लोकसभा चुनाव: भाजपा को डेरा प्रेमियों से आस बरकरार, जाटों पर भी भरोसा - सीएम खट्टर

लोकसभा चुनाव: भाजपा को डेरा प्रेमियों से आस बरकरार, जाटों पर भी भरोसा  - सीएम खट्टर

खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का कहना है कि डेरा हमारे बारे में क्या सोचता है ये निर्णय उनको करना है।हम सारे समाज से अपील करते है।

      रिपोर्टर - तिलक राज बंसल

करनाल - 

लोकसभा चुनावों में जाटों और डेरा समर्थकों से भाजपा की वोट लेने की आस अभी भी बरकरार है। भाजपा को उम्मीद है कि जाट और डेरा समर्थक उन्हें वोट देंगे। डेरा प्रेमियों का वोट हासिल करने के लिए भाजपा एक रणनीति के तहत डेरे की राजनीतिक विंग से भी संपर्क साधने में परहेज नहीं करेगी।

इस पर खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का कहना है कि डेरा हमारे बारे में क्या सोचता है ये निर्णय उनको करना है। हम सारे समाज से अपील करते है। चाहे वो कोई संस्था हो या कोई समूह। किस का सहयोग मिल पाएगा किस का नहीं, ये सहयोग देने वाला जानता है।

मुख्यमंत्री के अनुसार लोगों की सोच का दायरा बढ़ा है। वह नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाना चाहते हैं।भाजपा ने कभी हथकंडों की राजनीति नहीं की।दूसरे दलों के मुखिया घबराए हुए हैं। भाजपा में यह घबराहट नहीं है।वहीं उन्होंने कहा कि सरकार ने हिंसा के बाद जाट व गैर जाट दोनों का भरोसा जीतने के काम किए हैं।

भाजपा सरकार का एक समान विकास और नौकरियों में पारदर्शिता के साथ ही बदले की भावना से काम नहीं करने जनता को पसंद आया है। उन्होंने कहा कि पांच नगर निगम और जींद उपचुनाव में भाजपा को गैर जाटों के साथ जाटों ने भी मत दिए हैं।

जाट समुदाय को आरक्षण देने का समर्थन करते हुए मनोहर लाल ने कहा कि हमारे कानून बनाने के बावजूद कुछ लोग आंदोलन पर अड़े रहे। ऐसे लोगों का मकसद आरक्षण नहीं बल्कि प्रदेश व सरकार दोनों को अस्थिर करना था।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments