जनपद मेंं लोगोंं ने भाई चारे की मिशाल की पेश, सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत

 जनपद मेंं लोगोंं ने भाई चारे की मिशाल की पेश, सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत


जनपद मेंं लोगोंं ने भाई चारे की मिशाल की पेश, सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत


डीएम-एसपी जनपद की हर गतिविधि पर रखें थे नजर


चप्पे-चप्पे  पर रही मुस्तैद  पुलिस, जनपद मेंं रहा शांतिपूर्ण माहौल


ललितपुर। Vikash tripathi/ Arif khan

कई दशको से चल रहे राम जन्मभूमि/बाबरी मस्जिद के विवाद पर शनिवार को उच्चतम न्यायालय ने  फैसला सुनाया है। अयोध्या मुद्दे को लेकर आने वाले फैसलेे के पूर्व से ही जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन जनपद में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए पूरी तैयारी कर चुका था, शनिवार को उच्चतम न्यायालय फैसला सुनाये जाने की जानकारी होते ही 7 जोन व 30 सेक्टरों में वांटे गए जनपद के चप्पें चप्पे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर दिये गए थे।

शनिवार की सुबह जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक कैप्टन मिर्जा मंजर बेग ने नगर व जनपद के सभी स्थानों पर तैनात पुलिस वल से पल पल की जानकारी ली, वही जिलाधिकारी योगेश कुमार शुक्ला व पुलिस अधीक्षक कैप्टन मिर्जा मंजर बैग ने नगर क्षेत्र में अपनी बात सीधे जनता तक पहुंचाने के लिए लगाये गए स्पीकर पर जनता को शांति व्यवस्था बनाये रखनेेे की अपील करते रहे। फैसला आने के बाद जनपद में रहने वाले सभी वर्ग के लोग खुश नजर आये,

वही जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के द्वारा शांति व्यवस्था को लेकर किये गए पुख्ता इतंजाम के बीच जनपद में सामान्य स्थिति बनी रही। जनपद मेंं शांतिपूर्ण माहौल रहा। साथ ही लोगों ने भाई चारे की मिशाल पेश करते हुये सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया गया। सुबह से ही लोग अपने-अपने घरो मेंं टीवी के सामने बैठकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर उत्साहित रहे। जैसे-जैसे ही सुप्रीम कोर्ट के फैसले की जानकारी न्यूज चैनलोंं से मिलती रही, बैसे-बैसे ही लोग खुश होते नजर आये। जिसके बाद लोगोंं ने फैसले का स्वागत किया। 

डीएम-एसपी ने शांति व्यवस्था के लिये संभाली कमान 

आयोध्या मामले को लेकर आने वाले फैसले पर जनपद में शांतिपूर्ण स्थिति बनाये रखने के लिये जिला मजिस्ट्रेट ने 24 दिनोंं के लिये जनपद मेंं धारा 144 लागू कर दी गयी थी। वहीं जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक द्वारा  निरंतर धर्मगुरूओं व सामाजिक लोगोंं के साथ बैठक कर जनपद मेंं शांति व्यवस्था कायम रखने की अपील की जा रही थी।

आलाधिकारियों द्वारा बैठक करने के आदेश पर प्रशासन व पुलिस विभाग के अधिकारी  अपने-अपने थाना क्षेत्रों व ग्रामीण क्षेत्रों में बैठक कर हर पल की गतिविधियोंं पर नजर बनाये हुये थे। पुलिस अधीक्षक द्वारा शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिये तैयार किये गये खाखे मेेंं जनपद मेंं सभी मस्जिद व मंदिरोंं को शामिल किया गया था। वहीं  सवेदनशील क्षेत्रों नजर बनाये रखने के पूरे पुख्ता इंतजाम किये गये थे। 

चाक-चौबंद रही पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था 


जनपद को 7 जोन व 30 सेक्टरो में बांटे जाने के बाद पुलिस अधीक्षक ने जोनल अधिकारी के साथ चारो क्षेत्राधिकारियों को 4 जोनों मेंं लगाया था। वहीं 3 जोनल अधिकारियेा के साथ इंस्पेक्टर लगायेंं गये थे। संवेदन शील व अति संवेदनशील क्षेत्रो सहित सभी स्थानों पर डेढ़ सेक्शन पीएसी, 3 क्यूआरटी व महिला पुलिस कर्मियों सहित अन्य पुलिस फोर्स वॉडी प्रोटेक्टर, लाठी, हैल्मेट व उपकरणों से लैस रहकर तैनात रहे। पुलिस द्वारा संदेवनशील व अतिसंवेदनशील स्थलों मेंं लगभग  10-12 क्षेत्र चिंहित किये गये थे।

भ्रमण कर रहे अधिकारियोंं के साथ वज्र वाहन भी चल रहा था। वहीं जनपद में पुलिस विभाग द्वारा बनाये गये पुलिस मित्रो को भी पल-पल की गतिविधि पर नजर रखने की जिम्मेदारियां भी सौंपी गयी थी। जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, एडीएम,  अपर पुलिस अधीक्षक अलग-अलग क्षेत्रोंं में शनिवार को फैसला आने की जानकारी होने के बाद से निरंतर क्षेत्रों में भ्रमण शील  बने हुये थे। चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था मेंं फैसला आने के बाद  जनपद मेंं सभी जगह शांति व्यवस्था का माहौल रहा। 

दिन भर बाजार मेंं पसरा रहा सन्नाटा 

शनिवार को आयोध्या मुद्दे को लेकर फैसला आने की जानकारी होते ही लोग अपने-अपने घरो में टीवीके आगें बैठ कर सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिये जा रहे फैसले को सुनकर आपस खुशियां बांटते रहे। जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के अथक प्रयासों के चलते सोशल मीडिया पर भी टिप्पणी करने से लोग दूर रहे। वहीं व्यापारियों ने कई तरह की आशंकाओं के चलते अपने अपने प्रतिष्ठान बन्द रखे।

 

Comments