन का भी अहसास हुआ। मौसम के बिगड़े तेवरों ने किसानों को चिंता में डाल दिया है। इससे गेहूं के कटाई और मड़ाई का काम प्रभावित हो रहा है।

तेज हवाओं के चलने के कारण कई स्थानों की बिजली गुल हो  गयी और कुछ स्थानों पर बिजली के तार भी टूट गये। जिसके कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। बुधवार को दिन भर आकाश में बादलों का जमावड़ा लगा रहा और हवा की गति भी कुछ तेज रही। हालांकि बूंदाबांदी के बाद न्यूनतम तथा अधिकतम तापमान में गिरावट हुई। इससे मौसम एक बार फिर सुहावना हो गया।

    गेहूं कटाई का सीजन रफ़्तार पकड़ रहा है इसके साथ ही गेहूं मड़ाई का कार्य भी  जारी है। मौसम में आयें बदलाव से किसानों की साँसे अटकी हुई है। बुधवार को सुबह से ही बूंदाबांदी हुई। जिन स्थानों पर गेहूं के कटाई और मड़ाई का कार्य चल रहा था वहां का कार्य प्रभावित हो गया। ऐसे परिस्थिति अगर इस समय बारिश होती है और धूल भरी आंधी चलती है तो काफी नुकसान होने की सम्भावना है। किसानों का कहना है कि पीला सोना पककर तैयार है।

वे अपने पीलें सोने को समेटने का भरसक प्रयास कर रहे है लेकिन मौसम का तेवर उसमे रोड़ा अटका रहा है। ऐसे में यदि बारिश होती है तो गेहूं की फसल खराब हो जायेगी साथ ही गेहूं की गुणवत्ता भी गिर जायेगी। मौसम के इस बिगड़े तेवर से अन्नदाता मायूश हो गया है। उनके चेहरें पर चिंता की साफ़ लकीरे दिखाई दे रही है। अगर बरसात हो गया तो अन्नदाताओं  चार महीनें के परिश्रम पर पानी फिर जायेगा। मौसम को देखकर किसानों की धड़कन बढ़ गयी है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments