अधिकारियों की उदासीनता से जर्जर कच्चे मकानों में रहने को मजबूर गरीब ग्रामीण।

अधिकारियों की उदासीनता से जर्जर कच्चे मकानों में रहने को मजबूर गरीब ग्रामीण।

लखनऊ बीकेटी विकासखंड के ग्राम पंचायत भगवतीपुर में दर्जनों घर कच्चे बने हैं बारिश में कभी भी उसमें रहने वाले लोग हादसे का शिकार हो सकते हैं सरकार की कोशिश है सभी की अपनी एक छत हो लेकिन खंड विकास कर्मी जो इसके प्रति जरा भी रुचि नहीं दिखा रहे हैं

प्रधान और ग्राम पंचायत अधिकारी की उदासीनता के चलते यह गरीब  ग्रामीण लोग आज ही छत से वंचित हैं कारण इनके पास अधिकारियों को भेंट चढ़ाने के लिए कुछ नहीं है जिसका खामियाजा उन्हें कच्चे घरों में रहना पड़ रहा है यदि किसी प्रकार की दुर्घटना होती है तो इसमें सरकार को काफी राजस्व की हानि होती है और उन्हें मुआवजे के तौर पर काफी धनराशि देनी पड़ती है तथा कभी-कभी पूरे के पूरे परिवार इस दुर्घटना में नष्ट हो जाते हैं

जिसकी परवाह इन भ्रष्ट कर्मचारियों को नहीं है जिससे सरकार के योजनाओं पर पानी तो फिरता ही है तथा उसकी किरकिरी भी होती है लेकिन या कर्मचारी बिना कुछ चढ़ावा के कुछ भी नहीं करते आय से अधिक संपत्ति के मालिक यह भ्रष्ट कर्मचारी दिन दूनी रात चौगुनी आय के मालिक बने हुए हैं यदि इनकी जांच करा ली जाए

तो दूध का दूध पानी का पानी निकल आएगा यह जांच रिपोर्ट  ऑफिसों में ही बैठकर लगा देते  हैं ।गांव जाने की फुर्सत इनके पास नहीं होती है सरकार की मनसा पर पानी फेर रहे हैं क्योंकि इन्हें सरकार की चिंता नहीं है इन्हें सिर्फ अपनी भेंट की चिंता है वरना इन कच्चे घरों में रहने वाले लोगों को अभी तक पर्याप्त बजट होने के बावजूद भी आवासक्यों नहीं मिले विचारणीय बिंदु है अधिकारियों से बात करने पर व टालमटोल की भाषा ही बताते हैं

भ्रष्टाचार इस कदर व्याप्त है जिसकी कोई सीमा नहीं है यह अधिकारी और कर्मचारी उन गरीबों से सीधे मुंह बात भी नहीं करते सरकार की लाख कोशिश के बावजूद यहउनके योजनाओं पर पानी फेरते हुए नजर आ रहे है वही मीडिया की बात को झूठ लाते हुए अधिकारी बोलते हैं की आप जांच कर बताओ कितने घर कच्चे बने हैं

अब यह काम मीडिया का हो गया है कि वह जांच कर इन अधिकारियों को बताएं और यह अधिकारी ऑफिस में बैठकर गप्पे लगाएं झूठे आंकड़े प्रस्तुत करना इन अधिकारियों के बाएं हाथ का खेल बन गया है बात बात पर लोगों को झूठा साबित करना इनका रोज का काम है बातें बनाने में माहिर यह अधिकारी किसीबिदुषकसे कम नही है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments