मौके से गोमांस, उपकरण व तमंचा बरामद कैराना की बड़ी खबरे

मौके से गोमांस, उपकरण व तमंचा बरामद कैराना  की बड़ी खबरे

मुठभेड़ में गौतस्कर को लगी गोली

  • :-बधुपुरा के जंगल में हुई मुठभेड़, दो आरोपी हुए फरार
  • :-मौके से गोमांस, उपकरण व तमंचा बरामद

वाज़िद अली कैराना 

कैराना।  बधुपुरा के जंगल में पुलिस और गौतस्करों के बीच मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ में पैर में गोली लगने पर एक गौतस्कर को काबू कर लिया गया, जबकि दो गौतस्कर मौके से फरार हो गए। पुलिस ने मौके से तीन कुंतल गोमांस, अवशेष, उपकरण सहित तमंचा व कारतूस बरामद किए हैं। आरोपी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

गुरूवार अलसुबह एसपी अजय कुमार के निर्देशानुसार आपरेशन शिकंजा के तहत कैराना कोतवाली प्रभारी निरीक्षक यशपाल धामा बराला रोड पर गश्त कर रहे थे। तभी मुखबिर से सूचना मिली कि ग्राम बधुपुरा में गोगवान की ओर ईंख के खेत में गौकशी की जा रही है, जिस पर पुलिस ने मौके पर जाकर घेराबंदी की, तो गौतस्करों ने फायरिंग शुरू कर दी, जिस पर पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में फायरिंग की। इसमें एक गोली गौतस्कर के पैर में लगी, जिसे काबू कर लिया गया।

जबकि दो आरोपी मौके से फरार हो गए। पकड़े गए आरोपी की पहचान जनाब उर्फ़ लंबू पुत्र लखमीरा निवासी ग्राम बधुपुरा के रूप में हुई। पूछताछ में आरोपी ने अपने फरार साथियों के नाम सालिम पुत्र मुंशी व आसिफ उर्फ दादा पुत्र नेकी निवासीगण ग्राम बधुपुरा बताए। पुलिस के अनुसार, मौके से तीन कुंतल गोमांस, अवशेष, खाल, तीन छूरी, एक कुल्हाड़ी, दो बाट, लकड़ी का गुटका सहित एक तमंचा मय दो जिंदा कारतूस तथा दो खोखा कारतूस 315 बोर बरामद हुए। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक यशपाल धामा ने बताया कि पकड़े गए आरोपी के खिलाफ पूर्व में भी संगीन धाराओं में छह मामले दर्ज हैं।

उधर, एसपी ने पुलिस टीम को 20 हजार रूपये का इनाम देने की घोषणा की है। पुलिस ने आरोपी को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया है। पुलिस टीम में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक यशपाल धामा, उपनिरीक्षक रमेशचंद, नरेश कुमार, सुशील कुमार, कांस्टेबल सुनील कुमार, सोनू फोगाट, राहुल कुमार मौजूद रहे।

--------------

मुफलिसी में वक्त बिता रही रज्मी की गजलें

  • :-आजतक परिवार को भी नसीब नहीं हो पाया घर
  • :-किराये के मकान पर रह रहे बच्चे

कैराना।  देश-दुनिया में शोहरत और सुर्खियां बटोरने वाले हिंदुस्तान के मशहूर शायर मुजफ्फर इस्लाम रज्मी की गजलें तन्हाई में वक्त काट रही हैं, क्योंकि शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचने के बाजवूद भी रज्मी के परिवार के लोग आज भी परेशान हैं। गजलों के खालिक का परिवार किराये के मकान पर रह रहा है। हुकूमत द्वारा मदद के आश्वासन भी पूरे नहीं हो पाए हैं।

मरहूम मुजफ्फर इस्लाम रज्मी मूलरूप से कैराना के रहने वाले थे। उनकी गजलें और शेर देश ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में सुर्खी और शोहरत बटोरते हैं। रज्मी साहब का एक शेर 'ये जब्र भी देखा है तारीख की नजरों ने, लम्हों ने खता की थी सदियों ने सजा पाई' हर आमो-खास के लबों पर राज किया। उनकी भी अपनी चाहत थी मकान की। कई बार जब पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व अन्य राजनेताओं से मुलाकात हुई, तो आश्वासन भी मिला, पर उनके हक में कुछ यादगार नहीं हुआ। घर तक उनके पास में अपना नहीं हुआ, तो फिर से कहा- 'परिंदे भी नहीं रहते पराये आशियानों में, हमने उम्र गुजार दी किराये के मकानों में।' उनकी मकान की आस कभी पूरी नहीं हुई।

वह दुनिया को अलविदा कह गए। दुनियाभर में इन शायर का नाम रहा। खूब सुर्खियां और शोहरत बटोरी, बावजूद इसके रज्मी का परिवार आज भी मायूसी भरी जिंदगी जी रहा है। मुफलिसी की कशमकश में हैं। परिवार नगरपालिका के किराये के मकानों में रहता है। इस पर भी विवाद चल रहा है। उनके तीनों बेटे जावेद इकबाल, प्रवेज जमाल व नवेद कमाल यहीं पर रहते हैं। अपने मकान की चाहत परिवार की भी हैं, पर इनकी आर्थिक स्थिति बेहद नाजुक है। जैसे-तैसे करके परिवार का गुजर-बसर कर रहे हैं। बेटे कहते हैं उन्हें सरकार से मकान की उम्मीदें हैं। यह आस कब पूरी होगी, न जाने वो कौनसी घड़ी होगी।

---

प्रधानमंत्री को लिखा खत

रज्मी के छोटे बेटे नवेद कमाल ने हाल ही में प्रधानमंत्री के नाम एक खत भी लिखा है। खत में उन्होंने रज्मी साहब की शायरी का उल्लेख किया है। कहा है कि दुनियाभर में देश को खासी पहचान दिलाने वाले रज्मी के परिवार के पास में अपना आशियाना तक भी नहीं हैं। नगरपालिका के मकान में वह 40 सालों से रहते हैं, जहां से उन पर मकान को खाली करने का दबाव बनाया जा रहा है। उन्होंने अपना आशियाना दिलाने का आग्रह किया है।

--------------

बरसी पर खूब याद आए मुजफ्फर रज्मी

  • :-मशहूर शायर की सातवीं बरसी पर पेश किया गया खिराज-ए-अकीदत

कैराना। 

 विश्व विख्यात शायर मरहूम मुजफ्फर इस्लाम रज्मी सातवीं बरसी पर खूब याद आए। इस मौके पर रज्मी के आवास पर उनके परिजनों ने कुरान ख्वानी कराकर उन्हें खिराज-ए-अकीदत पेश किया।

गुरूवार को मोहल्ला बेगमपुरा में स्थित विश्व विख्यात शायर मुजफ्फर इस्लाम के आवास पर उनके बेटों द्वारा सातवीं बरसी सादगी के साथ मनाई। यहां उनके तीन बेटे जावेद इकबाल, प्रवेज जमाल व नवेद कमाल रहते हैं। बरसी पर तीनों बेटे घर पर रहे, जहां उन्होंने मरहूम मुजफ्फर रज्मी की मगफिरत के लिए कुरान ख्वानी कराई गई, जिसके बाद उन्हें खिराज-ए-अकीदत पेश करते हुए मगफिरत की दुआ की गई। इस दौरान आसपास मोहल्ले के लोग भी मौजूद रहे।

--------------

विधायक की वीडियो पर फिट किए फिल्मी डायलॉग, की वायरल

  • :-वीडियो में विधायक को बनाया सन्नी देओल, देते दिख रहे धमकी

कैराना। विवादों में फंसे सपा विधायक नाहिद हसन की वायरल हुई वीडियो के साथ में छेड़छाड़ शुरू हो गई है। कुछ असामाजिक तत्वों ने एसडीएम से नोकझोंक की वीडियो पर फिल्मी डायलॉग फिट कर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया है। वीडियो में विधायक बॉलीवुड​अभिनेता सन्नी देओल के रूप में डायलॉग बाजी करते हुए नजर आ रहे हैं।

जुलाई में सपा विधायक नाहिद हसन की सराय की भूमि से कब्जा हटवाने के बाद सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हुई थी, जिसमें वह भाजपा समर्थित दुकानदारों से सामान नहीं खरीदने की अपील करते हुए नजर आ रहे थे। इसके बाद नौ सितंबर को झिंझाना रोड पर गाड़ी के कागजात दिखाने को लेकर एसडीएम डा. अमित पाल शर्मा से नोकझोंक करते हुए भी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। दोनों ही मामलों में सपा विधायक के खिलाफ कोतवाली पर संगीन धाराओं में मुकदमे दर्ज कराए गए हैं। इनमें एसडीएम से विधायक की नोकझोंक की वायरल वीडियो से छेड़छाड़ करके उसे सोशल मीडिया पर एक बार फिर वायरल कर दिया गया है। छेड़छाड़ के बाद वायरल हुई वीडियो में विधायक बॉलीवुड अभिनेता सन्नी देओल के अंदाज में सामने खड़े लोगों को एकसाथ मारने की धमकी देते हुए दिख रहे हैं। यह वायरल वीडियो सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां भी बटोर रहा है। लेकिन, इससे विधायक खेमा परेशानियों में नजर आ रहा है, क्योंकि कुछ लोग बार-बार वीडियो वायरल कर मामले को हवा देने के प्रयास में हैं। यही नहीं, इससे वातावरण पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

शरारतियों पर कसे शिकंजा

नाहिद प्रकरण के बाद से कैराना में प्रशासन ने पुख्ता इंतजामात किए हुए हैं। अभी यहां पीएसी ने डेरा डाल रखा है। बावजूद इसके वीडियो के साथ में छेड़छाड़ करके कुछ असामाजिक तत्वों मामले को एक बार फिर तूल देने के प्रयास में हैं। ऐसे में असामाजिक तत्वों पर पहले शिकंजा कसा जाना चाहिए।

--------------

शीबा-रिजवाना हत्याकांड के पांच आरोपियों के घरों की कुर्की

कैराना। बहुचर्चित शीबा-रिजवाना हत्याकांड में वांछित चल रहे पांच आरोपियों के घरों की पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर कुर्की कर ली है। अगस्त 2014 में अपहरण के बाद मोहल्ला अफगानान निवासी दिलशाद की दो पुत्रियों शीबा व रिवाजना की हत्या कर दी गई थी। दोनों के शव चार दिन के अंतराल में बरामद हुए थे। उस दौरान नगर में बवाल भी हो गया था तथा तत्काली कोतवाली प्रभारी अजय कुमार का भीड़ ने सिर फोड़ दिया था। किसी तरह हालातों पर काबू पाया गया था। मामले में पीड़ित परिजनों की ओर से करीब एक दर्जन लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया था। पुलिस विवेचना के दौरान कई आरोपियों के नाम प्रकाश में आए थे। मामले की जांच सीबीसीआईडी भी कर चुकी है, जो सभी आरोपियों को दोषी मान चुकी है। आधा दर्जन से अधिक आरोपी जेल में बंद हैं। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक यशपाल धामा ने बताया कि गुरूवार को कोर्ट के आदेश में मामले में वांछित चल रहे कबीर, मंसूर, फैजान, मोहसीन व शमीम निवासीगण मोहल्ला अफगानान के घर की कुर्की कर ली गई है। जहां से पुलिस ने चारपाई, बर्तन आदि सामान को अपने कब्जे में ले लिया है। पूर्व में आरोपियों के घरों पर कुर्की के नोटिस चस्पा किए गए थे, लेकिन आरोपियों के कोर्ट में पेश नहीं होने पर यह कार्रवाई  की गयी हैं । 

 

कृषकों को संचारी रोग से बचाव के दिए टिप्स

  • :-ब्लॉक स्तरीय किसान निवेश मेला व प्रदर्शनी का आयोजन
  • :-भाजपा नेत्री मृगांका सिंह ने किया कार्यक्रम का शुभारंभ

वाज़िद अली कैराना 

कैरान। ब्लॉक स्तरीय कृषि निवेश मेला एपवं प्रदर्शनी कार्यक्रम के तहत कृषकों को संचारी रोग से बचाव के टिप्स दिए गए। इस दौरान जैविक खेती, अधिक पैदावार सहित सरकार की योजनाओं की जानकारी दी गई।

गुरुवार को नगर के शामली रोड पर स्थित राजकीय बीज भंडार परिसर में कृषि सूचना तंत्र के सुदृढीकरण एवं कृ​षक जागरूकता कार्यक्रम के अंतर्गत कृषि निवेश मेला एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ वरिष्ठ भाजपा नेत्री मृगांका सिंह ने फीता काटकर किया।

इस अवसर पर मृगांका सिंह ने कृषकों को संबोधित करते हुए भाजपा सरकार ने किसानों के हित के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना सहित कई योजनाएं संचालित की हैं, जिनका किसानों को फायदा मिल रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की उन्नति और उन्हें खुशहाली चाहती है। वहीं, जिला कृषि र​क्षा अधिकारी विकास कुमार ने कृषकों को सब्सिडी पर दी जाने वाले बीज तथा दवाईयों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि किसान मानधन पेंशन योजना के तहत 18 वर्ष से 40 वर्ष आयु तक के सभी लघु एवं सीमांत किसान पात्रता की श्रेणी में आते हैं।

उन्होंने कहा कि 60 वर्ष की आयु के बाद किसानों को सरकार तीन हजार रुपये प्रतिमाह पेंशन के तौर पर देगी, ​जो उनकी खेती में काम आ सकेंगे। वहीं, कृषि मेले में विशेष संचारी रोग नियंत्रण के बारे में भी जानकारी दी गई। रबी की फसलों की बुवाई के बारे में भी जागरूक किया गया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता ब्लॉक प्रमुख पति चौधरी गय्यूर हसन ने की। संचालन एडीओ कृषि सुधीर पंवार ने किया। इस अवसर पर कृषि विभाग के डा. नरेश भडाना, रोहित कुमार, जयवीर सिंह, सूर्यदेव, डा. संजीव, पंकज कुमार, अमित कुमार, विकास कुमार, सद्दाम आदि का सहयोग रहा।

Comments