6 करोड़ से बने कर्णताल पार्क में इस्तेमाल हुई सामग्री में भ्रष्टाचार के गम्भीर आरोप, डेढ़ साल से टायलेट के गंदे पानी की लीकेज जारी, निगम नहीं दे रहा ध्यान !

6 करोड़ से बने कर्णताल पार्क में इस्तेमाल हुई सामग्री में भ्रष्टाचार के गम्भीर आरोप, डेढ़ साल से टायलेट के गंदे पानी की लीकेज जारी, निगम नहीं दे रहा ध्यान !
  • 5 में से 3 शोरूम में बुरी तरह सीलन होने से दुकानदारो में रोष, सीएम को भेजी शिकायत, विजिलेंस जांच की मांग !

( तिलक राज बंसल )

करनाल

स्मार्ट सीटी करनाल में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा बीते 14 दिसम्बर 2016 को 6 करोड़ की लागत से बने कर्णताल पार्क का शिलान्यास किया गया था ! उस समय कर्णताल के अंदर नगर निगम ने 5 शोरूम बनाकर मासिक किराए के लिए उन्हें आम जनता को बोली के माध्यम से अलाट किया था !

अब इन शोरूम के अंदर पार्क के प्रथम तल पर बने टायलेट का पानी घुसने लगा है और उपर से ये गंदा पानी रिसकर दुकानों के आगे गंदगी और बदबू फैला रहा है! इस वजह से दुकाने बंद हो चुकी है क्योंकि ग्राहक बदबू आने के कारण यहाँ आते ही नहीं !

दुकानदारो ने इस सम्बन्ध में अपनी शिकायत काफी बार नगर निगम अधिकारियो से की है लेकिन उनके कानो में जू तक नहीं रेंग रही! दुकानदारो ने आरोप लगाया है कि कर्णताल के निर्माण कार्य में 6 करोड़ का भारी भरकम बजट खर्च होने के बावजूद शोरूम और टायलेट में घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग किया गया है !

इस मामले में एक शिकायत 7 नवम्बर को सीएम विंडो के माध्यम से मुख्यमंत्री को भी भेजी गई है जिसमे विजिलेंस जांच की मांग के साथ साथ उन अधिकारियो के खिलाफ कार्यवाही को कहा गया है जिनकी मिलीभगत के चलते घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग कर निगम के ठेकदार ने ये निर्माण किया है!

शिकायत में ठेकेदार से किये गए निर्माण कार्य की राशि की रीकवरी की भी मांग की गई ! वहीं रोजाना शाम को इस पार्क में सैर करने वाले अमित, आनंद, सौरभ, दीपिका रानी, मंजू काम्बोज ने कहा कि सरकार चाहे स्वच्छ भारत जैसे कितने ही अभियान चला ले लेकिन जब तक सरकारी व्यवस्था नहीं सुधरती ऐसे अभियानों का तब तक कोई फायदा नहीं ?

उन्होंने कहा कि जनता को जागरूक करने के लिए सरकार मोटा बजट खर्च करती है लेकिन अपनी ही व्यवस्था में सुधार करने में सरकार की कोई दिलचस्पी दिखाई नहीं देती ! उन्होंने कहा कि टायलेट से रिस रहे इस गंदे पानी की बदबू से कई तरह की गम्भीर बीमारियाँ फैलने का खतरा बना हुआ है और जिला प्रशासन को इस तरफ जल्द से जल्द ध्यान देना चाहिए !

अब इस गम्भीर भ्रष्टाचार और घटिया स्तर के हुए निर्माण कार्य में नगर निगम आयुक्त करनाल क्या कार्यवाही करते है

ये देखने वाली बात होगी वहीं जिस तरह सीएम सीटी करनाल में मुख्यमंत्री का विधानसभा क्षेत्र होने के बावजूद अधिकारी व् कर्मचारी सरेआम भ्रष्टाचार को अंजाम दे रहें है उससे सवाल उठता है कि इस तरह के मामलो में हरियाणा सरकार कब गम्भीर होकर कार्यवाही करेगी ?

 

Comments