कोतवाली क्षेत्र में दबंगों ने रात भर मचाया आतंक

कोतवाली क्षेत्र में दबंगों ने रात भर मचाया आतंक

कोतवाली क्षेत्र में दबंगों ने रात भर मचाया आतंक
दबंगों के पक्ष में कोतवाल राजीनामा का बना रहे दबाब
पीडि़तों को कोतवाली में न्याय न मिलने के कारण न्यायालय की ले रहे शरण
ललितपुर। ravi shankar sen

कोतवाली क्षेत्र में दबंगों का आतंक दिन व दिन बढ़ता जा रहा है। कोतवाली पुलिस पीडि़तों पर दबाब बनाकर दबंगों के पक्ष में राजीनामा कराने का प्रयास किया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला ग्राम सिलगन का प्रकाश में आया है, जहाँ पर दबंगों ने एक 60 वर्षीय वृद्ध को बन्धक बनाकर पीटा साथ ही उसके कुँये पर निर्मित झोपड़ी को भी आग लगा दी।

तो वहीं पीडि़त ने कोतवाली पुलिस को सूचना दी, तो खबर लिखे जाने तक कोई कार्यवाही अमल में नहीं लायी गयी। इस के अलावा एक छात्र के साथ मारपीट में भी पुलिस का रूख स्पष्ट नजर नहीं आ रहा है। यही कारण है कि पीडि़तों को न्याय के लिए अधिकाँश मामलों में न्यायालय की शरण लेनी चाहिए। 


थाना कोतवाली अन्तर्गत ग्राम कम्मोद पुत्र मोहनलाल ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि वह अपने खेत पर निवास करता है। बीती रात्रि करीब 9:30 बजे गांव के ही दबंग वहाँ पर आ गये, उसे कच्ची शराब से भरी 20 लीटर की कुप्पी छुपाने के लिए दबाब बनाया गया। जब कम्मोद नहीं माना तो उसके साथ मारपीट की, यही नहीं उसका कुआँ पर रखा इंजन पानी में फेंक दिया, साथ ही उसकी झोपड़ी में भी आग लगा दी। यही नहीं उसके परिजनो को भी जान से मारने की धमकी दी।

वह किसी तरह से वहाँ ने निकलकर घर आया। तो दबंग घर पर भी पहुँच गये और वहाँ पर रखी मोटर साइकिल को भी तोडफ़ोड़ कर डाली। साथ पुलिस से शिकायत करने पर झूठे मुकद्दमें फंसाने व जानमारने की धमकी दी। जब सुबह पीडि़त कोतवाली में अपनी व्यथा लेकर पहुंचा, तो उसको न्याय दिलाने के लिए मामला दर्ज करने के बजाये कोतवाली निरीक्षक दबंग के पक्ष में राजीनामा का दबाब बनाने लगे। पीडि़त ने पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगायी है। 

छात्र को पीटा, पुलिस ने नहीं की कार्यवाही


थाना केातवाली अन्तर्गत मोहल्ला सरायपुरा निवासी संजीव कुमार पुत्र जिनेश्वरदास ने पुलिस को दिये प्रार्थनापत्र में बताया कि बीते रोज उसका 18 वर्षीय पुत्र यश कोचिंग पडऩे जा रहा था। कि रास्ते में उसकी मोटरसाइकिल एक साइकिल से टकरा गई। जिस पर उसके परिजन वहाँ आ गये, और उसके पुत्र को बंधक बनाकर मारपीट करने लगे।

इसके बाद सूचना मिलने पर वह लोग पहुंचे, तो उसे छोड़ा, साथ ही शिकायत करने पर जान मारने की धमकी देने लगे। जब इसकी सूचना पुलिस को दी गयी, तो पुलिस ने कार्यवाही करने के बजाय पीडि़त को ही फटकार लगाकर कोतवाली से रवाना कर दिया। पीडि़त ने पुलिस अधीक्षक से कार्यवाही की गुहार लगायी है।

न्यायालय के आदेश पर हरिजन उत्पीडऩ का मामला दर्ज


कोतवाली में पीडि़तों का उत्पीडऩ लगातार हो रहा है, आलाधिकारियों को जानकारी के बावजूद भी कोई कार्यवाही अमल में नहीं लायी जा रही है। जिस कारण प्रभारी निरीक्षक का मनोबल बढ़ा हुआ है, और वह नियमित पीडि़तों का उत्पीडऩ कर रहे हैं।

ऐसा ही एक मामला दो माह पूर्व का प्रकाश में आया है, जहाँ पर पुलिस ने न्यायालय के आदेश के पश्चात मामला दर्ज किया है। थाना कोतवाली अन्तर्गत ग्राम महरौनी खुर्द पीडि़ता मीरा पत्नी वीर सिंह सहरिया ने न्यायालय को दिये प्रार्थनापत्र में बताया कि बीते 6 मार्च को उसके घर गाँव के ही माखन अपने साथ दो अन्य लोग उसके घर पर आये और गाली गलौच कर मारपीट करने लगा। जब चीख पुकार सुन आस-पास के लोग आये, तो वे जान से मारने की धमकी देते हुये भाग खड़े हुये।

पीडि़ता ने घटना की सूचना कोतवाली पुलिस को दी, जहाँ पर उन्हें न्याय की जगह फटकार ही मिली। इसके बार पीडि़ता ने न्यायालय की शरण ली, न्यायालय के आदेश पर आरोपियों के कोतवाली पुलिस ने धारा 452, 323, 506, 504 में मामला दर्ज कर लिया है। 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments