भारतीय लिपिक का दर्द.…...?

भारतीय लिपिक का दर्द.…...?

लिपिक..... जो हर विभाग के रीढ़ है उनके सुख दुःख से जुड़े दो शब्द......

 महाभारत के युद्ध के बाद एक बार विश्राम करते हुये युधिष्ठिर ने श्रीकृष्ण से प्रश्न किया: हे माधव, कलयुग मे जब मनुष्य लोभी व अत्याचारी होगा तब इस संसार का पालन, परोपकार व धर्म का पालन कौन करेगा !

श्रीकृष्ण ने उत्तर दिया : हे तात ,मै तुम्हे भविष्य के एक विशेष वर्ग के कर्मियों के बारे में बताता हूँ ....

“कलियुग मे कर्म का समुचित व संकलित आदान-प्रदान करने वाले, प्रशासक के भिन्न ऑर्डर्स का पालन कर प्रजा की भलाई करनेवाले, बुद्धिमान, परोपकारी, परिश्रम कर्मी जन्म लेंगे जो *लिपिक* कहलाए जाएंगे जो विभिन्न कष्टदायक परिस्तिथियों मे भी बिना अन्न जल के भी सूर्योदय से मध्यरात्रि तक अपने उच्चाधिकारियों के निर्देशों का पालन करेंगे...

एवम् प्रजा के जीवन को सुखमय बनाने के लिये अपने माँ-बाप बीवी -बच्चों, कुल और देश से दूरस्थ होकर भी तथा नाना प्रकार के कष्टों को झेलते हुए इस संसार का कल्याण करेंगे... वे पराक्रमी लिपिक प्रजाति जो विकट समस्याओं से भयभीत ना होते हुए न्यूनतम वेतन पर परिश्रम करते रहेंगे...

उच्चकुलीन, शालीन, ज्ञानवान व विनम्र होने के कारण वे कभी उच्चाधिकारियों व प्रशासक के प्रति आक्रोश करने की हिम्मत तक नही करेंगे तथा न्यूनतम वेतन मे ही किसी प्रकार निर्वाह करने को विवश होंगे हे तात , कालांतर में यही निरीह परंतु जीवट प्राणी ...

लिपिक" कहलायेँगे तथा संसार का आर्थिक,शारीरिक, सामाजिक और चौमुखी कल्याण करेंगे । ......

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments