जिलाधिकारी ने दो लापरवाह लेखपाल को किया निलम्बित

जिलाधिकारी ने दो लापरवाह लेखपाल को किया निलम्बित

जिलाधिकारी ने दो लापरवाह लेखपाल को किया निलम्बित


डीम व एसपी ने मड़ावरा व मदनपुर थानों में लोगों की सुनी समस्यायें


जनपद के समस्त थानो में आयोजित थाना समाधान दिवस


मड़ावरा,ललितपुर।Imran khan/ 

जिलाधिकारी ने माह के तीसरे शनिवार को आयोजित होने वाले थाना दिवस में थाना मड़ावरा व मदनपुर में लोगों की समस्यायें सुनी, थाना दिवस में अधिकाँश जमीनी सम्बन्धी मामले ही सुने जाते हैं, इसलिए किसानों की उपस्थिति बहुसंख्या में होती है।

किसानों के आवंटित पट्टों पर कब्जा न कराने के आरोपों में दो लेखपाल को जिलाधिकारी ने तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया है। जिलाधिकारी की इस कार्यवाही से लापरवाह लेखपालों में हडक़म्प मचा हुआ है।


शासन द्वारा प्रत्येक माह के प्रथम एवं तृतीय शनिवार को जनपद के समस्त थानों में थाना समाधान दिवस आयोजित कर जनता की समस्याओं के त्वरित निस्तारण के निर्देश प्राप्त हैं। निर्देशों के क्रम में शनिवार को जनपद के समस्त थानों में थाना समाधान दिवस का आयोजन किया गया। जिलाधिकारी योगेश कुमार शुक्ल एवं पुलिस अधीक्षक कैप्टन एम0एम0 बेग ने थाना मड़ावरा एवं मदनपुर में आयोजित थाना समाधान दिवस में प्रतिभाग किया। यहां पर उन्होंने शिकायतकर्ताओं की शिकायतों को गंभीरतापूर्वक सुना व सम्बंधित थानाध्यक्ष को समस्या के निस्तारण के निर्देश भी दिये। उन्होंने कहा कि प्रत्येक शिकायतकर्ता की शिकायत का गंभीरतापूर्वक एवं गुणवत्तापूर्वक निस्तारण करें।

साथ ही कोई भी शिकायत समयसीमा के पश्चात लंबित न रहने के भी निर्देश जारी किये। शिकायतकर्ता माखन पुत्र अनंदी निवासी लिधौरा एवं सोबरन पुत्र करन निवासी गढ़ौलीखुर्द ने जिलाधिकारी से शिकायत की कि उनके नाम पट्टा तो किया गया था, परन्तु उक्त पट्टे पर अब तक लेखपाल द्वारा न तो नाप की गई और न ही कब्जा दिलाया गया, जिसका संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी श्री योगेश कुमार शुक्ल ने लेखपाल कमल कुमार एवं लेखपाल रामसहाय को तत्काल निलंबित करने के निर्देश दिये।

थाना मड़ावरा में आयोजित थाना समाधान दिवस में कुल 14 प्रकरण प्राप्त हुए, जिन्हें तत्काल निस्तारित कर दिया गया, साथ ही थाना मदनपुर में कुल 06 प्रकरण प्राप्त हुए, जिन्हें समयसीमा के भीतर निस्तारित कराने के निर्देश तहसीलदार को दिये गए। जिलाधिकारी ने समस्त थानाध्यक्षों को निर्देश देते हुए कहा कि थाना समाधान दिवस में आने वाले शिकायतकर्ताओं की शिकायतों का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर समयसीमा के भीतर किया जाये। शिकायतों के लंबित रहने पर स बंधित के विरुद्ध कार्यवाही अमल में लायी जाएगी। जिलाधिकारी द्वारा की लेखपालों से की गयी कार्यवाही से हडक़म्प मचा हुआ है।
 फोटो पी2



कृषि विभाग ने चहेतों को किये ट्रेक्टर आवंटन


भारी छूट का लाभ उठा ले गये सम्पन्न व सत्ता से जुड़े लोग


किसान संगठनों डीएम के समझ उठाया मुद्दा


ललितपुर।

कृषि विभाग में इन दिनों ट्रेक्टर आवंटन का मुद्दा गरमाया हुआ है। सूची में भाजपा के एक वरिष्ठ नेता का नाम होने से जनपद की राजनीति गरमा गयी है। तो वहीं विभाग मानक पूर्ण होने पर आवंटन की बात कर रहे हैं। किसान संगठनों ने जिलाधिकारी के समझ भी शिकायत रखी है। जिलाधिकारी ने किसान संगठनों को शिकायत पर जाँच कराने का आश्वासन दिया है।


जनपद में कृषि विभाग इन दिनों ट्रेक्टर व मशीनरी के वितरण को लेकर चर्चा बनी हुई है। शासन के निर्देश पर किसानों के समूह हो कृषि विभाग द्वारा ट्रेक्टर व मशीनरी वितरण योजना लागू की गयी। इसमें किसानों को भारी छूट प्रदान की जानी थी। शासन द्वारा पहले आओ पहले पाओं की नीति के तहत कार्य करना था। विभाग ने इसी तहत किसानों को चयन प्रक्रिया आरम्भ कर दी। लेकिन इस कुछ सत्ताधारी दल जुड़े लोगों के नाम भी आये, उन्हें प्राथमिकता के आधार पर सूची में स्थान दिया गया।

तो वहीं विभागीय सूत्रों की मानें तो शासन ने इस योजना में कोई क्राइट एरिया तय नहीं किया है। विभाग द्वारा बैंक से ऋण पास होना था। चूँकि बैंक से समूह के नाम पर 18 लाख रुपये का लोन पास होना था, इसलिए जिन समूह के नाम पर बैंक ने ऋण पास हुये, उनके नाम पर ही ट्रेक्टर व मशीनरी के लिए सूची में नाम जोड़ा गया।

किन्तु किसान संगठन को इस प्रक्रिया में घालमेल इसलिए लग रहा है कि सूची में कुछ ऐसे नाम है, जो पहले से ही सम्पन्न हैं, ऐसे में उन्हें विभाग द्वारा लाभ देकर वंचित किसानों के साथ छल किया गया है। किसान संगठनों के अलावा जनपद की राजनीति भी गरमा गयी है। हालाँकि जिलाधिकारी के द्वारा गठित जाँच पूर्ण के होने के उपरान्त ही सही तस्वीर साफ हो पायेगी।

Comments