एंटीबायोटिक जागरूकता अभियान गांव गांव में नुक्कड़ नाटक व जनसंपर्क कर किया गया।

एंटीबायोटिक जागरूकता अभियान गांव गांव में नुक्कड़ नाटक व जनसंपर्क कर किया गया।

नरेश गुप्ता/ राम मोहन गुप्ता की रिपोर्ट

एंटीबायोटिक जागरूकता अभियान गांव गांव में नुक्कड़ नाटक व जनसंपर्क कर किया गया।

ख्शी का तालाब लखनऊ ,लखनऊ के कुर्सी रोड पर स्थित इंटीग्रल यूनिवर्सिटी लखनऊ के फार्मेसी संकाय के छात्रों द्वारा 18 से 24 नवंबर तक डब्ल्यूएचओ के दिशा निर्देशन में विश्व एंटीबायोटिक जागरुकता अभियान गांव गांव व  हॉस्पिटल में  जाकर अभियान चलाया जा रहा है। ग्रामीण अंचलों में नाटकों के माध्यम से एंटीबायोटिक दवाओं के तर्कसंगत उपयोग पर चिकित्सको,स्वास्थ देखभाल विशेषज्ञ और आमजनमानस के बीच जागरूकता बढाने का प्रयास किया जा रहा है। इंटीग्रल यूनिवर्सिटी की फार्मेसी संकाय के डीफार्मा व बीफार्मा के लगभग 200 छात्र व छात्राओं की टीम बनाई गई है जो गांव गांव जाकर आमजनमानस के बीच एंटीबायोटिक के दुष्प्रभाव व उपयोग की जानकारी दे रहे है। एंटीबायोटिक दवाओं का अंधाधुन्ध प्रयोग खतरनाक है। जागरूकता अभियान के माध्यम से स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञ से सही एंटीबायोटिक निर्धारित करने और केवल जरूरत पड़ने पर स्कूली बच्चो को हाथ और मौखिक स्वस्छता के लिए प्रोत्साहित करने ,सामान्य लोगो को उचित पोषण की सलाह देने और संक्रमण से बचाव के लिए टीके लगवाने की सलाह दी जा रही है।इसकी जानकारी शिक्षक मो.मौजम खान ने दी। इस कार्यक्रम के अवसर पर शिक्षक व फार्मेसी के छात्र उपस्थित रहे।

Comments