आग की चपेट में आकर वृद्ध दंपत्ति की मौत

आग की चपेट में आकर वृद्ध दंपत्ति की मौत

आग की चपेट में आकर वृद्ध दंपत्ति की मौत

जलती मोमबत्ती गिरने से हुए घटना, भीख मांगकर करते से जीवन यापन

छह वर्षो से कॉलोनी बासी जी रहे नरकीय जीवन

 

ललितपुर। अंतिम कुमार जैन/विकाश त्रिपाठी

 

भले सभी राजनैतिक दल सत्ता में आने के लिए जनता के हितों में काम करने का वादा करते हो पर हकीकत कुछ और ही है, राजनैतिक दल सत्ता में आने के बाद  जहां पिछली सत्ताधारी पार्टी के कार्यकाल में हुए निमार्ण कार्यो को पूरा करने की बजय अपनी सरकार की नई योजनाओं में जुट जाते है, जनहित की योजनाओं पर कार्य नहीं करते हैं। यही नहीं पूर्व सरकार की योजनाओं का लाभ प्राप्त लाभार्थियों को प्रतिशोध की नजर से देखते हैं। इस की एक वानगी हाल में गल्ला मंडी चौकी क्षेत्र में स्थित एक काशीराम कॉलोनी में देखने को मिली जहां कॉलोनी का निमार्ण हुए भले ही छह वर्ष हो गए हो पर वहां पर रहने वाले करीव पांच सौ लोग आज भी नरकीय जीवन जीने को मजबूर है, लाईट के अभाव में कॉलोनी में रहने वाले एक वृद्ध दंपत्ति की आग की चपेट में आकर दर्दनाक मौत हो गई, वृद्ध दंपत्ति भींख मांगकर अपना जीवन यापन करते थे। इस दर्दनाक हादसे के पीछे का कारण कॉलोनी में लाईट की व्यवस्था न होना सामने आया जिसके कारण रात में जल रही मोमबत्ती गिर जाने से वृद्ध दंपत्ति की मौत हो गई। सूचना पर पुलिस ने शव को कब्जें में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गल्ला मंडी के पीछे स्थित आर एम वी कॉलेज के पास वनी काशीराम कॉलोनी निवासी मोहम्मद अली उम्र 65 वर्ष अपनी अंधी पत्नी मुकर्रम उम्र 60 वर्ष के साथ भींख मांगकर जीवन यापन कर करीव चार वर्ष से काशीराम कॉलोनी में निवास करते चले आ रहे थे, कॉलोनी को वने भले ही छह वर्ष हो गए हो पर आज भी वहां पर रहने वाले लोग विना विद्युत संयोजन के रहने को मजबूर है, रविवार रात जब वृद्ध दंपत्ति अपने कमरे में सौ रहे थे, तभी अचानक वह आग की चपेट में आकर गंभीर रूप से झुलस गए, सुबह जब पडोसियों ने कमरे से धुवा निकलते देख वह जब अंदर गए जहां उन्होने वृद्ध दंपत्ति को आग की चपेट में गंभीर रूप से झुलसा देख उपचार के लिए जिला अस्पताल लाये जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पडोसियों ने बताया कि वृद्ध दंपत्ति के परिवार में कोई नही था, वह अकेले ही निवास करते थे।

बाक्स . . . . . 

अंधेर नगरी चोपट राजा

काशीराम कॉलोनी में करीव पांच सौ लोग निवास करने के बाद भी इस और किसी जनप्रतिनिधी व जिला प्रशासन का इस और कोई ध्यान नही है, चुनाव आते ही राजनैतिक पार्टी के लोग कॉलोनी में निवास कर रहे लोगो के पास अपने नेता के लिए वोट मांगने के लिए उनके दरवाजे पर पहुंच कर उन्हें सपने दिखाकर भ्रमित करने का काम करते है, करीव छह वर्षो से काशीराम कॉलोनी में रहने वाले लोग आज भी विद्युत संयोजन, जल आपूर्ती व संपर्क मार्ग से बंचित बने हुए है। वारिश के मौसम में कॉलोनी में रहने वाले लोगो को कीचड़ में होकर जाने के लिए मजबूर होना पड़ता है, हाकीकत तो यह है कि आज भी काशीराम कॉलोनी में रहने वाले लोग नरकीय जीवन जीने को मजबूर वने हुए है।

बाक्स . . . . . 

एक बर्ष पूर्व किया था प्रर्दशन

कॉलोनी में रहने वाले लोगो ने विद्युत व्यवस्था काशीराम कॉलोनी में न होने के चलते प्रदर्शन किया था, लोगो के आक्रोश को देख जिलाधिकारी ने अधिशाषी अभियंता विद्युत को तत्काल प्रभाव से विद्युत आपूर्ती करने के निर्देश दिए थे, परंतु महिनों व साल वीत जाने के बाद भी पूर्व में एक जिलाधिकारी के आदेश देने के बाद भी अपनी उदासीनता के लिए माने जाने वाले विद्युत विभाग के अधिकारी के कानों पर जू भी नही रेगा।

Comments