सिधौली कसमंडा ग्राम पंचायत बरेठी ग्रामीणों ने शौचालय निर्माण आवास और अन्य योजनाओं में ग्राम प्रधान और सचिव पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

सिधौली कसमंडा ग्राम पंचायत बरेठी  ग्रामीणों ने शौचालय निर्माण आवास और अन्य योजनाओं में ग्राम प्रधान और सचिव पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

 नरेश गुप्ता  अमित मिश्रा की रिपोर्ट

सिधौली कसमंडा ग्राम पंचायत बरेठी मैं ग्रामीणों ने शौचालय निर्माण आवास और अन्य योजनाओं में ग्राम प्रधान और सचिव पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप

यूपी में शौचालय निर्माण में  घोटाला, जांच के नाम पर लीपापोती

कसमंडा सिधौली सीतापुर. ताजा मामला  उत्तर प्रदेश के जनपद सीतापुर के  विकास क्षेत्र  कसमंडा के मास्टर बाग अंतर्गत ग्राम पंचायत बरेठी का है जहां स्वच्छ भारत मिशन के तहत यूपी के सभी ग्राम सभाओं को करोड़ों रुपए की सौगात देकर शौचालय निर्माण कर पूरे प्रदेश को खुले से शौच से मुक्त करने का दावा तो किया गया, मगर जमीनी हकीकत काफी अलग है । यूपी के कई जिलों में शौचालय निर्माण में जमकर घोटाला किया जा रहा है, लेकिन अधिकारी मौन साधे हुए हैं ।

 

यह भी पढ़ें:

योगी आदित्यनाथ के राज में शौचालय निर्माण में  ग्राम प्रधान ने लाभार्थियों को नहीं दी पूरी धनराशि


उत्तर प्रदेश के जनपद सीतापुर के विकासखंड कसमंडा की ग्राम पंचायत बरेठी  गांव में शौचालय निर्माण आवास और अन्य योजनाओं में ग्राम प्रधान और सचिव पर लाभार्थियों ने पूरी धनराशि ना देने का आरोप लगाया है ग्रामीणों के बताए स्वच्छ भारत मिशन के तहत पात्र लाभार्थियों को शौचालय निर्माण हेतु निर्धारित धनराशि ₹12000 का भुगतान ना देकर महज ₹10000 दिए गए इसके अलावा बहुत से लाभार्थियों का शौचालय निर्माण कार्य ग्राम प्रधान के द्वारा कराया गया ग्रामीणों ने जानकारी देते हुए बताया के स्वच्छ भारत मिशन के तहत दिए गए शौचालयों में घटिया सामग्री का उपयोग किया गया जिससे 1 साल के अंदर ही सारे शौचालय उपयोग विहीन हो गए कई शौचालय तो ऐसे हैं जिनमें सीटें ही नहीं रखी गई तो कई शौचालय ऐसे भी हैं जिनकी छत गायब थी अशिक्षित और मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण  करने वाले  मजदूर और  किसानों  के अनुसार । शिकायत के बाद भी विभागीय अधिकारी मौन साधे हुए हैं।  जांच के नाम पर विभाग लीपापोती करने में जुटा है।

यह भी पढ़ें

ग्राम सभाओं में करोड़ों रुपया शौचालय के नाम पर दिया गया और उन शौचालयों का वेरीफिकेशन और मानक के अनुसार बने होने का दावा कर उसकी रिपोर्ट शासन को भेज दी गई, जबकि जमीन पर कुछ काम नहीं हुआ । सीतापुर जिला मुख्यालय से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर बसे बरेठी ग्राम सभा में  शौचालय बनने को आए थे लेकिन शौचालय निर्माण के नाम पर घूसखोरी व भ्रष्टाचार किया गया। आज भी ग्रामीण शौच के लिए खुले स्थानों का प्रयोग कर रहे हैं । ग्राम वासियों के अनुसार संबंधित विभाग के आला अधिकारियों ने कभी मौखिक मोइना नहीं किया आश्चर्य है कि ग्राम पंचायत बरेठी में बड़े पैमाने पर सरकारी योजनाओं में भ्रष्टाचार  अपितु विभाग के आला अधिकारियों  के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रहा है ।

 

यह भी पढ़ें:

शौचालय निर्माण से परेशान हुए लोग, कहीं छत नहीं तो कहीं दरवाजे का आभाव

Comments