नवरात्रि के शुभ अवसर पर भव्य संगीतमयी श्रीराम कथा का शुभारंभ

  नवरात्रि के शुभ अवसर पर भव्य संगीतमयी श्रीराम कथा का शुभारंभ

संवाददाता- अजय कुमार यादव 

सुलतानपुर:-

प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी नवरात्रि के शुभ अवसर पर जयसिंहपुर तहसील के अंतर्गत  बौरा जगदीशपुर में पूज्य संत बाबा दयाराम दास जी महाराज ( संरक्षक -राष्ट्रीय शमला श्याम युवा संघ) के आश्रम पर कल दिनांक 6 अप्रैल से भव्य संगीतमयी श्री राम कथा का शुभारंभ किया गया।

जो आगामी 12 अप्रैल तक  शाम 7:00 बजे से 11:00 बजे तक चलेगी। श्री राम कथा के दौरान मथुरा वृंदावन से आए हुए कलाकारों ने विभिन्न प्रकार की झांकियों के माध्यम से श्री राम की लीलाओं का मनमोहक दृश्य प्रस्तुत कर भक्तों को भावविभोर कर रहे हैं।श्री राम कथा के प्रथम दिन मानस मर्मज्ञ सुनीता शास्त्री जी एवं डॉ देवेश शास्त्री जी ने भक्तों को राम नाम रूपी गंगा में डुबोकर निहाल कर दिया तथा संगीतमय भजनों से भक्तगण आनंदित हो उठे ।

कथा व्यास जी ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास जी ने रामचरितमानस नामक पावन ग्रंथ की रचना कर इस चराचर जगत  को श्री राम जी की लीलाओं से अवगत कराया ।उन्होंने श्री रामचरित मानस में कहा कि प्रभु श्री राम कथा उस सुंदर ताली के समान है जो भक्तों के हृदय में उठ रहे संदेहों का अंत कर देती है। यदि उस कथा को ध्यान से सुना जाए तो यह कलयुगी रुपी वृक्ष की जड़ों को काटने के लिए कुल्हाड़ी का काम करती है ।

कथा व्यास सुनीता शास्त्री जी ने कहा कि श्री राम जी के जीवन से हमें बहुत प्रेरणा मिलती है ।इसलिए आज जरूरत है कि हमें उनकी लीलाओं का अनुसरण करना चाहिए ।उन्होंने यह भी कहा कि जब साधक के जीवन में पूर्ण गुरु का आगमन होता है तो गुरु, शिष्य को ईश्वर से मिलाते हैं जिससे साधक उस कण कण में विराजमान ईश्वर को अपने हृदय में देख पाता है ।तभी से वह धर्म मार्ग पर चलना शुरू कर देता है ।

 इस भव्य संगीतमयी श्री राम कथा में शालिकराम, मिंटू सिंह, कुलदीप सिंह ,ब्रह्मादीन प्रधान, अतुल श्रीवास्तव, अशोक श्रीवास्तव सहित समस्त ग्राम वासियों का विशेष सहयोग रहता है।

 राष्ट्रीय शमला श्याम युवा संघ के  संरक्षक बाबा दयाराम दास जी महाराज के सानिध्य में चल रही भव्य संगीतमयीं श्री राम  कथा के समापन पर दिनांक 13 अप्रैल को हवन पूजन एवं 14 अप्रैल को विशाल भंडारे का भी आयोजन किया गया है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments