लखनऊ के काकोरी थाना क्षेत्र में ज्ञानेंद्र रावत की हत्या हुई थी काकोरी पुलिस इसे एक्सीडेंट बता कर मामला रफा-दफा करने में जुटी,,

लखनऊ के काकोरी थाना क्षेत्र में ज्ञानेंद्र रावत  की हत्या हुई थी  काकोरी पुलिस  इसे एक्सीडेंट बता कर  मामला रफा-दफा करने में  जुटी,,

स्वतंत्र प्रभात लखनऊ

राजधानी लखनऊ के  काकोरी थाना क्षेत्र  अंतर्गत बिगहूं गाँव निवासी ज्ञानेंद्र रावत की  बीते  7 मई  को  हत्या कर दी गई थी और  पुलिस से  एक्सीडेंट  बता कर  मामले को  रफा दफा  करने में लगी है

सूबे के मुखिया व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भले ही उत्तर प्रदेश में कानून का राज स्थापित करने का दावा कर रहे हैं। लेकिन सूबे में बैठे आलाधिकारी अपने मुखिया के मंसूबे पर किस तरह पानी फेरने का काम कर रहे हैं

इससे बड़ी नजीर पुलिस महकमे से ज्यादा कहीं और नहीं देखी जा सकती है। आज उत्तर प्रदेश में हो या या फिर राजधानी लखनऊ हो आपराधिक घटनाएं काफी तेजी से बढ़ रही है आखिर क्यों ?

इसका मतलब कहीं न कहीं कोई कमी जरूर है
जी हां शायद इसका सबसे बड़ा कारण है स्थानीय पुलिस मामलों में ज्यादा रूचि नहीं लेती और पीड़ित को टरकाने का काम करती है जिससे पीड़ित पक्ष तो मायूस होकर बैठ ही जाता है

और विपक्षी अपने आप को ताकतवर समझ लेता है। और आगे चलकर इन्ही कारणो से विपक्षीगणो के हौसले काफी बुलन्द हो जाते हैं और किसी बड़ी घटना को अंजाम दे देते है शायद यह स्वभाविक भी है क्यो की पुलिस को मोटा माल जो मिल चुका होता है

लखनऊ के काकोरी थाने का हाल कुछ ऐसा ही बयां करता है जहां मौजूद दरोगा व सिपाही पीड़ितों को न्याय दिलाने की वजाय उनको टरकाने का काम करते हैं जिसके चलते गरीब पीड़ित परिवार न्याय की आस छोड़ कर आखिर चुपचाप बैठ जाता है


ऐसा ही एक मामला काकोरी थाना अंतर्गत ग्राम बिगहूँ का सामने आया है।
मृतक ज्ञानेंद्र के पिता रामनरायण ने बताया कि मेरा बेटे की काकोरी में फोटो ग्राफी की दुकान थी। ज्ञानेंद्र की दुकान पर मामूली बात को लेकर विवाद हो गया था

जिस पर वीरेंद्र पुत्र बलदेव निवासी बिगहूँ थाना काकोरी ने ज्ञानेंद्र को जान से मारने की धमकी दी थी। जिसके तीसरे दिन दिनांक 7/5/2019 की शाम करीब सात बजे मेरे गाँव के ही बबलू पुत्र गंगा सागर ने मेरे बेटे मृतक ज्ञानेंद्र रावत उम्र लगभग 23 वर्ष घर से बुलाकर कालिया खेड़ा थाना काकोरी एक अज्ञात लड़की के घर ले गए।

शराब पिलाने के बाद मेरे बेटे की हत्या कर दी। जिसकी लाश ग्राम मौदा के नहर थाना काकोरी में मिली।
ज्ञानेंद्र रावत की मौत से पूरे परिवार में कोहराम मच गया।
मृतक के माता पिता ने वीरेंद्र व बबलू के नाम लिखित शिकायत थाना काकोरी में दर्ज कराया था।

लेकिन अभी तक किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नही हुयी है। पुलिस इस घटना को एक एक्सीडेंट बता रही है।
कार्यवाही न होना ही काकोरी पुलिस पे सवाल खड़े कर रहे है।

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments