बच्चों में कुपोषण दूर करने पुरुषों को भी सजग करना जरूरी

बच्चों में कुपोषण दूर करने पुरुषों को भी सजग करना जरूरी

बच्चों में कुपोषण दूर करने पुरुषों को भी सजग करना जरूरी


कुपोषण की जंग में बराबर की हो पुरुषों की भागीदारी 


स्वच्छता और कुपोषण पर युवाओं को दी ट्रेनिंग
सुपोषण परीक्षण कार्यक्रम विद्यार्थियों के साथ किया

संवादाता नरेश गुप्ता


 कानपुर 23 सितम्बर 2019 
बच्चों में कुपोषण को दूर करने महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों को भी जागरूक किया जाना जरूरी है । यह बात बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) अनामिका सिंह ने पोषण माह के तहत आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि पुरुषों को भी कुपोषण को दूर करने के प्रति सजग और जागरूक बनाना होगा ताकि इस दिशा में किए जा रहे प्रयासों में बेहतर परिणाम प्राप्त किए जा सकें और कुपोषण से मुक्ति का रास्ता आसान हो सके।


स्वच्छता सर्वेक्षण में शामिल होने और कुपोषण पर लोगों को जागरूक करने के लिए गत दिवस कानपुर में 60 से ज्यादा युवाओं को ट्रेनिंग दी गई। बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) अनामिका सिंह के अनुसार, युवाओं को मोबाइल ऐप डाउनलोड कर 4 प्रश्नों के जवाब देने के बारे में बताया गया। साथ ही कुपोषण को पहचानने और निपटने से संबंधित पैंफलेट भी दिए गए। कहा गया कि कुपोषण किसी भी घर में हो सकता है। हर युवा कम से कम 5-6 लोगों को इस बारे में प्रशिक्षण देगा।
 

इसके साथ ही युवाओं ने शारदा नगर में छह माह तक तथा छह माह से दो साल तक के बच्चों, किशोरियों और माताओं के खानपान व स्वच्छता को लेकर बच्चे ‘घर का खाना सबसे अच्छा, स्वस्थ रहेगा घर-घर बच्चा,’ ‘चार मेल का खाना खिलाएं, सब बच्चों को स्वस्थ बनाएं,’ ‘बच्चों को देकर पौष्टिक आहार, स्वस्थ देश का बने आधार,’ ‘घर का खाना बहुत जरूरी, वजन-लंबाई बढ़ेगी पूरी’ जैसे नारे लगाते हुए जनमानस को जागरूक किया। लगाते हुए चल रहे थे। किशोरियों को साफ-सफाई के साथ ही खानपान का विशेष ध्यान रखने को लेकर जागरूक किया गया।
 

पोषण माह के द्वारां प्रत्येक दिन अलग-अलग प्रकार की गतिविधियों के माध्यम से किशोर-किशोरी बालिकाओं, गर्भवती धात्री माताओं को पोषण की जरूरत ओर महत्व के प्रति जागरूक किया जा रहा है । कार्यक्रम में अनिल यादव, सचिन यादव, शुभांशु यादव,आकृति,आदि लोग मौजूद थे |

Comments