जनप्रतिनिधियों को मुंह चिढ़ाती इंडिया मार्का शुद्ध पेयजल व्यवस्था

जनप्रतिनिधियों को मुंह चिढ़ाती इंडिया मार्का शुद्ध पेयजल व्यवस्था
  • -- ग्रामप्रधानों का आरोप फंड की व्यवस्था नही पंपों के जीर्णोद्धार के लिए जिलाधिकारी कराएं धन की व्यवस्था

 

कुशीनगर

विशुनपुरा विकासखंड क्षेत्र में इंडियन मार्का हैंडपंपों की हालत बहुत दयनीय हो गई है।वर्षो से खराब पड़े हैंडपंपों की दयनीय दशा पर जल निगम विभाग हो या जिम्मेदार कोई ध्यान देने वाला नहीं है।विकासखंड में सैकड़ों हैंड पंप वर्षों से बंद पड़े हुए हैं अगर कुछ चालू अवस्था में है भी तो कुछ का फर्श टूट गया है तो कुछ से गंदे पानी निकल रहे हैं तथा कुछ पंपों का फर्श जमीन लेवल से एक फुट नीचे हो गया है। सरकार द्वारा तय किया गया

कि इंडियन मार्का हैंडपंपों की मरम्मत व रखरखाव जल निगम विभाग से न कराकर ग्राम सभा के प्रधान करेंगे। परंतु स्वच्छ पेयजल व्यवस्था का एकमात्र साधन इंडियन मार्का हैंडपंप प्रधानों द्वारा इस कदर उपेक्षित है कि शिकायत करने पर प्रधान कहते हैं कि फंड में पैसा ही नहीं है। अपने पास से मरम्मत कराए कई ग्राम सभा के लोग इसकी शिकायत विभाग में भी कर चुके हैं ।मगर उनको कोई संतोषजनक परिणाम नहीं मिला और जहां सब कुछ ठीक है

वहां जल निकासी की समस्या है।बहुत से इंडियन मार्का हैंडपंप ऐसे हैं जहां जल निकासी की समस्या को लेकर लोग उसका प्रयोग कम कर रहे हैं। दर्जनों ग्राम सभा के ग्रामीणों के अनुसार विशुनपुरा विकासखंड में पेयजल की समस्या गहराती चली जा रही है।जनप्रतिनिधियों की उपेक्षात्मक गैरजिम्मेदार रवैया के चलते ग्रामीण जनता दूषित पानी पीने के लिए मजबूर हैं।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments