जौनपुर बाबा जी का कहना है, शाकाहारी रहना है।चरित्र मानव धर्म की सबसे बड़ी पूंजी है - पंकज जी महाराज

जौनपुर बाबा जी का कहना है, शाकाहारी रहना है।चरित्र मानव धर्म की सबसे बड़ी पूंजी है -  पंकज जी महाराज

गौरव मिश्रा 

बरसठी, जौनपुर

बरसठी (जौनपुर) - स्थानीय क्षेत्र के बरेठी मेला मैदान में मंगलवार को जयगुरुदेव धर्म प्रचारक संस्था मथुरा के  संस्थाध्यक्ष पंकज जी महाराज अपने 62 दिवसीय जनजागरण यात्रा के 58वे पड़ाव बरेठी में आयोजित सत्संग समारोह में हजारों की संख्या में मौजूद अनुयायियों को संबोधित करते हुए कहा कि, मनुष्य का चरित्र ही मानव धर्म की सबसे बड़ी पूंजी है। शिक्षा के साथ संस्कार भी बहुत जरूरी है।परमात्मा की भक्ति भजन के लिए मानवतावादी, शाकाहारी, नशामुक्त होना अति अनिवार्य है।

परमात्मा कही बाहर नही , घट का पर्दा खोलने पर सुरत शब्द योग की साधना से मिलेगा। महात्मा टूटे हुए दिलो को जोड़ते है। प्रेम प्यार से ह्र्दय परिवर्तन होता है। परिवर्तन कोई तोड़फोड़,  आंदोलन , हड़ताल से नही , लोगो की विचार भावनाये बदलने पर होता है। विचार भावनाएं तब बदलती है जब लोगो का खानपान शुद्द होता है। 

  यह उदगार विख्यात संत बाबा जय गुरुदेव जी महाराज के उत्तराधिकारी पूज्य पंकज जी महाराज ने बरसठी क्षेत्र के बरेठी गांव मे मेला मैदान में आयोजित विशाल सतसंग समारोह में सतसंग सुनाते हुए व्यक्त किये। पंकज जी महाराज ने कहा कि टूटते संयम, गिरते चरित्र, हिंसा अपराध, मांसाहार, व नशाखोरी की बढ़ती प्रवृत्ति गंभीर विषय है। अच्छे समाज के निर्माण के लिये महापुरुषों ने अपना सम्पूर्ण जीवन लगा दिया । देश दुनिया मे सुधार महात्माओ के वचन वाणियो से होगा।

सतसंग में किसी की निंदा आलोचना नही की जाती। बाबा जय गुरुदेव के वारिश ने कहा कि मांसाहार गर्म मिजाज भोजन है जो क्रोध ,संघर्ष, उन्माद, तथा खराब चिंतन का कारण है। इसके विपरीत शाकाहार ठंड मिजाज भोजन है जो संयम, सहनशीलता और शुद्ध चिंतन का कारण है। उन्होंने सभी धर्म और मजहब के लोगो से शाकाहार अपनाने व नशामुक्त जीवन जीने की अपील की और कहा कि बच्चे देश का भविष्य है बच्चो में अच्छे संस्कार डालना वक़्त की सबसे बड़ी मांग है।

हजारो की संख्या में स्त्री पुरुषों ने पंकज जी महाराज के सतसंग में भाग लिया। सतसंग अवसर पर संस्था के महामंत्री बाबूराम यादव, मंत्री विनय कुमार सिंह, जिलाध्यक्ष ऋषिदेव श्रीवास्तव, बरसठी ब्लॉक के अध्यक्ष हरिलाल यादव व प्रबंध समिति के अनेक लोग उपस्थित रहे।

Comments