शब्द कीर्तन के साथ बोले सो-निहाल सत्श्री अकाल से गुंजायमान हुई कर्णनगरी

शब्द कीर्तन के साथ बोले सो-निहाल सत्श्री अकाल से गुंजायमान हुई कर्णनगरी
  • शब्द कीर्तन के साथ बोले सो-निहाल सत्श्री अकाल से गुंजायमान हुई कर्णनगरी
  • श्री गुरु नानक देव जी महाराज के 550 साला प्रकाश उत्सव को समर्पित रहा नगर कीर्तन
  • भारी संख्या में शीश नवाने के लिए उमड़ी संगत६
  • एसजीपीसी वरिष्ठ उप प्रधान रघुजीत सिंह विर्क व बाबा सुखा सिंह ने किया संगत का मार्गदर्शन

करनाल, 12 अप्रैल : 

शब्द कीर्तन के साथ बोले सोनिहाल सत्श्री अकाल की गूंज में भारी संख्या में संगत का फूलों से सुसज्ज्ति श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी महाराज की पालकी साहिब में शीश नवाना। यह भव्य दृश्य देखने को मिला कर्णनगरी के नाम से विख्यात करनाल धरा पर। मौका था श्री गुरु नानक देव जी महाराज के 550 साला प्रकाश उत्सव पर विशाल एवं भव्य महान नगर कीर्तन का। ऐतिहासिक गुरुद्वारा साहिब पातशाही पहली श्री मंजी साहिब से जैसे ही श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी महाराज की छत्रछाया और पंज प्यारों की अगुवाई में महान नगर कीर्तन आरंभ हुआ, तो नतमस्तक होने के लिए संगत का हजूम उमड़ पड़ा। यह नगर कीर्तन श्री गुरु नानक देव जी महाराज के 550 साला प्रकाश उत्सव को समर्पित धर्म प्रचार लहर के तहत एसजीपीसी की धर्म प्रचार कमेटी द्वारा बाबा सुखा सिंह कार सेवा वाले के सहयोग से सजाया गया। आरंभता अवसर पर गुरुद्वारा साहिब के हैड ग्रंथी ज्ञानी जोगा सिंह ने गुरु चरणों में अरदास की।

इस दौरान बाबा सुखा सिंह कार सेवा वाले, बाबा गुरमीत सिंह, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी श्री अमृतसर के वरिष्ठ उप प्रधान रघुजीत सिंह विर्क, एसजीपीसी मैंबर जत्थेदार भूपिंदर सिंह असंध, पलविंदर सिंह, हरदीप सिंह लागर, गुरुद्वारा मंजी साहिब प्रबंधक कमेटी के प्रधान बलकार सिंह, मैनेजर दीप सिंह, गुरुद्वारा साहिब निसिंग प्रबंधक कमेटी के प्रधान सुखवंत सिंह, एसजीपीसी सब ऑफिस प्रभारी परमजीत सिंह, सिख मिशन हरियाणा के इंचार्ज एवं गुरुद्वारा धमतान साहिब जींद के मैनेजर परमजीत सिंह, सहायक इंचार्ज साहिब सिंह, गुरुद्वारा नाडा साहिब के मैनेजर जगीर सिंह, रूपिंदर सिंह, कुलदीप सिंह, भजन सिंह, बलविंदर सिंह, अपार सिंह, दशमेश अखाड़ा करनाल के गुरतेज सिंह खालसा ने भी श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी महाराज के समक्ष शीश नवाया। इससे पहले एसजीपीसी वरिष्ठ उप प्रधान रघुजीत सिंह विर्क ने श्री गुरु नानक देव जी महाराज के 550 साला प्रकाश उत्सव की संगत को बधाई देते हुए कहा कि परमात्मा के रंग में रंगने वाला व्यक्ति जीवन भर बेदाग रहता है।

ईश्वर उसे विशेष शक्ति प्रदान करता है, जिससे प्रभु का दुलारा हर मुश्किल पर फतेह हासिल करने में सफल होता है। उन्होंने वर्तमान में युवा पीढ़ी को संभालने के लिए माता-पिता से अपने बच्चों को गुरबाणी और गुरु साहिबान की शिक्षाओं तथा सिख रहत मर्यादा के अनुसार जीवन यापन करने के लिए प्रेरित करने का आह्वान किया। बाबा सुखा सिंह कार सेवा वाले ने संगत का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि हमें अपने बच्चों को गुरु साहिबान की ऐतिहासिक निशानियों के दर्शन करवा कर धार्मिक स्थानों से अवगत कराना चाहिए, तांकि वे अपने गौरवमयी सिख इतिहास से परिचित हो सकें। उन्होंने श्री गुरु नानक देव जी महाराज की शिक्षाओं को जीवन में अपनाने का आह्वान भी संगत से किया। बाबा सुखा सिंह ने कहा कि गुरु साहिब ने हमें एकता का पाठ पढ़ाया है और हमें दूसरों को भी अखंडता का संदेश देना चाहिए।

नगर कीर्तन में दशमेश अखाड़ा करनाल और डेरा कार सेवा करनाल की गतका पार्टी के योद्धाओं ने हैरतअंगेज करतब दिखा कर संगत को आकर्षित भी किया। यह नगर कीर्तन कर्ण गेट, कमेटी चौंक, रेलवे रोड, खंडा चौंक, हांसी चौंक, कैथल रोड, गुरुद्वारा श्री गुरु सिंघ सभा प्रेम नगर, न्यू राम नगर, कच्चा कैंप गुरुद्वारा साहिब, काछवा पुल, माल रोड, अस्पताल चौंक, गुरुद्वारा श्री गुरु सिंघ सभा मॉडल टाऊन, नई कचैहरी, निर्मल कुटिया, गुरुद्वारा श्री सुखमणि साहिब सेक्टर-7, सेक्टर-6, मेरठ रोड से होते हुए गुरुद्वारा डेरा कार सेवा कलंधरी गेट में संपन्न हुआ। इस दौरान सिख मिशन द्वारा पुस्तक प्रदर्शनी भी लगाई गई। पुस्तक प्रदर्शनी में गुरलाल सिंह, बूटा सिंह, विजेंद्र सिंह, मलकीत सिंह, सर्बजीत सिंह, जसबीर सिंह, मालिक सिंह व जगतार सिंह ने शिरोमणि गुरुद्वारार प्रबंधक कमेटी श्री अमृतसर द्वारा जारी नानकशाही कैलेंडर, जंतरी, धार्मिक पुस्तकें व श्री गुरु नानक देव जी महाराज के जीवन पर आधारित पुस्तकों को संगत में निशुल्क वितरित किया। 

कविशरी व ढाडी जत्थों ने गुरु साहिब के जीवन इतिहास से संगत को कराया अवगत
नगर कीर्तन के दौरान सिख मिशन हरियाणा के प्रसिद्ध कविशरी जत्था भाई भगत सिंह ने श्री गुरु नानक देव जी महाराज के जीवन से जुड़ी रचनाओं को सुना कर संगत को भाव विभोर कर दिया। कार्यक्रम के दौरान भाई जोरावार सिंह के कविशरी जत्थे ने भी संगत को गुरु इतिहास से जोड़ा। इसके अलावा धर्म प्रचार कमेटी के रघुबीर सिंह ढाडी जत्थे ने भी गुरु साहिब की शिक्षाओं का जिक्र करते हुए संगत को सिख रहित मर्यादा अनुसार जीवन यापन करने के लिए प्रेरित किया। नगर कीर्तन में गुरुद्वारा श्री गुरु सिंघ सभा मॉडल टाऊन करनाल के हजूरी रागी भाई तजिंदर सिंह ने शब्द कीर्तन कर संगत को निहाल किया।
मॉडल टाऊन में संगत व प्रबंधक कमेटी ने उत्साह से किया नगर कीर्तन का स्वागत
गुरुद्वारा श्री गुरु सिंघ सभा मॉडल टाऊन में भारी संख्या में उमड़ी संगत और गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पदाधिकारियों ने नगर कीर्तन का भव्य स्वागत किया। संगत ने पुष्प वर्षा कर श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी महाराज के समक्ष शीश नवाया। प्रबंधक कमेटी की ओर से सुरेंद्रपाल सिंह, राजिंदर सिंह, प्रकाश सिंह, टीपी सिंह, गुरशरण सिंह, प्रद्युमन सिंह, हरप्रीत सिंह, लखबीर सिंह व गुरजीत सिंह ने पंज प्यारों व निशानचियों को सिरोपा भेंट कर उनका अभिनंदन किया।  

नगर कीर्तन की अगुवाई से पहले अरदास करते बाबा सुखा सिंह व एसजीपीसी वरिष्ठ उप प्रधान रघुजीत सिंह विर्क व अन्य।

:

श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी महाराज की सवारी लेकर जाते बाबा सुखा सिंह कार सेवा वाले।

नगर कीर्तन की आरंभता पर पहुंचे एसजीपीसी वरिष्ठ उप प्रधान रघुजीत सिंह विर्क, बाबा गुरमीत सिंह व अन्य। 

नगर कीर्तन के दौरान शब्द कीर्तन करता रागी जत्था।

नगर कीर्तन में सिख मार्शल आर्ट के करतब दिखाते बच्चें।

नगर कीर्तन में श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी महाराज के समक्ष शीश नवाती संगत।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments