इंदिरा मैराथन दौड़ में शामिल प्रतिभागियों को मंत्री ने किया पुरस्कृत

इंदिरा मैराथन दौड़ में शामिल प्रतिभागियों को मंत्री ने किया पुरस्कृत

‌ इंदिरा मैराथन के तहत राज्यमंत्री ने किया पुरस्कृत।

‌‘रन फाॅर ग्रीन प्रयाग’ की थीम के तहत पेड़ लगा कर हरा-भरा बनाने का  संकल्प।

‌पर्यावरण के लिए  विजेताओें को पौधा प्रदान किया। 
‌स्वतंत्र प्रभात ।
‌प्रयागराज।


‌पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 इंदिरा गांधी की जन्मतिथि पर आयोजित होने वाली 35वीं इंदिरा मैराथन का आयोजन सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। यह आयोजन पिछले 35 वर्षो से खेल विभाग और जिला प्रशासन के सयुक्त तत्वाधान में कराया जा रहा है।

इंदिरा मैराथन का शुभारम्भ राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार, खेल, युवा कल्याण एवं पंचायती राज  उपेन्द्र तिवारी ने हरी झंडी दिखाकर किया। इस मौके पर प्रयागराज के जिलाधिकारी श्री भानुचंद्र गोस्वामी, मुख्य विकास अधिकारी-प्रेमरंजन सिंह, खेल निदेशक-डाॅ0 आर0पी0 सिंह मौजूद रहे।

इसमें 42.195 किमी0 की मैराथन दौड़ के साथ ही 08 किमी0 और 04 किमी0 की क्रास कंट्री रेस भी होती है। मैराथन दौड़ के साथ ही होने वाली 08 किमी0 क्रास कंट्री बालक वर्ग और 04 किमी0 की 45 साल से अधिक आयु वाली महिला वर्ग की प्रतियोगिता आयोजित होती है।

‌इंदिरा मैराथन का समापन एवं पुरस्कार वितरण कार्यक्रम मदन मोहन मालवीय स्टेडियम में कार्यक्रम के मुख्य अतिथि म राज्यमंत्री श्री उपेन्द्र तिवारी  के द्वारा किया गया। इस अवसर पर अपने सम्बोधन में  मंत्री  ने इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी प्रतियोगियों का अभिनंदन करते हुए कहा कि खेल में कोई जीतता है तो कोई हारता है।

हारने वाले को आगे बढ़ना है और निरंतर लक्ष्य बना कर तैयारी करें और अगले वर्ष फिर से भाग लेकर विजयी बने, वे यहां से निराश होकर न जाएं। उन्होंने इस मैराथन के थीम ‘रन फाॅर ग्रीन प्रयाग’ पर बोलते हुए कहा कि पर्यावरण को हमें संरक्षित करना है।

आज हम संकल्प करते है कि हम पेड़ लगाकर प्रयाग और पूरे देश को हरा-भरा बनायेंगे। उन्होंने लोगो से आह्वाहन किया कि जैसे आप अपने बच्चों का जन्म दिन मनाते है, तो उसी दिन एक पौधा लगाकर उस पौधे का भी अपने बच्चे की तरह ख्याल रखे।

उन्होंने विजेताओं की तारीफ करते हुए कहा कि ये आपकी मेहनत का फल है। आज आप यहां पर विजयी हुए है और मुझे विश्वास है कि कल आप देश के लिए भी मेडल जीतेंगे।

‌सम्बोधन के बाद मंत्री के द्वारा पुरस्कारों का वितरण किया गया। सर्वप्रथम महिला वर्ग से 42.195 की दौड़ 2 घण्टे 53 मिनट और 29 सेकेण्ड में पूरा करके प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली रानीगंज पश्चिम बंगाल की श्यामली सिंह को एक शिल्ड और 2 लाख का चेक प्रदान किया गया। द्वितीय स्थान प्रयागराज की नीता पटेल को 01 लाख व तृतीय पुरस्कार हरियाणा की अनीता रानी को 75 हजार का चेक प्रदान किया गया। साथ ही 11 महिला एथलीटो को 10 हजार का सात्वनां पुरस्कार प्रदान किया गया।

पुरूष वर्ग में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले अमेठी के राहुल कुमार पाल ने 2 घण्टे 28 मिनट और 35 सेकेण्ड का समय निकाल कर प्रथम स्थान प्राप्त किया। इन्हें भी 2 लाख का चेक और शिल्ड प्रदान किया गया। इसी वर्ग में द्वितीय पुरस्कार गाजीपुर के हरेन्द्र चैहान को 01 लाख व तृतीय पुरस्कार पुणे महाराष्ट्र के हेतराम को 75 हजार रू0 व साथ ही 14वें स्थान तक आने वाले 11 खिलाड़ियों को 10 हजार का सात्वनां पुरस्कार दिया गया।

15 वर्ष से 20 वर्ष तक 08 किमी0 की रेस में बालक वर्ग में कुल 10 एथलिटों को पुरस्कार दिया गया। इसमें प्रथम आने वाले प्रयागराज के शनि निषाद को 10 हजार, द्वितीय स्थान पाने वाले सैतानभाई राम को 5 हजार, तृतीय स्थान पाने वाले संदीप यादव को 03 हजार व 7 लोगो को सांत्वना पुरस्कार के रूप में 1 हजार रू0 की राशि प्रदान की गयी।

इसी वर्ग के बालिका वर्ग में प्रथम स्थान प्रयागराज की पूजा पटेल को 10 हाजर, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाली मीरजापुर की खुशबू सरोज को 05 हजार, तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली अंजली पटेल को 03 हजार व अन्य 7 लोगो को 1000 रू0  का पुरस्कार प्रदान किया गया। क्रास कंट्री 08 किमी0 में 45 वर्ष से ऊपर वरिष्ठ विजेता खिलाड़ी रहे छत्तीसगढ़ के रामआसरे प्रथम स्थान पर रहे, इन्हें पुरस्कार स्वरूप 05 हजार, द्वितीय स्थापन पर रहे सुरेन्द्र प्रताप यादव को 03 हजार, व तृतीय स्थान पर रहे प्रतिभागी को 2 हजार रू0 दिये गये।

इसी वर्ग में 10वें स्थान तक रहे 7 खिलाड़ियों को 1 हजार सांत्वना पुरस्कार प्रदान किया गया। इसी प्रकार 45 वर्ष के ऊपर वरिष्ठ श्रेणी में महिला एथलिटो की 04 किमी0 की दौड़ में प्रथम स्थान प्राप्त पर प्रयागराज की एच0 संगनी देवी को 05 हजार पुरस्कार स्वरूप प्रदान किये गया, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाली अर्चना चहल को 03 हजार व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाली डाॅ0 ऋतु जैन को 02 हजार रू0 का पुरस्कार प्रदान किया गया। इसी प्रतियोगिता में 07 लोगो को सांत्वना पुरस्कार के रूप में 01 हजार रू0 प्रदान किये गये। इसके साथ ही हर विजेताओें को पुरस्कार स्वरूप एक पौधा भी प्रदान किया गया।

‌प्रयागराज से दया शंकर त्रिपाठी की रिपोर्ट।

Comments