किसानों के आगे नतमस्तक हुआ जिला प्रशासन


डीएम के आश्वासन के बाद किसानों का लखनऊ कूच कार्यक्रम टला


भाकियू ने सौंपा पांच सूत्रीय मांग पत्र

 

बाराबंकी।

कौड़ियों के दाम किसानों का धान दलालों द्वारा खरीदने के मुद्दे को लेकर भाकियू ने कदम उठाया और आज जब सैकड़ो धान लदी टै्रक्टर ट्रालियों के साथ लखनऊ कूच का ऐलान किया तो जिला प्रशासन भाकियू नेताओं और कार्यकर्ताओं के आगे नतमस्तक हो गया। जिलाधिकारी स्वयं भाकियू नेताओं के पास में जाकर उनकी बात सुनी और उनको यह आश्वासन दिया कि आगामी सोमवार को सीएम योगी आदित्यनाथ भाकियू नेताओं से मिलने को तैयार हैं तो इस आश्वासन पर भाकियू कार्यकर्ताओं का लखनऊ कूच कार्यक्रम फिर हाल टल गया और अधिकारियों ने राहत की सांस ली।

जानकारी के अनुसार, बाराबंकी जनपद में धान की खरीद कागजों पर तो प्रशासन कर रहा था लेकिन हकीकत में किसी भी केन्द्र पर किसानों का एक भी दाना धान नही खरीदा गया था। अधिकारियों का कहना था कि समिति के सचिव और कर्मचारियों के अलावा विपणन विभाग के कर्मचारी भी अपनी मांगो को लेकर पिछले एक सप्ताह से हड़ताल पर चल रहे हैं। इसी वजह से किसानों की धान खरीद नही हो पा रही है और मजबूरी में किसान राशन माफियाओं के हाथो कम दामो पर धान बेचने को मजबूर था। इसी मुद्दे को लेकर भाकियू के राष्ट्रीय स्तर के नेताओं ने गम्भीरता से लिया और बाराबंकी जनपद में अपनी चिंतन शिविर लगाया।

16 नवम्बर को भाकियू के वरिष्ठ नेताओं क्रमशः राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत, यदुवीर सिंह, दीवान चंद चौधरी, राजवीर सिंह जादौन, राजपाल शर्मा, बलराम लम्बरदार, अनिल तालान, मुकेश सिंह, हरिनाम सिंह वर्मा, केतकी सिंह आदि लोगों ने जिला पंचायत सभागार में कार्यकर्ताओं का एक चिंतन शिविर लगाया था। जिसमें पूरे दिन किसानों की समस्याओं के बारे में चर्चा हुई और धान खरीद में की जा रही सरकार की लापरवाही का मुद्दा भी उठा। उस शिविर में यह बात तय हुई कि 17 नवम्बर को हजारों की संख्या में किसान टै्रक्टर-ट्रालियों में धान लादकर लखनऊ सीएम आवास को कूच करेंगे।

आज सुबह जब जिला प्रशासन को भाकियू नेताओं के राजधानी कूच की बात पता चली तो जिला प्रशासन ने किसानों को लखनऊ न जाने की रणनीति तय की। इसी के तहत सुबह करीब 11 बजे जिलाधिकारी उदय भानु त्रिपाठी, पुलिस अधीक्षक वीपी श्रीवास्तव, सीडीओ, एसडीएम सदर सहित कई अन्य वरिष्ठ अधिकारी जिला पंचायत सभागार पहुंचे। जिलाधिकारी ने किसान नेताओं से खुलेमन से बात की और किसानों की हर बात को मानने का वादा भी किया। जिलाधिकारी ने भाकियू नेताओं को यह बताया कि आगामी 19 नवम्बर को प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने किसान नेताओं से मिलने के बात कही है।

साथ ही में जिलाधिकारी ने किसानों को यह भी आश्वासन दिया कि जितना धान टै्रक्टर ट्रालियों पर किसान लेकर आया है उक्त धान को राईस मिल दो दिनों के अन्दर खरीद लेगा। उन्होने यह भी कहा कि धान खरीद के साथ में किसानों को भुगतान भी दे दियसा जायेगा। भाकियू नेताओं ने अन्त में जिलाधिकारी के माध्यम से पांच सूत्रीय मांग पत्र प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजा। हजारों की संख्या में भाकियू कार्यकर्ताओं के लखनऊ कूच को रोकने के लिये भारी संख्या में पुलिस बल शहर से लेकर सफेदाबाद तक तैनात था। वार्ता सफल रहने के बाद जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली। 
 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments