फसल मेंं लगी आग किसान हुआ बर्बाद

फसल मेंं लगी आग किसान हुआ बर्बाद

फसल मेंं लगी आग किसान हुआ बर्बाद

आग लगने से ट्रेक्टर ट्राली थे्रसर व फसल हुयी जलकर नष्ट 

किसान पहुंचा बर्बादी की कगार पर

जखौरा। 

बुन्देलखण्ड के किसान और देवीय आपदाओं का चोली-दामन का साथ रहा है। इस बार अन्न दाता  प्रसन्न था इस बार कोई भी प्राकृतिक हानि नही हुयी, जिस कारण रवि की फसल की पैदावार अच्छी हुयी। जनपद ललितपुर मेंं अन्ना जानवरों के प्रकोप से निजात दिलाने के लिये जिलाधिकारी मानवेन्द्र ङ्क्षसह ने कल्यानपुरा मॉडल गौवंश आश्रम खोला जिसकी सफलता के बाद पूरे प्रदेश मेंं जगह-जगह गौवंश आश्रय स्थल खुलवाये जाने लगे।

ललितपुर मेंं भी अनेक गौवंश आश्रय स्थल निर्माणाधीन है जिनमें जानवरों के लिये भूसे का प्रबंध करना प्रशासन के लिये  चुनौती पूर्ण साबित हो रहा है। जिसके लिये प्रशासन ने बिना रीपर के हार्बेस्टर चलाने पर रोक लगा दी है। जिससे किसानों को अनेक कठनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। बड़ते तापमान के कारण फसलें सूख गयी है। और गेंहू की बारियां खेत मेंं झड़ रही है। जगह-जगह आगजनी की खबरें की आ रही है। इसमें किसानों की खड़ी फसल नष्ट हो रही है।

ऐसा ही एक मामला कस्बा जखौरा के मजरा लखना में मे आज लगभग 4 एकड के खेत मे गेहू की फसल की थ्रेसर हो रही थी। किसान की नई थ्रेसर आई थी जिसका वह पूजन कर रहा था इसी दौरान अगर बत्ती लगाकर उसने गेंहू की ढेर के पास मिट्टी के डेले के पास अगरबत्ती लगा दी  हवा से अगरबत्ती से चिंगारी निकलकर गेंहू के ढेर पर जा गिरी थी। जिससे देखते ही देखते आग लग गयी। किसान जब तक कुछ समझ पाता आग ने विकराल रूप धारण कर लिया।

पास के किसान भी मद्द के लिये आये लेकिन आग बहुत बड़ चुकी थी और आग बुझाने के लिये किसानों के पास की उपाय नही था। कृषक भजनलाल, प्यारेलाल ने चिल्लाना शुरू कर दिया। सभी  मिलजुल आग को बुझाने का प्रयास करने लगे आग की लपटे इतनी तेज थी की  ट्रेक्टर ट्रोली ओर थ्रेसर को भी आग की लपटो ने अपनी आगोस मे ले लिया  टेक्टर ट्राली ओर थ्रिरेसर धु धु कर जलने लगी ओर भजनलाल भी आग की चपेट मे आगर आग बुझाते समय उस भीषण आग की चपेट में आ गया ।

जिसे तत्काल उपचार के लिये भेजा। ट्रेक्टर मालिक राजाराम ओर प्यारे लाल  दोनों चाचा भतीजे है । गांव वालों ने 100 नंबर और फायर ब्रिगेड को  सूचना दी जिससे फायर ब्रिगेड और 100 नंबर तत्काल मौके पर पहुंची और फायर ब्रिगेड काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। लेकिन किसान पूर्ण रूप से बर्बाद हो चुका था। उसकी फसल, ट्रेक्टर-ट्राली, थ्रेसर सब कुछ आग मेंं जलकर जष्ट हो गया । जिससे उसके सामने अपने परिवार के भरण पोषण  व आर्थिक संकट  व अनेकों कठनाईयां सामने आ गयी है। 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments