कुकरहेड़ी के स्कूल में नौनिहालों को दो दिन से नही मिला मिड-डे मील

कुकरहेड़ी के स्कूल में नौनिहालों को दो दिन से नही मिला मिड-डे मील
  • स्कूलों के निरीक्षण पर निकली एबीएसए को मिली भारी अनियमितता
  • अनुपस्थित अध्यापकों के विरुद्ध होगी कड़ी विभागीय कार्यवाही

वाज़िद अली कैराना 

कैराना।

बुधवार को सरकारी स्कूलों के निरीक्षण पर निकली कैराना खण्ड शिक्षा अधिकारी को विद्यालयों में भारी अनियमितता देखने को मिली। निरीक्षण के दौरान कई विद्यालयों में शिक्षक नदारद मिले तो कई में छात्रों की संख्या काफी कम थी। कुकरहेड़ी के प्राथमिक विद्यालय में पिछले दो दिनों से नौनिहालों को मध्यान भोजन ही नही दिया गया। यहां बच्चों के लिए न तो पंखे थे और न ही प्रकाश के लिए ट्यूब लाइट लगाई गई है। जबकि इन चीजों के लिए विभाग की ओर से जारी किया गया पैसा भी प्रधानाध्यापक द्वारा खाते से निकाला जा चुका है।

शामली जिलाधिकारी अखिलेश सिंह के निर्देश पर गत दो मई से जनपद के प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों की टाइमिंग प्रातः सात बजे से दोपहर बारह बजे तक के बीच कर दी गई है। एबीएसए राजलक्ष्मी पाण्डेय बुधवार प्रातः लगभग 7:12 बजे निरीक्षण के लिए गांव टिटौली स्थित प्राथमिक विद्यालय संख्या दो में पहुँची। यहां उन्हें प्रधानाध्यापिका रीतू एवं सहायक अध्यापिका वन्दना अनुपस्थित मिली। इसके अलावा पंजीकृत 138 छात्रों में से मात्र एक बच्चा उपस्थित मिला।

इसके बाद एबीएसए गांव में ही स्थित प्राथमिक विद्यालय नंबर एक में पहुंची। यहां भी उन्हें 59 में से मात्र बारह बच्चे उपस्थित मिले। एबीएसए अपनी टीम के साथ यहां से सीधे ग्राम पंचायत बराला के मजरे कुकरहेड़ी के प्राथमिक विद्यालय में पहुंची। सबसे ज्यादा अनियमितता उन्हें इसी स्कूल में देखने को मिली। यहां पौने आठ बजे तक भी प्रधानाध्यापक सुबोध कुमार व सहायक अध्यापिका पूजा स्कूल नही पहुँचे थे।

जाँच में उन्हें पता चला कि यहां पिछले दो दिन से छात्रों को मिड-डे मील ही नही बांटा गया है। यही नही, मंगलवार को रजिस्टर में छात्रों की हाजरी भी नही लगाई गई है। इसके अलावा छात्रों के लिए विद्यालय में न तो विद्युत पंखे लगाये गए है और न ही बिजली फिटिंग कराई गई है, जबकि विभाग की ओर जारी पैसा प्रधानाध्यापक द्वारा खाते से निकाला जा चुका है। यहां उन्हें कमरों में भी काफी धूल जमी हुई दिखाई दी, जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि पिछले काफी समय से विद्यालय में पढ़ाई ही नही हुई।

शौचालय भी काफी गन्दी स्थिती में पाये गए। यहां निरीक्षण के उपरांत खण्ड शिक्षा अधिकारी लगभग साढ़े आठ बजे गांव बराला के उच्च प्राथमिक विद्यालय में पहुँची। यह तैनात दोनों शिक्षक प्रधानाध्यापक कक्ष में अख़बार पढ़ते हुए पाये गए। यहां उन्हें एक रसोइया नदारद मिली, जबकि यहां पंजीकृत 46 छात्रों में से मात्र 13 उपस्थित मिले। इसके अलावा जाँच में पता चला कि यहां स्टेशनरी और एसएमसी के लिए विभाग से भेजा गया पैसा आज तक खर्च नही किया गया। बच्चों का शैक्षिक स्तर भी काफी दयनीय हालत में पाया गया। ज्यादातर बच्चे बिना यूनिफॉर्म के आये हुए थे। यहां खिड़की के पल्ले चढ़े हुए नही मिले।

इस पर उन्होंने निर्माण कार्य के प्रभारी रहे इसी गांव के प्राथमिक विद्यालय के प्रधानचार्य संजय कुमार से जवाब तलब करने की बात कही है। एक रसोइया की अनुपस्थिति के कारण स्कूल में बुधवार को छात्रों को दूध नही बांटा गया। एबीएसए राजलक्ष्मी पाण्डेय का कहना है कि निरीक्षण के दौरान कई स्कूलों में भारी अनियमितता मिली है। सम्बंधित के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही हेतु रिपोर्ट तैयार कर उच्चाधिकारियों को प्रेषित करने के अलावा उनके स्तर से भी कार्यवाही की जायेगी।

गांव बराला के जूनियर हाई स्कूल में अख़बार पढ़ते पाये गए दोनों शिक्षक

बराला  में निजी स्कूलों पर भी मारा छापा
वाज़िद अली कैराना 
बुधवार को सरकारी स्कूलों के निरीक्षण पर निकली एबीएसए राजलक्ष्मी पाण्डेय ने गांव बराला में अल हयात पब्लिक स्कूल के नाम से चल रहे एक प्राइवेट विद्यालय में भी छापामार कार्यवाही की। इसके अलावा एबीएसए गांव की एक चौपाल व एक अन्य घर के अंदर चल रहे दो स्कूलों में भी पहुंची। जाँच के दौरान तीनों स्कूल अवैध रूप से चलते हुए पाये गए। उन्होंने स्कूल संचालकों को अविलम्ब स्कूल बन्द कर यहां पढ़ने वाले बच्चों का प्रवेश सरकारी अथवा मान्यता प्राप्त विद्यालयों में कराने के लिए कहा है।
खण्ड शिक्षा अधिकारी का कहना है कि क्षेत्र में बिना मान्यता के चल रहे विद्यालयों को चिन्हित किया जा रहा है। इनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराकर एक-एक लाख रूपये का जुर्माना लगाया जायेगा। इसके अलावा मान्यता प्राप्त स्कूलों को भी निर्देशित किया गया है कि वह भी मान्यता की वर्तमान शर्तों को पूर्ण कर सम्बंधित पत्रावली उनके कार्यालय में जमा कराये अन्यथा ऐसे स्कूल संचालकों के विरुद्ध आरटीई एक्ट के तहत कार्यवाही की जायेगी।
Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments