प्रभारी मंत्री ने कन्या सुमंगला योजना के लाभार्थियों को वितरित किए प्रमाण पत्र

प्रभारी मंत्री ने कन्या सुमंगला योजना के लाभार्थियों को वितरित किए प्रमाण पत्र

महोबा -

प्रदेश सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में कन्या सुमंगला योजना के रूप में एक नई पहल की गई है। इस योजना के अन्तर्गत बालिकाओं एवं महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा के साथ-साथ विकास के नये अवसर प्रदान किये जायेगे।

प्रदेश के मुख्यमन्त्री  द्वारा लखनऊ में आज इस योजना का शुभारम्भ किया गया, जिसका प्रदेश के सभी जनपद व ब्लाक मुख्यालयों में सजीव प्रसारण दिखाया गया।

इस अवसर पर जिला स्तर पर सरस्वती विद्या मंदिर इण्टर काॅलेज में आयोजित कार्यक्रम में जनपद के प्रभारी मंत्री जी0एस0धर्मेश द्वारा जनपद के समस्त विकास खण्डों के कुल 316 कन्या लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किये गये।

जिलाधिकारी अवधेश कुमार तिवारी ने इस अवसर पर जानकारी देते हुए बताया कि जनपद में अब तक इस योजना के तहत कुल 1253 नामांकन प्राप्त हुए हैं, जिनमें से प्रथम चरण में 316 लाभार्थियों को

आज प्रमाण पत्र दिए गए हैं तथा डमी चेक में लिखित धनराशि को सीधे लाभार्थियों के खातों में ट्रान्सफर कर दिया गया है।उन्होनें बताया कि आगामी चरणों में इस योजना के सम्बन्धित सभी लाभार्थियों को लाभान्वित किया जायेगा। 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जनपद के प्रभारी मंत्री डाॅ0 जी0एस0धर्मेश ने बताया कि शासन की मन्शा है कि बालिकाओं एवं महिलाओं के स्वास्थ्य एवं शिक्षा को सुदृढ़ किया जाये, कन्या भू्रण हत्या को समाप्त किया जाये, सामान लिंगानुपात स्थापित किया जाये, बाल विवाह की कुप्रथा को रोका जाये,

नवजात कन्या के परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान की जाये तथा बालिका के जन्म के प्रति जनमानस में सकारात्मक सोच विकसित कर उनके उज्ज्वल भविष्य की आधारशिला रखी जाये। मुख्यमंत्री  द्वारा आज धनतेरस के अवसर पर कन्या सुमंगला योजना की शुरूआत की गयी है।

इस योजना के तहत 06 श्रेणियों में क्रमशः बालिका के जन्म होने पर रू0 2000-, बालिका के एक वर्ष तक के पूर्ण टीकाकरण के उपरान्त रू0 1000-, कक्षा-01 में बालिका के प्रवेश के उपरान्त रू0 2000-, कक्षा-06 में बालिका के प्रवेश के उपरान्त रू0 2000-, कक्षा-09 में बालिका के प्रवेश उपरान्त रू0 3000 तथा ऐसी बालिकायें जिन्होंने कक्षा-12वीं उत्तीर्ण करके स्नातक अथवा 02 वर्षीय या अधिक अवधि के डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लिया हो, को रू0 5000- की सहायता प्रदान की जायेगी। पात्रता की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि लाभार्थी का परिवार उत्तर प्रदेश का निवासी हो, परिवार की वार्षिक आय 03 लाख तक हो, परिवार की अधिकतम 02 ही बच्चियों को योजना का लाभ मिल सकेगा।

किसी महिला को द्वितीय प्रसव से जुड़वा बच्चे होने पर तीसरी सन्तान के रूप में लड़की को भी इसका लाभ मिलेगा।इस योजना के तहत नामांकन करने के लिए आय प्रमाण पत्र के स्थान पर 03 लाख तक की आय का स्वघोषणा पत्र भी दे सकते हैं।

इस योजना में बालिका स्वयं(यदि वयस्क हो), माता-पिता आवेदक हो सकते हैं तथा वे आॅनलाइन आवेदन, सर्विस केन्द्रों, साइबर कैफे, स्वयं के स्मार्टफोन या कम्प्यूटर आदि के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

इसके अलावा प्रभारी मंत्री ने महिलाओं के कल्याण के लिए 15 विभागों द्वारा चलायी जा रही कुल 38 योजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सरकार महिलाओं के सर्वांगीण विकास के लिए प्रतिबद्ध है तथा उनके उत्थान के लिए नई-नई योजनायें बनायी जा रहीं है, जिनमें से कन्या सुमंगला योजना बेटा-बेटी में भेद मिटाने के लिए सबसे अच्छी योजना है।

इस योजना के लागू होने से अब कन्या को वरदान माना जायेगा। उन्होने जन सामान्य से अपील की है। 

कार्यक्रम में भाजपा जिलाध्यक्ष जितेन्द्र सिंह सेंगर, किसान मोर्चा के राष्ट्रीय मंत्री राजेश सिंह, जिला संघ प्रचारक पुनीत कुमार, पुलिस अधीक्षक स्वामीनाथ, मुख्य विकास अधिकारी हीरा सिंह, नगर पालिका अध्यक्षा दिलाशा सौरभ तिवारी, हमीरपुर डिस्ट्रिक कोआॅपरेटिव बैंक के अध्यक्ष चक्रपाणि त्रिपाठी, सांसद प्रतिनिधि डाॅ0 संतोष चैरसिया, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि रमेश यादव, प्रभारी कलेक्ट्रेट राकेश कुमार, सूचनाधिकारी सतीश कुमार यादव सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

Comments