दूध में जमकर चल रही मिलावटखोरी, जहर सरीखा दूध पी रहे हैं नगरवासी

 दूध में जमकर चल रही मिलावटखोरी, जहर सरीखा दूध पी रहे हैं नगरवासी

  नरेश कुमार गुप्ता

लहरपुर : दूध में जमकर चल रही मिलावटखोरी, जहर सरीखा दूध पी रहे हैं नगरवासी

रेट पर भी नहीं है कोई लगाम, डिमांड के अनुसार दो से तीन गुना तक बढ़ जाता है रेट

-मिलावटखोरों पर नहीं होती प्रॉपर कार्रवाई, सिर्फ त्योहारों के आसपास होती है खानापूर्ति

रिपोर्ट एहतिशाम बेग

लहरपुर/सीतापुर
बच्चों के लिए दूध कितना जरूरी है, ये बताने की जरूरत नहीं मगर ये दूध अगर बच्चे की सेहत बनाने के लिए उसकी जान के लिए खतरा बन जाए तो चिंतित होना लाजिमी है। जी हां, इस लहरपुर नगर में जो दूध बिक रहा है, उसकी जहरीली सच्चाई जानकार आप भी यही कहेंगे कि ऐसे दूध से अच्छा तो बच्चा बिना दूध के ही रहे। बच्चे ही क्यों, सभी की भलाई इसी में है कि यूरिया-डिटर्जेट मिले इस दूध से दूर ही रहे। तो आज हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि दूध के नाम पर किस तरह जहर बेच रहे हैं मौत के सौदागर?

बच्चे ऐसे दूध बिना ही अच्छे

इस नगर में हर घर तक दूध जरूरत के मुताबिक नहीं पहुंच पा रहा है। घर में दुधमुंहे बच्चे का पेट भरने के लिए दूध तलाशते माता-पिता बाजार में भटकते रहते हैं लेकिन दूध नहीं मिलता। कहीं दूध मिलता भी है तो पानी की तरह और कहीं भाव आसमान छूता रहता है। इसकी वजह साफ है। दूध की डिमांड बढ़ती जा रही है और प्रॉडक्शन घटता जा रहा है। इसका पूरा फायदा दूधिए उठा रहे हैं। वह लोगों को दूध के बदले जहर पिला रहे हैं। इसका खुलासा दूध के लिए नमूनों से कर लिया जाए तो सब साफ हो जाएगा । 

सफेद दूध धोखा है

मिल्क और मिल्क प्रॉडक्ट्स के नमूनों की प्रयोगशाला में जांच के बाद पता चलेगा कि नगर में बिकने वाले दूध में ऐसा कुछ मिलाया जा रहा जो इंसान की सेहत के लिए बेहद खतरनाक होता है। दूधिए दूध में यूरिया मिलाते हैं। इससे दूध इस भीषण गर्मी में भी बिना गर्म किए खराब नहीं होता है। दूध में डिटर्जेट भी मिलाया जाता है। इससे दूध गाढ़ा नजर आता है। वहीं वॉइटनर से दूध की वॉइटनेस को बढ़ा दिया जाता है। आमतौर पर मंडियों में लाकर बेचने वाले दूधिए इनका जमकर इस्तेमाल करते हैं। उन्हें देर तक मंडी में रहना होता है। ऐसे में दूध को खराब होने से बचाना जरूरी है। यहां दूध लेने आने वाले इसकी वॉइटनेस और गाढ़ापन देखकर कीमत तय करते हैं। यह काम मिलावट आसानी से कर देता है।

ऐसे करते हैं मिलावटी दूध तैयार

-सिटी की मंडियों में पहुंचने वाला ज्यादातर दूध आसपास के गांवों से आता है

-दूधिए साइकिल, बाइक और मालवाहक पर लादकर लाते हैं

-दूध को निकालने के बाद मंडी लाने से पहले यूरिया मिलाया जाता है

-जब तक वह मंडी में पहुंचता है तब तक यूरिया पूरी तरह दूध में घुल जाता है और दूध गाढ़ा हो जाता है

-दूध में डिटर्जेट मिलाने का काम उसे बेचने से थोड़ा पहले किया जाता है

-इससे कस्टमर को गाढ़ापन नजर आता है

-वॉइटनर के इस्तेमाल से पहले दूध में जमकर पानी मिलाया जाता है

-दूधिए खुद भी मिलावटी दूध तैयार करते हैं और मंडी में मौजूद एक्सप‌र्ट्स की हेल्प भी लेते हैं

-मिलावटी दूध तैयार करने के लिए मात्रा का ध्यान रखना जरूरी है नहीं तो दूध के रंग में काफी अंतर होगा

डिमांड अधिक सप्लाई है कम

मिलावट की वजह दूध की अधिक डिमांड है

-लहरपुर में दूध की जितनी डिमांड है उस हिसाब से सप्लाई नहीं हो पाती है

-आसपास के जिले के अलावा कई दुग्ध सहकारी समितियों का भी प्रॉडक्ट भी यहां पहुंचता है

-आम दिनों में रमज़ान व लस्सी के दिनों में डेली लगभग कई हज़ार लीटर दूध की डिमांड होती है

-तेज लगन और त्योहार में यह बढ़कर 30 से 40 हज़ार लीटर तक पहुंच जाती हैं

-नगर में डेली 20 से 30 हज़ार लीटर दूध ही पहुंचता है

-नगर में आने वाला दूध आसपास के दो सौ गांवों से पहुंचता है

-नेवादा, लच्छन्नगर, दानियलपुर, लालपुर, मातानपुरवा, लहरपुर में मौजूद ग्रामीण यहां दूध की सप्लाई करते हैं ।डिमांड बढ़ने के साथ रेट दो गुना से तीन गुना होने में वक्त नहीं लगता। 40 से 50 रुपये लीटर तक पहुंच गयी है। दूध की वजह से मिठाइयों के भाव आसमान में छूने लगे हैं।

अभी और बढ़ेगी डिमांड

रमजान और लगन की वजह से अभी दूध की काफी डिमांड है। इसकी चलते रेट भी तेज है।  में वहीं सावन शुरू के बाद तो दूध की जबरदस्त डिमांड हो जाएगी। शिव मंदिरों में चढ़ने और व्रत में इस्तेमाल करने के लिए लोग थोड़ा दूध भी पाने को परेशान रहते हैं। उस वक्त दूध की कीमत सौ रुपये प्रति लीटर पार कर जाने की उम्मीद है।

हर कोई होगा परेशान

-दूध की किल्लत से सबसे अधिक हाउस वाइफ परेशान होती हैं

-घरों में बच्चों को पिलाने के लिए दूध नहीं मिल पाता है

-मेहमानों का स्वागत चाय से नहीं हो पाता है

-पॉली पैक या मिल्क पाउडर का इस्तेमाल महंगा पड़ता है

-लहरपुर में मौजूद पांच हजार छोटी-बड़ी चाय की दुकानों पर चाय मिलनी मुश्किल हो जाती है

-मिल्क और मिल्क प्रॉडक्ट्स की दुकानों पर कस्टमर कम हो जाते हैं

सेहत का है दुश्मन

दूध में मिलावट का खेल इंसान की सेहत पर भारी पड़ता है। मिलावटी दूध के सेवन से पेट की प्रॉब्लम हो सकती ही। लीवर और किडनी पर बैड इफेक्ट होता है। दूध में डिटर्जेट मिलाने से डाइजेस्टिव सिस्टम इफेक्टिव होता है। वॉइटनर लीवर और किडनी के लिए खतरनाक है। वहीं यूरिया तो कैंसर का कारण बन सकता है। दूध में मिलावट का खेल इतनी बारीकी से होता है कि आमतौर पर पहचाना मुश्किल होता है। सिर्फ उसके स्वाद और रंग से पहचान हो पाती है। मिलावटी दूध का स्वाद मीठा के बजाय कड़वा होता है। गर्म करने पर रंग नेचुरल हल्का पीला के बजाय सफेद ही रहता है।

नहीं हो रही कार्रवाई

मिलावटखोरों पर लगाम लगाने की जिम्मेदारी खाद्य सुरक्षा और औषधि प्रशासन विभाग की है। वह इस ओर विशेष ध्यान नहीं देता है। मिलावटी मिल्क और मिल्क प्रॉडक्ट की शिकायत लगातार आती है। इसके बाद भी नगर की दूध सट्टियों में छापेमारी नहीं हो रही है। सिर्फ त्योहार के आसपास दो-चार दिन के लिए कार्रवाई की जाती है। वह भी महज औपचारिकता के तौर पर। इसका पूरा फायदा मिलावटखोर उठा रहे हैं।

यह तो बड़ा ही शॉकिंग है। दूध में मिलावट हो रही है। हम बच्चों को दूध सेहत बनाने के लिए देते हैं यह तो सेहत बिगाड़ देंगे।
दूध के कीमत पर कोई लगाम नहीं है। जब चाहा मनमाना बढ़ा दिया। जब चाहा क्राइसिस क्रिएट कर दिया। इसके लिए नियम बनना चाहिए।
मिलावटखोरी की शिकायत के बाद भी दूधियों पर कार्रवाई नहीं होती है। दूध सट्टियों में खुलेआम मिलावटी दूध की बिक्री होती है।
रमजान और सावन में दूध की डिमांड सबसे अधिक होती है। इस वक्त जरूरत के मुताबिक नहीं मिल पाता है। मिलता है भी तो काफी मंहगा।
मिलावटखोरों पर लगाम लगाने के लिए विभाग की ओर से औपचारिकता के तौर पर  कार्रवाई की जाती है। अब देखना यह है कि प्रशासन कब तक जनता की सेहत को बिगड़ते हुए देखता है । कब इन मिलावटखोरों पर अंकुश लगाएगा।।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments