मतदान करना मतदाता का अधिकार, जब हम दूसरे अधिकारों को पाने के लिए करते हैं संघर्ष, तो मतदान के अधिकार का प्रयोग करने में क्यों करते हैं संकोच - उपायुक्त विनय प्रताप सिंह 

मतदान करना मतदाता का अधिकार, जब हम दूसरे अधिकारों को पाने के लिए करते हैं संघर्ष, तो मतदान के अधिकार का प्रयोग करने में क्यों करते हैं संकोच - उपायुक्त विनय प्रताप सिंह 
  •  मतदान करना मतदाता का अधिकार, जब हम दूसरे अधिकारों को पाने के लिए करते हैं संघर्ष, तो मतदान के अधिकार का प्रयोग करने में क्यों करते हैं संकोच - उपायुक्त विनय प्रताप सिंह 
  • 5 साल बाद मिलता है मतदान करने का मौका, यह अवसर नहीं गंवाना चाहिए, लोकतंत्र की मजबूती के लिए मत का प्रयोग करके अपने आप को करें गौरान्वित महसूस।

करनाल 5 अप्रैल,   उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी विनय प्रताप सिंह ने युवा मतदाताओं का आह्वान  किया कि मतदान करना उनका अधिकार है। जब हम दूसरे अधिकारों को पाने के लिए संघर्ष करते हैं तो मतदान के अधिकार का प्रयोग करने में क्यों संकोच करते हैं? चुनाव में मतदान करने का मौका 5 साल के बाद मिलता है। यह अवसर हमें गंवाना नहीं चाहिए बल्कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए मतदान करके अपने आप को गौरान्वित महसूस करें। 

उपायुक्त शुक्रवार को पंचायत भवन में मतदाता जागरूकता अभियान के तहत शहर की आईटीआई के विद्यार्थियों को वोट के महत्व को लेकर संवाद कर रहे थे। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र प्रणाली में जनता सर्वोपरि होती है और एक-एक वोट का बड़ा महत्व होता है इसलिए सभी मतदाताओं को लोकतंत्र के इस उत्सव में बढ़चढ़ कर भाग लेना चाहिए, विशेषकर युवा मतदाताओं को। उनका कहना था कि हमारे देश में युवाओं की संख्या अधिक है इसलिए भारत को युवा देश कहते हैं। उन्होंने युवाओं का जागृत करते हुए कहा कि अगर आप अपनी आवाज को बुलंद रखना चाहते हैं तो लोकतंत्र के पर्व में वोट डालकर अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि अगर मतदाताओं को कोई भी उम्मीदवार पसंद नहीं आता है तो वह मतदान करने से वंचित न रहे बल्कि पोलिंग बूथ पर जाकर नोटा को वोट कर सकते हैं।

उपायुक्त ने कहा कि आदर्श आचार संहिता चुनाव प्रक्रिया के पूर्ण होने तक लागू रहेगी। कहीं पर भी संहिता का उल्लंघन नजर आता है तो इसकी शिकायत आर.ओ. व ए.आर.ओ. को कर सकते हैं। इसके अलावा जो मतदाता अपने वोट व पोलिंग बूथ के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो चुनाव आयोग की वैबवाईट व हैल्पलाईन टोल फ्री नं. 1950 से भी ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि जिन पात्र व्यक्तियों ने अब तक अपनी वोट नहीं बनवाई है वो 12 अप्रैल तक ऑनलाईन अपनी वोट बनवा सकते हैं तथा वह वोट बनवाकर लोकसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकते हैं।

इस मौके पर उपायुक्त ने 12 मई को होने वाले लोकसभा के आम चुनाव में पहली बार भाग लेने वाले युवा मतदाताओं को लोकतंत्र में अपनी पूर्ण आस्था रखने की शपथ दिलाई। विद्यार्थियों ने शपथ ली कि वे अपने देश की लोकतांत्रिक परम्पराओं की मर्यादाओं को बनाए रखने तथा स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन की गरिमा को बनाए रखते हुए निर्भीक होकर धर्म, वर्ग, जाति, समुदाय, भाषा अथवा अन्य किसी भी प्रलोभन से प्रभावित हुए बिना इस लोकसभा चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। शपथ के बाद उपायुक्त ने युवाओं से कहा कि जो शपथ ली है उसे हरसंभव निभाना है और अपने मनचाहे नेता को चुनना है। इस चुनाव के माध्यम से आप लोग प्रधानमंत्री का चुनाव करने जा रहे हैं।

इस अवसर पर एसडीएम नरेन्द्र पाल मलिक, चुनाव कानूनगो नरेश कुमार, एडीसी कार्यालय के प्रतिनिधि प्रवीण मोर उपस्थित रहे।

बॉक्स: डीसी व आम मतदाता के वोट की एक जैसी अहमियत - उपायुक्त विनय प्रताप सिंह

उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने कहा कि लोकतंत्र में वोट का बहुत ही महत्व है, हर मतदाता के वोट की एक समान वैल्यू है, जो अहमियत आम मतदाता के वोट है वो ही डीसी के वोट की भी। इसलिए कोई भी मतदाता अपने वोट की कीमत को कम न समझें और अपने मताधिकार का प्रयोग करें।

बॉक्स: वैबसाईट पर अपने वोट व बूथ को कर सकते हैं चैक - चुनाव कानूनगो

मतदाता जागरूकता कार्यक्रम में चुनाव कानूनगो नरेश कुमार ने युवा मतदाताओं को चुनाव आयोग की वैबसाईट पर अपना वोट व बूथ चैक करने का प्रशिक्षण दिया और मौक पर ही मोबाईल पर चैक करने की विधि सिखाई।

 

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments