धड़ल्ले से दौड़ रही गैर जनपद की डीजल चलित विक्रम टैक्सियां

 धड़ल्ले से दौड़ रही गैर जनपद की डीजल चलित विक्रम टैक्सियां

लखनऊ मोहनलालगंज

मोहनलालगंज में धड़ल्ले से दौड़ रही डीजल खटारा टैक्सी जहां एक तरफ जगह-जगह सौंदर्यीकरण करते हुए साफ स्वच्छ हवा की प्राप्ति के लिए धुआ फैलाने वाले वाहनों पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व एसएसपी कलानिधि नैथानी ने कड़े आदेश दे दिए हैं

लेकिन इसके बाद भी धू धू करते हुए काले धुएं के गुबारे छोड़ने वाले वाहन डीजल चलित टैक्सियों का संचालन मोहनलालगंज में बराबर जारी है वाहनों के रखरखाव की रिपोर्ट चाटने वाला आरटीओ ही वाहनों के फिटनेस कनेक्शन के नाम पर घोटाला करने में आमदा है

वायु प्रदूषण को बढ़ावा देने वाले वाहनों में सबसे ज्यादा डीजल चलित टैक्सियों पर कार्रवाई के एवज में खुद आरटीओ और ट्रैफिक रूपों का खेल करते हुए उन पर त्वरित कार्रवाई के नाम पर लीपापोती करने में लगा है और यही कारण है कि पिछले कई दिनों से धुंध सी छाई हुई रहती है

जब तक ऐसे वाहनों पर लगाम नहीं लगाई जाएगी तो दिन प्रतिदिन प्रदूषित वातावरण ज़हरीला बनाता जाएगा सबसे बड़ी कमी स्थानीय जिम्मेदार की होती है लेकिन अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ लेने में माहिर रहते हैं जिसकी वजह से अन्य जनपदों की टैक्सियां मोहन लालगंज में बेफिक्री से चलवाई जाती है

मोहन लालगंज कस्बे इलाकों में आदेशों को ठेंगा दिखाकर लगातार डीजल चलित वाहनों का संचालन धड़ल्ले से किया जा रहा है ऊपर से इन वाहनों का गैर जनपदों कनेक्शन भी देखा जाने लगा परमिट के स्थान पर यहां उन्नाव बाराबंकी सीतापुर रायबरेली की डीजल चलित टैक्सियों को मोहन लालगंज से निगोहां व मोहनलालगंज से गोसाईगंज तक दौड़ाई जाती हैं

जबकि स्थानीय अफसर सब कुछ देखते हुए भी हाथ पर हाथ धरे तमाशबीन बने ड्यूटी निभाने में व्यस्त हैं मोहन लालगंज व अन्य कई चौराहों पर हवा में ज़हर घोलने का काम दिन-ब-दिन जारी है प्रशासन की कोताही भरी कार्यशैली का मामला है यही कारण है कि आज तक डीजल चलित के संचालन की स्थिति जस की तस बनी हुई है

धुआं के काले कपड़े में वातावरण अब लोगों के लिए जहर बन चुका है आए दिन छाई हुई प्रदूषण की यह तो धुंध है जिसकी वजह से लोगों को सांस लेने में बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है और कई तरह की घातक बीमारियां होने की संभावना बनी हुई है

ऐसे में उच्च अधिकारियों के आदेशों को ताख पर रखकर खुलेआम धड़ल्ले से अन्य जनपदों की टैक्सियों को खुलेआम चलाया और चलवाया जा रहा है बिना किसी डर के बिना किसी हिचक के ऐसे में बड़ा सवाल उठता है अधिकारियों के ऊपर अधिकारियों के ऊपर जो इस मामले की जिम्मेदार हैं इस मामले को देखकर इस पर उचित कार्रवाई करनी चाहिए और ऐसी टैक्सियों पूर्णता रोक लगानी चाहिए

Comments