विभागीय अनदेखी से बसफरा खजुरिहा मार्ग गड्ढों में तब्दील

विभागीय अनदेखी से बसफरा खजुरिहा मार्ग गड्ढों में तब्दील

जाफरगंज/फतेहपुर

  • कई वर्षों से विभाग नहीं ले रहा मार्ग की सुधि

फ़तेहपुर,

खजुहा अमौली मार्ग से लिंक मार्ग विभागीय अनदेखी के चलते खजुरिहा से बसफरा वाया देवरी  गड्ढों में तब्दील हो जाने से राहगीरों को परेशानी ही नहीं बल्कि मार्ग राहगीरों के लिए जख्म दे रहा है। ग्रामीणों ने जर्जर हुए मार्ग का मरम्मतीकरण कार्य कराए जाने की शासन प्रशासन से मांग की है।

विकास खंड अमौली क्षेत्र के गांव खजुरिहा बसफरा वाया देवरी मार्ग करीब तीन किलोमीटर सड़क लोक निर्माण विभाग की अनदेखी के चलते गड्ढों में तब्दील हो गया है।वहीं प्रदेश सरकार द्वारा गड्ढा मुक्त सड़कों का दावा यहां पर हवा हवाई साबित हो रहा है।

इस मार्ग की हालत यह है कि जगह-जगह से सड़क उखड़ जाने के चलते उसमें गड्ढे हो गए हैं। जिससे उक्त मार्ग में दो पहिया वाहनों को चलना तो दूर की बात रही पैदल आने-जाने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जबकि यही मार्ग देवरी गांव से होकर अमौली बिंदकी  मार्ग में जाकर मिलता है। जिससे अधिकतर अमौली व बिंदकी आने जाने वाले लोग कम दूरी की वजह से इस मार्ग से आवागमन करते हैं।

लेकिन विभाग जर्जर हो रहे मार्ग के मरम्मतीकरण में दिलचस्पी नहीं ले रहा है। महेश कुशवाहा धीरज यादव अनिल सोनकर राजेश मिश्रा आदि ग्रामीणों का कहना है कि पिछले कई वर्षों से लोक निर्माण विभाग द्वारा इस मार्ग में मरम्मतीकरण का कार्य नहीं कराया गया

जिससे मार्ग की गिट्टियां जगह-जगह से उखड़ जाने के कारण गड्ढों में तब्दील हो जाने के साथ ही जीर्ण-शीर्ण हालत में पहुंच गया है। जिससे इस मार्ग में आवागमन करने वाले लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने  जर्जर हुए उक्त मार्ग को ठीक कराए जाने की मांग शासन व प्रशासन से उक्त मार्ग को सही कराए जाने की मांग की है।

  • आने जाने वाले राहगीरों को गड्ढों के कारण आए दिन दुर्घटनाएं होती हैं कई बार विभागीय अधिकारियों से कहने के बावजूद अभी तक मरम्मतीकरण  नहीं हो सका।-   राजेश मिश्रा
  •  चुनाव के समय राजनीतिक दलों के नेता बिजली पानी सड़क आदि का वादा करते हैं लेकिन चुनाव के बाद कोई भी राज नेता जमीनी समस्याओं पर फोकस नहीं करता है।- धीरज यादव
  • उक्त मार्ग का पांच छः वर्षों से मरम्मत न कराए जाने से आने जाने में भारी समस्या उठानी पड़ती है। मार्ग गड्ढों में तब्दील हो गया है।- महेश कुशवाहा

 

Comments