लहरपुर में डेंगू का कहर नगर पालिका बेपरवाह

लहरपुर में डेंगू का कहर नगर पालिका बेपरवाह

लहरपुर में डेंगू का कहर नगर पालिका  बेपरवाह

        संवाददाता - एहतिशाम बेग

लहरपुर-

रसात खत्म होते ही जिले में डेंगू बीमारी का कहर जारी हो गया है। जिले में अब तक सैकड़ों  से अधिक लोग डेंगू बीमारी से संक्रमित हो चुके है डेंगू मरीजों को संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा ही रही है।

लहरपुर नगर के करीब आधे से अधिक मोहल्लों में अभी भी जल-जमाव व गंदगी होने के कारण डेंगू मरीजों की संख्या और बढ़ने की संभावना है.जिसमे बागवानी टोला में डॉक्टर मोबीन के घर के पीछे तालाब का का गंदा पानी सड़क पर कई माह से भरा हुआ है

और उसी दिन से उस मार्ग का आवागमन बन्द है नगर पालिका को लिखित शिकायत भी की गई परन्तु अभी तक वहां अधिशासी अधिकारी से लगागर कर्मचारी तक नही पहुंचा जिससे वहां करीब 5 जे 6 लोग डेंगू की चपेट में आ चुके हैं।

नगर पालिका द्वारा फॉगिंग तो एक बार करायी गयी। लेकिन सिर्फ अपनी कागज़ी कार्यवाही पूरी करने के लिए केमिकल , फॉगिंग मशीन में कमीशन खोरी कर नगर को डेंगू जैसी बीमारी की तरफ ढकेल दिया गंदगी व जल-जमाव की स्थिति काफी भयावह है।

  डेंगू बीमारी से संक्रमित अधिकांश मरीज निजी जांच घरों में ही जांच करवा रहें है. जब बीमारी का पता चल रहा है तो सीतापुर या लखनऊ इलाज कराने के लिए चले जा रहें हैं. लहरपुर में डेंगू लगातार पैर पसार रहा है।

हर दिन नए मरीज सामने आ रहे हैं। इस गंभीर बीमारी को लेकर स्वास्थ्य अमले की लापरवाही भी देखने में आ रही है। अव्यवस्था के चलते बीमारी और इसे फैलाने वाले मच्छरों की रोकथाम नहीं हो पा रही है।

वहीं नगर के हर घर में कोई न कोई इसकी चपेट में हैं।इसके बावजूद स्वास्थ्य अमला अब तक यहां नहीं पहुंचा है। लहरपुर में नगर पालिका ने सर्वे के लिए अभी तक टीम ही नहीं बनाई है। शासन के प्रतिनिधि तक इससे कोई मतलब नही ।


नगर पालिका के बाबुओं का कहना है कि अभी तक स्वास्थ्य विभाग यानी सीएमओ का उनको पत्र नही मिला है। जिससे हम कोई ठोस कदम उठाएं। जब सिलसिले में सीएमओ से संपर्क साधा गया तो फ़ोन बन्द मिला अब सवाल यह उठता है कि आम नागरिक जाए तो कहां जाए वोट मांगने वालों के पास तो नगरी समस्या से निपटारे के लिए टाइम नही है।

या फिर यूं कह लें कि अभी जनता के सामने हाँथ जोड़ने और भीख मांगने का समय नही आया ।
पीड़ित लखनऊ के अस्पतालों में भर्ती हैं। स्वास्थ्य विभाग बेखबर है, उसके पास कोई रिकॉर्ड नहीं है। लहरपुर स्वास्थ्य केंद्र की स्थिति भी दयनीय है। जांच के लिए अभी तो कैम्प तक नही लगा है बीमारी की रोकथाम के लिए कोई टीम गठित नहीं की गई, जो लोगों को इससे बचने के लिए जागरूक कर सके।

नगर में गंदगी पसरी है, जिससे बीमारी का खतरा बढ़ रहा है। नगर पालिका ने सर्वे के लिए टीम ही नहीं बनाई। तहसील में डेंगू को लेकर समाचार पत्र फॉगिंग के लिए खबरें मेरे द्वारा प्रकाशित की गई ख़बर छपने के बाद सिर्फ खानापूर्ति की गई फिर पुनः वही स्थिति नगर में बनी है।

लहरपुर में डेंगू ने पेर पसार रखे हैं। नगर में अब तक मरीजों की संख्या दहाई पार कर चुकी है। सर्वे करा लिया जाए तो अधिकांश मरीज़ मिलने की संभावना है ।इनमें से अधिकांश मरीजों का उपचार सीतापुर और लखनऊ में चल रहा है।

Comments