माता पार्वती को भगवान शिव ने मानसरोवर पर सुनाई अमर कथा - पूर्णिमा मिश्रा

माता पार्वती को भगवान शिव ने मानसरोवर पर सुनाई अमर कथा - पूर्णिमा मिश्रा

हजारों की संख्या मे पहुंच रहे श्रद्धालू संगीतमयी भागवत कथा का तीसरा दिन

हैदरगढ़ बाराबंकी
अट्ठासी हजार ऋषियों की उपस्थिति में सुखदेव जी ने राजा परीक्षित को भागवत कथा सुनाई। स्रंगी ऋषि के श्राप के कारण राजा परीक्षित की मृत्यु सर्पदंश से होगी। यह बात नीमसार से आई महिला कथावाचक पूर्णिमा मिश्रा ने भागवत कथा के तीसरे दिन कही कस्बा हैदरगढ़ के ब्रह्मनान वार्ड के काली माता मंदिर स्थित हो रही संगीतमयी श्रीमद् भागवत कथा के तीसरे दिन कही।

श्रीमद् भागवत कथा व्यास पूर्णिमा मिश्रा ने बताया कि एक बार नारद मुनि कैलाश पर्वत पर जा पहुंचे माता पार्वती को अकेला देख कहा कि माताजी भोले बाबा आपको कितना मानते हैं इतने पर माताजी ने कहा कि यह कोई पूछने की बात है प्रभु मुझे सबसे ज्यादा मानते हैं

कोई बात मुझसे नहीं छुपाते है । फिर नारद जी ने माता पार्वती से कहा कि भगवान शिव के गले में जो मुंडो की माला पड़ी हुई है वह किसके द्वारा दी गई है यह बात कभी आपसे बताया माता पार्वती चिंतन में पड़ गई और भोलेनाथ वहां से विदा हो गए माता पार्वती और भगवान शिव के बीच नारद ने भ्रम पैदा करके नारायण नारायण करते हुए गायब हो गए

मानसरोवर में माता पार्वती को भगवान शिव ने अमरकथा विस्तार से सुनाई सुखदेव जी की उत्पत्ति की कथा को बहुत विस्तार से सुनाया उन्होंने यह भी बताया कि मानव का जीवन बहुत ही अमूल्य है वह लोग बहुत ही भाग्यशाली है जिनके हाथों से धर्म के कार्य होते हैं उन्हीं की बदौलत धरती का पाप कम हो रहा है पैसा तो सभी कमाते हैं

लेकिन धर्म के मार्ग पर बहुत कम लोग पैसा खर्च कर पाते हैं कलयुग में दूध गली गली बिक रहा है लोग पूछने पर भी नहीं लेते हैं। लेकिन मदिरा एक जगह पर बिक रही है लोग ढूंढ ढूंढ कर ले रहे हैं। पाप बहुत बढ़ रहा है आज पाप सभी लोग कर रहे हैं झूठ सभी बोल रहे हैं। लेकिन धर्म सत्य का मार्ग बहुत कम लोग अपना रहे हैं।

यहां पर हो रही श्रीमद् भागवत कथा से आप लोग कुछ लेकर जाएं अपना अपने परिवार का कल्याण करें। धरती पर पापों के बोझ को कम करें। सत मार्ग को अपनाएं इस मानव जीवन को कृतार्थ करें। इसी से सभी देवी देवता भगवान राम कृष्ण सभी प्रसन्न होते हैं। भगवान अपने भक्तों की रक्षा हमेशा करते हैं

*हमें चिंता नहीं उनकी उन्हें चिंता हमारी है , हमारी नाव के रक्षक सुदर्शन चक्र धारी है।*
दोनों पाली में हो रही श्रीमद् भागवत कथा का रसास्वादन हजारों महिलाओं पुरुष द्वारा प्राप्त किया जा रहा है भागवत कथा के मुख्य जजमान रूद्र नारायण पाठक एवं श्रीमती दुर्गेश नंदिनी पाठक ने पूजन अर्चन आरती की। भागवत कथा का पाठ यज्ञाचार्य गोपी बल्लभ त्रिपाठी ने कराया।

कथा व्यास पूर्णिमा मिश्रा का स्वागत भाजपा पूर्व विधायक पंडित सुंदरलाल दीक्षित ने अंग वस्त्र देकर व माल्यार्पण कर किया। इसके अलावा आज की कथा में स्कंद तिवारी गोरख राम सुमिरन जगदीश मौर्य राजेश तिवारी मुकेश मिश्रा राजेंद्र यादव नरेंद्र यादव राजू चतुर्वेदी मुकेश पाण्डेय शिवचरन मौर्य पुत्ती लाल गोविंद सिंह विजय पाठक रमेश पाठक अशोक यादव महेंद्र कुमार यादव उर्फ मंत्री जी प्रेस क्लब अध्यक्ष राकेश पाठक मुन्नालाल पाठक सहित हजारों की संख्या में पुरुष और महिलाएं उपस्थित रहे।

Comments