यूपी की सियासत का बदला समीकरण हुआ सपा बसपा गठबंधन का ऐलान

यूपी की सियासत का बदला समीकरण हुआ सपा बसपा गठबंधन का ऐलान

सपा बसपा गठबंधन लेकर आया बीजेपी के लिए भूचाल

 

लखनऊ /सत्ताधारियों के लिए सपा बसपा गठबंधन बन जाएगी गले की हड्डी.यूपी की सियासत में एक नए दौर की शुरुआत आज से माना जाने लगा है.जब दो बड़ी पार्टियां यूपी की एक मंच पर, मंच साझा करके यह ऐलान करती हैं कि स्थाई तौर पर आने वाले लोकसभा चुनाव में सर्वसम्मति से चुनाव लड़ने के लिए सीटों का तालमेल बन चुकी है.

वैसे भी यूपी की सियासत आज से मोदी और योगी की सरकार के लिए गले की फांस बनती जाएगी. माना यह जा रहा है कि,बुआ भतीजे की आपसी सारी रणजीशो को भूलते हुए एक मंच पर आना, हिंदुस्तान की राजनीति मेंं समुद्र की ज्वार भाटा, सत्ताधारी पार्टियों के लिए बन गई है. राजधानी की सड़कों पर सपा बसपा के बैनर पोस्टरों पर नजर डाली जाए तो जिस तरह की नारे और स्लोगनओं की छपाई हुई है और यह कथन कि 'सपा बसपा आई है नई उम्मीदें लाई है'

आखिर कितना उत्तर प्रदेश के जनता की उम्मीदों पर खरा उतर रही है,अब वह देखने लायक लोकसभा चुनाव ही बता पाएगा की  दोनों पार्टियों का गठबंधन  कितना उत्तर प्रदेश की जनता को स्वीकार है. आज दिनांक 12 जनवरी 2019 लखनऊ राजधानी का पांच सितारा होटल ताज अपने दोनों ही सियासत के दिग्गजों पूर्व मुख्यमंत्रियों का हजारों मीडिया बंधुओं के बीच एक मंच पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करना कितना लकी साबित होता है. यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा लेकिन दोनों ही पार्टियों ने जमकर सत्ताधारियों को खरी खोटी सुनाते हुए  मंच पर गठबंधन का ऐलान किया 

 

बसपा सुप्रीमो का भतीजे अखिलेश के लिए मंच पर उमड़ा प्यार 

 

बसपा सुप्रीमो ने तो यहां तक कह दिया कि बीजेपी मोदी सरकार ने लोकसभा चुनाव से पहले सज्जन चरित्र के अखिलेश पर लांछन लगाने के लिए सीबीआई को गलत तरीके से इस्तेमाल कर रही है. ताकि उत्तर प्रदेश की जनता का मोह अखिलेश की तरफ से भंग हो जाए और बीजेपी के लिए चुनाव जीतना आसान हो जाए.

लेकिन उत्तर प्रदेश की जनता यह भली-भांति जानती है कि अखिलेश युवाओं के लिए प्रेरणा स्रोत और इमानदार छवि के व्यक्ति है. मीडिया बंधुओं के सवालों का जवाब देते हुए मायावती ने कहा कि यह गठबंधन उत्तर प्रदेश की जनता की भलाई के लिए और बीजेपी की जुमलों से मुक्ति दिलाने के लिए और यही नहीं बल्कि कट्टरपंथी विचारधाराओं से भी मुक्ति दिलाएगी.

 

सत्ताधारियों पर बरसे अखिलेश

सपा अध्यक्ष ने कहा 'बीजेपी के पास सीबीआई है तो हमारे पास सपा बसपा गठबंधन' जोकि जन विरोधी नीतियों के खिलाफ एकजुट होकर जनता के उत्थान के लिए काम करती रहेगी. अखिलेश ने बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए बताया कि भययुक्त शासन को चलाने का कार्य करती है बीजेपी सरकार. महिलाओं बेटियों के साथ होने वाले अपराध का बोलबाला, छोटे मझोले व्यापारियों गरीबों दलितों पिछड़ों किसी भी तबके का नहीं हुआ है विकास,सिर्फ चुनावी जुमला बनकर रह गया है बीजेपी सरकार. गठबंधन के बारे में बताया कि यह एक ऐतिहासिक घड़ी है जो सारे गिले-शिकवे को मिटा कर जनता की भलाई के लिए हुई है. जिसको आने वाले लोकसभा चुनाव में जनता स्वीकारते हुए सत्ताधारी पार्टियों को धूल चटा देगी.

 

ज्योतिषियों की माने तो

 

इसके साथ ही ज्योतिषाचार्य पंडित प्रशांत तिवारी की आंकड़ों की मानें तो 12 जनवरी दोपहर का 12:00 बजे जो गठबंधन हुआ है.सत्ताधारी पार्टियों के लिए आने वाला लोकसभा चुनाव गर्दन की फांस साबित हो जाएगी. दोनों ही नेताओं के लिए 3 का अंक बहुत ही महत्वपूर्ण रहा है जिसको देखते हुए इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को भी रखा गया होगा.इस उथल पुथल के बीच दोनों ही नेताओं ने बीजेपी की खिंचाई करते हुए यूपी की सियासत से निकाल फेंकने के लिए वचनबद्ध भी दिखे. 

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments