कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि प्रसार वैज्ञानिकों ने दी ग्रामीणों को जानकारी

कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि प्रसार वैज्ञानिकों ने दी ग्रामीणों को जानकारी

                 रिपोर्टर - सुनील विश्वकर्मा

कुरारा,हमीरपुर-

कुरारा विकास खंड क्षेत्र के गांव बरुआ में कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि प्रसार वैज्ञानिक द्वारा  कृषि प्रसार तकनीक को बढ़ावा देने के लिए किसानों के प्रेक्षेत्रों का भ्रमण के साथ-साथ समसामयिक तकनीकी ज्ञान त्वरित खेत में हस्तांतरित किया।

कृषि विज्ञान केंद्र कुरारा के वैज्ञानिक डॉ एस पी सोनकर ने किसानों के खेत में तकनीकी सलाह देते हुए अपील किया कि वर्तमान समय में मौसम में उतार-चढ़ाव हो रहा है ऐसी स्थिति में कीट व्याधि का प्रकोप से फसलों को बचाने के लिए निरंतर निगरानी रखें तभी गुणवत्ता युक्त उत्पादन को बढ़ा पाएंगे

उन्होंने प्रगतिशील कृषक रवि व करन के खेत का सघन निरीक्षण किया डॉक्टर सोनकर ने अरहर की फसल के निरीक्षणोंपरांत बताया कि इसमें पत्तियों में जाल बना हुआ है जिसमें दो या तीन पत्तियां आपस में चिपकी हुई हैं उनको जब अलग कर किसान को दिखाया तो उसमें अंडा व छोटी इल्ली थी।

जिसे किसान देखकर दंग रह गए यह छोटी सी इल्ली पत्तीयो को खाकर बड़ी हो जाती है जब फलियां बनती हैं तो फलियों को भी खाती है और फलियों के अंदर ही अपना जीवन चक्र चलाती है जिससे किसान भाइयों को फसल उत्पादन में कमी के साथ-साथ आर्थिक क्षति होती है

उन्होंने पत्ती लपेटक व फलीबेधक कीड़ा के रोकथाम के लिए मोनोक्रोटोफॉस 36 ईसी 1.25 एमएल प्रति लीटर की दर से छिड़काव करने को कहा। डॉक्टर  सोनकर ने भ्रमण के दौरान किसान भाइयों से कहां किसान भाई किसी भी स्थिति में पराली ना जलाये । शासन व जिला प्रशासन के आदेशों की अवहेलना करने पर प्राथमिकी दर्ज होगी। उन्होंने पराली के समाधान व समायोजन के लिए कई महत्वपूर्ण टिप्स दिए।

Comments