रिवरफ्रंट घोटाले में पूर्व इंजीनियर सहित कई पूर्व अधिकारियों के 8 ठिकानों पर ईडी का छापा

रिवरफ्रंट घोटाले में पूर्व इंजीनियर सहित कई पूर्व अधिकारियों के 8 ठिकानों पर ईडी का छापा

संवाददाता -अजय कुमार यादव 

लखनऊ:-

राजधानी लखनऊ में सपा शासन में गोमती नगर में बने रिवर फ्रंट घोटाले में ईडी के अधिकारियों ने पूर्व इंजीनियर समेत आठ ठिकानों पर छापेमारी की बताते चलें कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रिवरफ्रंट गोमती का दौरा किया

जिसके बाद गोमती नदी रिवर फ्रंट डेवलपमेंट में हुई वित्तीय अनियमितताओं की न्यायिक जांच हाईकोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस आलोक सिंह की अध्यक्षता में गठित समिति ने किया था। 16 मई 2017 को समिति ने अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपा था। जिसमें दोषी पाए गए अधिकारियों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराए जाने की संस्तुति भी की गई थी।

समिति ने जांच के घेरे में आए तत्कालीन प्रमुख सचिव सिंचाई दीपक सिंघल के खिलाफ विभागीय जांच की सिफारिश भी की थी पर्वत निदेशालय ने मामले में नामजद आरोपी मुख्य अभियंता रघु कॉलेज चंद्र शर्मा काजिम अली और अधीक्षण अभियंता शिव मंगल यादव अखिल रमन कमलेश्वर सिंह रूप सिंह यादव के खिलाफ मनी लांड्रिंग का केस दर्ज किया गया सीबीआई नामजद आरोपियों से पूछताछ करने के साथ ही कई दस्तावेज भी कब्जे में ले चुकी है।

निर्माण के लिए 747.49 करोड़ का बजट पास हुआ था जानकारी के मुताबिक मुख्य सचिव की बैठक में निर्माण कार्य के लिए 1990.24 करोड़ रुपये  का प्रस्ताव किया गया था। लेकिन 1437.83 1 करोड़् खर्च  के बाद भी पूरा नहीं हो सका काम जुलाई 2016 में 1513.51  करोड़  रुपए स्वीकृत हुए थे

लेकिन लगभग 60 फीसद काम ही पूरा हो सका था इस प्रोजेक्ट में बड़ा घोटाला सामने आया था। जिसमें ई डी इस मामले की जांच कर रही है इसी मामले में कई पूर्व अधिकारियों के ठिकानों पर छापेमारी गोमती नगर इलाके में हुई है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments